Daily Archives: March 15, 2017

मधेशी मोर्चे ने प्रचंड सरकार से समर्थन वापस लिया

काठमांडू। मधेशी पार्टियों के गठबंधन ने प्रधानमंत्री प्रचंड नीत नेपाल सरकार से अपना समर्थन वापस ले लिया है। मधेशी मोर्चा ने सात दिनों की चेतावनी दी थी। यह समय सीमा मंगलवार को समाप्त हो गई। मोर्चा की मांगों में संविधान संशोधन विधेयक पारित कराना भी शामिल था। अभी भी 601 सदस्यीय संसद में सरकार को 320 सदस्यों का समर्थन हासिल है। मोर्चा ने मई में स्थानीय निकायों का चुनाव कराने की घोषणा वापस लेने को कहा था। राष्ट्रीय मधेश सोशलिस्ट पार्टी के महासचिव केशव झा ने कहा, ‘समर्थन की समय सीमा मंगलवार को खत्म हो गई। चेतावनी के बाद भी सरकार ने हमारे नेताओं के साथ बातचीत नहीं की।’ मोर्चा ने सरकार से समर्थन लेने की चेतावनी दी थी। उनकी चिंताओं का समाधान किए बगैर ही सरकार स्थानीय निकायों के चुनाव की तैयारियों में जुट गई। नेपाल में भारतीय मूल के मधेशी समुदाय की आबादी करीब 52 फीसदी है। संविधान के कई प्रावधानों के खिलाफ यह समुदाय संशोधन की मांग कर रहा है। संविधान लागू होने के बाद समुदाय ने छह माह तक विरोध प्रदर्शन किया था।

एनएसजी सदस्यता के लिए भारत की दावेदारी को ट्रंप का साथ

वाशिंगटन। परमाणु आपूर्तिकर्ता समूह यानी एनएसजी की सदस्यता के लिए भारत पिछले कई सालों के प्रयासरत है। इस मामले में भारत को अमेरिका का भी साथ मिलता रहा है, डोनाल्ड ट्रंप के राष्ट्रपति बनने के बाद पहली बार इस तरफ कुछ हलचल दिखी है। भारत के लिए अच्छी बात यह है कि ट्रंप प्रशासन में भी भारत की एनएसजी सदस्यता के मामले को लेकर कोई बदलाव नहीं दिखा है। अमेरिका ने बुधवार को कहा कि वह भारत के इस समूह में सदस्यता का समर्थन करता है। विदेश विभाग के प्रवक्ता ने बुधवार को समाचार एजेंसी पीटीआई से बात करते हुए कहा, ‘अमेरिका एनएसजी में भारत की सदस्यता का पूरी तरह से समर्थन करता है, और हमें विश्वास है कि भारत इसके लिए तैयार है।’ प्रवक्ता 48 सदस्यीय परमाणु आपूर्तिकर्ता समूह में भारत की सदस्यता के सवाल पर जवाब दे रहे थे। भारत और अमेरिका इस मुद्दे पर बुश प्रशासन के वक्त से ही काम कर रहे हैं। ओबामा प्रशासन ने भारत को परमाणु आपूर्तिकर्ता देशों के समूह में शामिल कराने की भरसक कोशिश की, लेकिन चीन व कुछ अन्य देशों के अडंगे के चलते यह मुहिम परवान नहीं चढ़ पायी। अब यह जिम्मेदारी ट्रंप प्रशासन के हिस्से आयी है। अमेरिकी विदेश विभाग के अधिकारी ने कहा, हमने भारत की एनएसजी सदस्यता के लिए अपने भारतीय साथियों के साथ इस मुद्दे पर लगातार काम किया है और कर भी रहे हैं। इस तरह से कहा जा सकता है कि ट्रंप प्रशासन में भी भारत की एनएसजी सदस्यता को लेकर कोई बदलाव नहीं आया है। एनएसजी सदस्यता को लेकर भारत की संभावनाओं की कुंजी अब चीन के हाथ में है। हालांकि अभी यह तय नहीं है कि इस हफ्ते चीन यात्रा पर जा रहे अमेरिका के नए विदेश मंत्री रेक्स टिलरसन चीनी नेतृत्व के सामने यह मुद्दा उठाएंगे या राष्ट्रपति जॉर्ज बुश की तरह डोनाल्ड ट्रंप खुद ही इस मामले की कमान अपने हाथ में रखेंगे।

मुख्यमंत्री ने संत रतन मुनि महाराज से लिया आशीर्वाद

रायपुर। मुख्यमंत्री डॉ. रमन सिंह ने आज राजनांदगांव मेन रोड बसंतपुर स्थित जे डाकलिया के निवास पहुंचकर जैन मुनि संत रतन मुनि महाराज से भेंट कर आशीर्वाद ग्रहण किया। उल्लेखनीय है कि संत रतन मुनि महाराज का होली चातुर मास के अवसर पर आज 15 मार्च को राजनांदगांव आगमन हुआ हैं। इस अवसर पर महापौर मधुसूदन यादव, बीस सूत्रीय कार्यक्रम क्रियान्वयन समिति के उपाध्यक्ष  खूबचंद पारख, नगर निगम के सभापति शिव वर्मा, राजगामी संपदा न्यास के पूर्व अध्यक्ष संतोष अग्रवाल, अनेक जनप्रतिनिधियों और बड़ी संख्या में जैन समाज के लोग उपस्थित थे।

धर्मसभा में मिलेगा वेद-विज्ञान का ज्ञानः डॉ. रमन सिंह

रायपुर। मुख्यमंत्री डॉ. रमन सिंह आज शाम राजनांदगांव जिला मुख्यालय में आयोजित विशाल आध्यात्मिक धर्मसभा में शामिल हुए। उन्होंने स्थानीय उदयाचल परिसर में आयोजित इस धर्मसभा में गोर्वधन मठ पुरी के पीठाधीश्वर महाराज जगदगुरू शंकराचार्य स्वामी निश्चलानंद सरस्वती को नमन कर उनसे छत्तीसगढ़ के विकास और सुख-समृद्धि के लिए आशीर्वाद ग्रहण किया। उन्होनें इस धर्मसभा में पूजा-अर्चना की। इस अवसर पर आयोजन समिति धर्म संघ पीठ परिषद के संयोजक श्री नीलू शर्मा ने जगदगुरू शंकराचार्य स्वामी निश्चलानंद सरस्वती जी और मुख्यमंत्री डॉ. रमन सिंह का स्वागत किया। यह आध्यात्मिक धर्मसभा 17 मार्च तक आयोजित की गई है।
धर्मसभा के शुभारंभ अवसर पर डॉ. रमन सिंह ने कहा कि छसगढ़ में बलरामपुर से लेकर बस्तर तक राम नाम का प्रवाह है। प्राचीन कौशल्या नगरी से लेकर दंडकारण्य तक भगवान श्री राम ने छत्तीसगढ़ की धरती को अपने पावन चरणों से समृद्धि प्रदान की है। डॉ. रमन सिंह ने पुरी के पीठाधीश्वर महाराज जगदगुरू शंकराचार्य स्वामी निश्चलानंद सरस्वती के राजनांदगांव प्रवास को सौभाग्यशाली क्षण बताते हुए पूरे छत्तीसगढ़ की ओर से स्वामी जी का स्वागत किया। डॉ. रमन सिंह ने कहा कि तीन दिन की इस धर्मसभा में स्वामी जी के द्वारा सहजता और सरलता के साथ वेद, उपनिषदों और विज्ञान का आध्यात्मिक ज्ञान श्रद्धालुओं को मिल सकेगा। उन्होनें कहा कि कठिन विषयों से लेकर वैदिक गणित तक की जानकारी सरल भाषा में स्वामी जी के द्वारा लोगों को मिलेगी, जिसे अपने जीवन में उतारकर आम आदमी भी आध्यात्मिक सुख और शांति का अनुभव कर सकता है।

कुपवाड़ा में भीषण मुठभेड़, तीन पाकिस्तानी आतंकी ढेर

श्रीनगर। उत्तरी कश्मीर में एलओसी के साथ सटे हयहामा, जुगतियाल (कुपवाड़ा) में बुधवार को हुई एक भीषण मुठभेड़ में लश्कर-ए-तैयबा के तीन आतंकी मारे गए और एक पुलिसकर्मी भी घायल हो गया। इस दौरान क्रॉस फायरिंग की चपेट में आकर एक छह वर्षीय बच्ची की मौत हो गई और उसका भाई घायल हो गया। लगभग नौ घंटे चली इस मुठभेड़ में एक मकान भी तबाह हो गया। मारे गए आतंकी पाकिस्तानी मूल के बताए जा रहे हैं। उनके पास से भारी मात्रा में हथियार और गोलाबारूद भी बरामद हुआ है।एसएसपी कुपवाड़ा शमशेर हुसैन ने बताया कि सुबह सूरज निकलने से पहले ही सेना की 41 आरआर व सीआरपीएफ की 198वीं वाहिनी के जवानों ने राज्य पुलिस के विशेष अभियान दल (एसओजी) के साथ कलारूस क्षेत्र में एक तलाशी अभियान चलाया। यह इलाका एलओसी के साथ सटा हुआ है।सुरक्षाबलों को स्थानीय लोगों ने दो से तीन आतंकियों के हयहामा गांव के आसपास छिपे होने की सूचना दी थी। तलाशी लेते हुए जवान जब आगे बढ़ रहे थे तो एक जगह छिपे आतंकियों ने पहले ग्रेनेड फेंका और फिर स्वचालित हथियारों से फायरिंग की। सुरक्षाबलों ने भी जवाबी फायर किया और वहां मुठभेड़ शुरू हो गई। पहला आतंकी सुबह करीब सवा आठ बजे मारा गया। इस दौरान एक पुलिसकर्मी दानिश अहमद मीर भी जख्मी हो गया। दूसरा आतंकी साढ़े दस और तीसरा दोपहर एक बजे मारा गया।

 

ICC चेयरमैन पद से शशांक मनोहर का इस्तीफा

बता दें कि शशांक मनोहर को पिछले साल मई में इस पद के लिए निर्विरोध चुना गया था। वे क्रिकेट के खेल की शीर्ष संस्‍था के पहले स्‍वतंत्र चेयरमैन निर्वाचित हुए थे। उनका कार्यकाल दो साल का था। शशांक मनोहर को 2016 में दो वर्ष के लिए आईसीसी का चेयरमैन बनाया गया था। शशांक मनोहर दो बार से बीसीसीआई के चीफ रह चुके हैं। वह पहली बार 2008 में अध्यक्ष बने थे और 2011 तक अध्यक्ष रहे थे। उसके बाद आईपीएल में फिक्सिंग की चर्चाओं के दौरान उन्हें 2015 में वापस अध्यक्ष बनाया गया था।

कहीं नहीं जा रहा यहीं रहूंगा

भोपाल। मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह को भोपाल से दिल्ली बुलाकर केंद्र सरकार में जिम्मेदारी दिए जाने की रिपोर्ट्स का बुधवार को स्वयं उन्होंने खंडन किया। उन्होंने कहा कि वह भोपाल छोड़कर कहींं नहीं जा रहे हैं और उनके दिल्ली जाने की रिपोर्ट्स मनगढ़ंत हैं। बीजेपी नेतृत्व द्वारा रक्षा मंत्री मनोहर पर्रिकर को गोवा का मुख्यमंत्री बनाए जाने के फैसले के बाद यह अफवाह उड़ने लगी थी की शिवराज को पीएम मोदी अब दिल्ली बुलाएंगे। उन्हें रक्षा मंत्री की जिम्मेदारी सौंपी जा सकती है। पहले इस तरह की रिपोर्ट्स को किसी ने गंभीरता से नहीं लिया। लेकिन इसी बीच केंद्रीय मंत्री और मध्य प्रदेश के मंडला से सांसद फग्गन सिंह कुलस्ते ने इस खबर पर प्रतिक्रिया दे दी। उन्होंने कहा अगर नेतृत्व कोई बदलाव करता है तो इससे प्रदेश में कोई फर्क नहीं पड़ेगा। अब शिवराज सिंह ने खुद सामने आकर ऐसी रिपोर्टों को अफवाह करार दिया है।

यूपी: कौन होगा नेता विपक्ष, शिवपाल या आजम?

लखनऊ। उत्तर प्रदेश विधानसभा चुनाव में करारी हार के बाद समाजवादी पार्टी में एक बार फिर अंदरूनी कलह शुरू होने की अटकलों के बीच पार्टी के लिए माथापच्ची की एक नई वजह पैदा हो गयी है। पार्टी विधानसभा में विपक्ष के नेता के लिये अपने किसी नेता का नाम तय करने को लेकर पसोपेश में है। एसपी चुनाव में 47 सीटें जीतकर सबसे बड़ी विपक्षी पार्टी बनी है और सदन में नेता विपक्ष उसी का होगा।
एसपी अध्यक्ष अखिलेश यादव को तय करना है कि 403 सदस्यीय विधानसभा में 325 के संख्याबल वाले सत्तापक्ष के सामने विपक्ष का नेता किसे बनाया जाए, जो प्रतिपक्ष की बात को प्रभावशाली तरीके से रख सके। अखिलेश विधान परिषद के सदस्य हैं और उन्होंने विधानसभा का चुनाव भी नहीं लड़ा। उन्होंने एसपी के नवनिर्वाचित विधायकों की गुरुवार को बैठक बुलायी है। माना जा रहा है कि इस बैठक में विधायकों की राय जानने के बाद वह नेता प्रतिपक्ष के संबंध में कोई फैसला लेंगे।हालांकि इस पद के लिए अखिलेश के पास विकल्प बहुत सीमित हैं। इस पद के लिये सबसे प्रमुख और अनुभवी राजनेताओं में उनके राजनीतिक प्रतिद्वंद्वी शिवपाल सिंह यादव और आजम खान शामिल हैं। हालांकि एक नाम अखिलेश के विश्वासपात्र बलिया के बांसडीह से विधायक रामगोविन्द चौधरी का भी लिया जा रहा है।

मोदी ने राष्ट्रपति के लिए सुझाया आडवाणी का नाम !

नई दिल्ली। प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने अगले राष्ट्रपति के तौर पर भारतीय जनता पार्टी के टॉप लीडर लाल कृष्ण आडवाणी का नाम सुझाया है। उनके नाम का यह प्रस्ताव मोदी की गुजरात यात्रा के दौरान आया था। यह खबर जी न्यूज ने सूत्रों के हवाले से चलाई है। पिछले सप्ताह पीएम मोदी सोमानाथ मंदिर गए थे। वहीं पर आडवाणी के नाम पर चर्चा हुई। उसी बैठक में पीएम मोदी ने आडवाणी के नाम का समर्थन किया था। सूत्रों का कहना है कि मोदी ने कहा कि ये आडवाणी को मेरी ओर से गुरु दक्षिणा है। अभी आडवाणी पार्टी के मार्गदर्शक मंडल में हैं। वो राजनीति में सक्रिय हैं लेकिन उनके पास कोई महत्वपूर्ण जिम्मेवारी नहीं है। मोदी और आडवाणी के बीच लोकसभा चुनाव से ठीक पहले मतभेद उत्पन्न हो गए थे। तब आडवाणी का मानना था कि पार्टी को जल्दीबाजी नहीं करनी चाहिए। बिना चेहरे के भी चुनाव लड़ने की सलाह दी थी। आडवाणी अभी 89 साल के हैं। उन्होंने आरएसएस से अपने सार्वजनिक करियर की शुरूआत की थी। 1998-2004 के दौरान आडवाणी देश के गृहमंत्री रहे। बाद में उन्हें उप प्रधानमंत्री भी बनाया गया था। आडवाणी को नरेन्द्र मोदी का राजनीतिक गुरु माना जाता है।

रेप का आरोपी पूर्व मंत्री गिरफ्तार, 20 वकीलों से घिरा रहा

लखनऊ। रेप के आरोपी गायत्री प्रजापति को लखनऊ पुलिस और एसटीएफ ने यहां बुधवार को अरेस्ट कर लिया। बाद में कोर्ट ने उसे 14 दिन की ज्यूडिशियल रिमांड पर भेज दिया है। इस दौरान वह पुलिस से ज्यादा अपने सपोर्टर्स और वकीलों से घिरा रहा। अखिलेश सरकार में मंत्री रहा गायत्री करीब 17 दिनों से फरार चल रहा था। बता दें कि फरवरी में सुप्रीम कोर्ट ने विक्टिम की पिटीशन पर गायत्री के खिलाफ एफआईआर दर्ज करने के आॅर्डर दिए थे। महिला ने आरोप लगाया था कि गायत्री और उसके साथियों ने दो साल तक उसका रेप किया। साथ ही, उसकी बेटी का सेक्शुअल हैरेसमेंट भी किया। महिला ने इसकी शिकायत भी की थी, लेकिन उस पर कोई कार्रवाई नही हुई। इसके बाद पीड़िता सुप्रीम कोर्ट पहुंची। कोर्ट ने मंत्री के खिलाफ रेप और पॉक्सो एक्ट के तहत तुरंत केस दर्ज करने का आॅर्डर दिया था। साथ ही, यूपी पुलिस से 8 हफ्ते में रिपोर्ट भी मांगी थी। पुलिस ने गायत्री प्रजापति को बुधवार को कोर्ट में पेश किया। कोर्ट ने उसे 14 दिन की ज्यूडिशियल रिमांड पर जेल भेज दिया है।