Daily Archives: March 20, 2017

मोदी जी मेरे मन में हैं, रोज करती हूं उनकी पूजा

उज्जैन। देशसेवा का इनाम उनको जनता ने दिया है यूपी में भारी जीत दिला कर। हम दोनों ही देशसेवा में जुटे हुए हैं। मोदी जी मेरे मन में बसते हैं। रोज ईश्वर की तरह उनकी पूजा करती हूं। सरेआम पीएम मोदी के बारे में यह सब कह कर जसोदा बेन ने सभी को चौंका दिया। यूपी में भाजपा की बंपर जीत पर कई लोगों ने बहुत कुछ बोला। पर, इस महिला का बोलना वाकई मायने रखता है। बात हो रही है पीएम मोदी की पत्नी जशोदा बेन की। मीडिया से बातचीत के दौरान उन्होंने यह सब कहा। वे यहां सर्किट हाउस में रुकी थीं। वे देवास और उज्जैन के संक्षिप्त दौरे पर आई थीं। उन्होंने यह भी कहा कि मोदी जी के नेतृत्व में भारत विकसित राष्ट्र बनेगा और विश्व में अव्वल स्थान ग्रहण करेगा। वे और मैं दोनों ही देशसेवा में जुटे हुए हैं। मैं शिक्षक हूं और बच्चों को राष्ट्रनिर्माण के लिए तैयार कर रही हूं। इससे पहले रविवार शाम में वे क्षत्रिय समुदाय के मदनमोहन मंदिर की पूजा में शरीक हुईं। देवास में भी एक कार्यक्रम में वे शामिल हुईं। वहां रविवार को आयोजित परिचय सम्मेलन में जशोदा बेन ने बेटियों की शिक्षा के महत्व के बारे में बताया। लोगों का आह्वान किया की बेटियों को शिक्षित बनाएंगे तो देश आगे बढ़ेगा।सोमवार को वह उज्जैन महाकाल के दरबार में पहुंची और आरती में शरीक हुर्इं।

पीएमओ की देखरेख में काम करेगी योगी सरकार

नई दिल्ली। उत्तर प्रदेश में नई सरकार के गठन के पहले से ही पीएमओ एक्टिव हो गया था। दिल्ली से लगातार लखनऊ फोन जा रहे थे और इसके बीच में तमाम अधिकारियों को समय पर दफ्तर आने और ईमानदारी से काम करने का आदेश भी जारी हो गया। अब सीएम की गद्दी योगी आदित्यनाथ के संभाल लेने के बाद दिल्ली और लखनऊ के पावर सेंटर के बीच एक नया लिंक बनाने की बात सामने आई है। योगी सरकार को सीधे पीएमओ से निर्देश मिलेगा। नृपेंद्र मिश्र जैसे वरिष्ठ अधिकारी को इस काम में लगाने का मतलब ये है कि योगी सरकार को पीएम के यूपी प्लान को आगे बढ़ाना होगा। उसका रोडमैप दिल्ली में तय होगा और योगी सरकार उसे लागू करेगी।
भरोसेमंद अफसर को पीएम ने सौंपी जिम्मेदारी
सूत्रों के अनुसार नृपेंद्र मिश्र को यूपी में नई सरकार के गठन और पांव जमाने तक राज्य की प्रशासनिक व्यवस्था पर नजर रखने के लिए लगाया गया है। पीएम मोदी ने ये काम अपने सबसे खास अधिकारी पीएमओ में प्रिंसिपल सेक्रेटरी नृपेंद्र मिश्र को सौंपा है। नृपेंद्र मिश्र पिछले दो दिनों से लखनऊ में हैं। वे योगी सरकार और पीएम के बीच कड़ी का काम करेंगे। नृपेंद्र मिश्र यूपी के मुख्यमंत्री कार्यालय और प्रधानमंत्री कार्यालय के बीच समन्वय का काम देखेंगे।

क्यों अहम हैं नृपेंद्र मिश्र
नृपेंद्र मिश्र यूपी कैडर के वरिष्ठ आईएएस अधिकारी हैं। 2014 में प्रधानमंत्री बनने के बाद मोदी ने उन्हें अपना प्रिंसिपल सेक्रेटरी बनाया। इसका मतलब है कि यूपी में अधिकारियों की तैनाती में उनका अहम रोल रहेगा। सूत्रों के अनुसार योगी और नृपेंद्र मिश्र के बीच योजनाओं को लागू करने को लेकर चर्चा हुई। इस पर भी बात हुई कि कैसे इन योजनाओं का लाभ गरीब लोगों तक सीधे पहुंचाया जा सके।

अमेरिका के साथ रणनीतिक साझेदारी के लिए राष्ट्रीय हितों से समझौता नहीं

नई दिल्ली। सरकार ने स्पष्ट किया है कि अमेरिका में हाल के दिनों में भारतीयों पर हुए हमले ‘हेट क्राइम’ हैं न कि कानून-व्यवस्था के सामान्य मामले। इतना ही नहीं, सरकार ने जोर देकर कहा है कि अमेरिका के साथ रणनीतिक साझेदारी के लिए राष्ट्रीय हितों से समझौता नहीं किया जाएगा। सोमवार को विदेश मंत्री सुषमा स्वराज ने राज्यसभा में कहा कि उन्हें भरोसा है कि ट्रंप प्रशासन इन घटनाओं को ट्रेंड का हिस्सा नहीं बनने देगा और इन पर करीबी नजर रखेगा। विदेश मंत्री ने कहा, ‘हम इन वारदातों को कानून-व्यवस्था का मसला नहीं मानते। यह इतना सामान्य नहीं है। हमारी तरफ से यही कहा जा रहा है कि ये घटनाएं 100 प्रतिशत हेट क्राइम हैं।’ उन्होंने कहा कि इन घटनाओं की जांच इसी नजरिए से की जानी चाहिेए। विदेश मंत्री अमेरिका में भारतीयों पर हमले की 3 वारदातों पर सदन में बयान दे रही थीं।
अमेरिका में बसे भारतीयों और भारतीय मूल के लोगों की सुरक्षा को सरकार की सर्वोच्च प्राथमिकता बताते हुए सुषमा स्वराज ने राज्यसभा में आश्वासन दिया कि भारतीयों पर हुए हमलों की घटनाओं को अमेरिकी प्रशासन के सामने अलग-अलग स्तरों पर उठाया गया है। उन्होंने कहा कि इस संबंध में चल रही जांच पर सरकार नजर बनाए हुए है। विदेश मंत्री ने कहा ‘मैं इस सदन और सदस्यों को आश्वस्त करना चाहूंगी कि विदेशों में बसे भारतीय मूल के लोगों की सुरक्षा और संरक्षा हमारी सरकार की सर्वोच्च प्राथमिकता है।’

जाकिर नाइक की 18 करोड़ की संपत्ति जब्त

नई दिल्ली। विवादास्पद इस्लामी उपदेशक जाकिर नाइक के खिलाफ सोमवार को बड़ा ऐक्शन लिया गया। प्रवर्तन निदेशालय ने 200 करोड़ रुपये के मनी लॉन्ड्रिंग केस में इस्लामिक रिसर्च फाउंडेशन (IRF) और अन्य की 18.37 करोड़ रुपये की संपत्ति जब्त कर ली है। उधर, एनआईए ने जाकिर नाइक को दूसरा नोटिस जारी कर आतंक रोधी कानून के तहत उनके खिलाफ दर्ज एक मामले में 30 मार्च तक पेश होने को कहा है। इससे पहले ईडी ने जाकिर नाइक और IRF से जुड़े मनी लॉन्ड्रिंग के इस मामले में पिछले महीने उनके एक साथी को गिरफ्तार भी किया था। ईडी को जाकिर नाइक की भी तलाश है जो गिरफ्तारी से बचने के लिए सऊदी अरब में हैं। ईडी ने इसी महीने जाकिर नाईक की बहन नइलाह नौशाद नूरानी से भी पूछताछ की है। ऐसा माना जाता है कि नइलाह जाकिर की 5 कागजी कंपनियों में निदेशक थीं। नइलाह नौशाद नूरानी से राष्ट्रीय जांच एजेंसी (एनआईए) भी पूछताछ कर चुकी है। ये पांचों ‘शैल’ कंपनियां नाइक के एनजीओ इस्लामिक रिसर्च फाउंडेशन के लिए मनी लॉन्ड्रिंग के कथित आरोप से जुड़ी हुई हैं। ईडी ने अपनी जांच में साबित किया था कि जाकिर नाइक और उसके एनजीओ ने करीब 200 करोड़ रुपये की मनी लॉन्ड्रिंग की है। इसमें से 50 करोड़ रुपये नइलाह के बैंक खातों में जमा किए गए हैं।