Category Archives: शिक्षा

CMS student tops in Brain-o-Brain Maths Olympiad

Lucknow : Aarush Rastogi of City Montessori School, Rajendra Nagar Campus II brought laurels to the institution by topping in Mathematics Olympiad organized by educational organization Brain O Brain.  In this contest, Aarush won the prize of Level Topper and was awarded a trophy, certificate and other attractive prize.  This information was given by the Chief Public Relations Officer of City Montessori School, Mr Hari Om Sharma, who stated that the competition was aimed at increasing the knowledge of the students in maths, improving their level of concentration and making the subject popular among students by arousing greater interest in it. Mr Sharma stated that the school is always encouraging its students to participate in various maths, science and other competitions and giving them mock tests for the same. Due to this, CMS students are performing with excellence and winning so many prizes in various competitive events. They are earning name and fame in all corners of the world.

CMS Radio starts programme ‘Full on Nikki’

Lucknow : The radio programme ‘Full on Nikki’ commenced by the Community Radio of City Montessori School today officially started by lighting the lamp ceremony at CMS Gomti Nagar Campus I. This programme is a joint venture of BBC Media Action and UNICEF that became operational when Dr Jagdish Gandhi, Founder of CMS and renowned educationist and Ms Sukhpal Kaur Marwa of UNICEF pressed the button to formally inaugurate it. The function shined with the glorious presence of CMS Radio officials, audience of community radio and other local audience. Two live radio drama was also staged on this occasion. Ahead of it, Mr Verghese Kurian, Head, CMS Films and Radio Division welcomed all the invitees. Speaking on this occasion, CMS Founder and educationist, Dr Jagdish Gandhi said that the radio programme ‘Full on Nikki’ is very useful. Dr Gandhi said that CMS Community radio aims at working as the radio for the masses and inspire people to join the main stream for which it prepares educational programmes on various subjects. Ms Sukhpal Kaur Marwa said in her address that it is a very welcome move that CMS radio is working in coherence with all strata of the society and UNICEF will always give CMS Radio a helping hand.  Mr Verghese Kurian, Head, CMS Radio and Films Division said that the programme ‘Full on Nikki’ will be aired from 19 June and it will involve large number of audience. Earlier, R K Singh of CMS community Radio gave the detailed information of CMS radio programmes through a powerpoint presentations.

10 दिवसीय श्रम कल्याण केन्द्र शिविर प्रारम्भ

लखनऊ। गीता परिवार के तत्वावधान में मंगलवार को 6 संस्कार पथ एवं व्यक्तित्व विकास शिविरों संचालन किया गया। शिवेन्द्र मिश्रा, कार्य विस्तारक, गीता परिवार उ.प्र. के निर्देशन एवं कुशल मार्गदर्शन से एक विशिष्ट 10 दिवसीय शिविर का आयोजन श्रम कल्याण विभाग, मालवीयनगर ऐशबाग मंे 13 से 22 जून तक, समय 9 बजे से अपरान्ह 2 बजे तक चलेगा। जिसमें 6 साल से 16 साल तक बच्चे प्रतिभागी बन रहे है। शिविर में नवीन उपक्रमों के माध्यम से प्रेरणदायक फिल्मों को भी दिखाया जायेगा। शिविर के मुख्य अतिथियों में राजीव मिश्रा, क्षेत्रीय मंत्री भाजपा, अनिल सिंह, कोतवाली प्रभारी, बाजार खाला एवं डा. आशु गोयल, राष्ट्रीय उपाध्यक्ष, गीता परिवार उपस्थित थे। शिविर का उद््घाटन राजीव मिश्रा, अनिल सिंह, डा. आशु गोयल ने दीप प्रज्ज्वल करके किया। मुख्य अतिथियों का स्वागत एवं अभिनन्दन बच्चों ने माल्यार्पण और डा. आशु गोयल ने बैंच लगाकर व स्मृति चिन्ह भेंट कर किया गया। डा. गोयल ने बताया किया गीता परिवार पिछले 30 वर्षों से बच्चों को संस्कारी बनाने का अथक प्रयास कर रही है। यह प्रतिवर्ष हजारों बच्चों को मनोरंजक खेलों के साथ-साथ, गीता पढ़े, पढ़ाये और जीवन लाये सूत्रवाक्य के साथ संस्कारों बीजरोपण कर रही है। वही राजीव मिश्रा ने कहा कि गीता परिवार के शिविर निरन्तर चलते रहना चाहिए। अगर कोई बच्चा 10 दिन के गर्मियों में नैनीताल चला गया तो उसे क्या आनन्द आयेगा। वहीं बच्चा 10 दिन संस्कार पथ शिविर आयेगा उस आनन्द अनुभूति का वर्णन नहीं किया जा सकता। क्योंकि वह इन 10 दिनों में अपार आनंद भागीदारी बनेगा। शिविर में बच्चे एक-दूसरे को जानेगे, माता पिता को प्रणाम करेंगे, अपने से बड़ों का आदर करना, तालियां बजाने के क्या-क्या फायदा, तिलक लगाने से क्या होता, अच्छी आदतो सीखेंगे, बुरी आदतों का छोड़ने का संकल्प लिया जायेगा। राजीव मिश्रा शिविर की कुछ व्यवस्था देखकर दंग रह गये। सभी बच्चों का लम्बा तिलक लगाकर आना, चप्पलों को पंक्तिबद्ध उतार रखना, सभी को प्रणाम करना, सभी अनुशासन का पालन करना इत्यादि। यहीं संस्कारी बच्चे शिक्षा और अपने-अपने क्षेत्रों देश का उज्ज्वल भविष्य का निर्माण करने वाले है। अपने-अपने लक्ष्यांे को निर्धारण कर उन विजय प्राप्त कर सकते है। अनिल सिंह ने बताया कि बच्चों को पुलिस से नहीं डरना चाहिए क्योंकि पुलिस भी तो हम सभी लोग के बीच से बनते है कोई दूसरी दुनिया से तो आते नहीं, पुलिस को हमेशा मित्र समझना चाहिए। कभी भी झूठा नहीं बोलना चाहिए क्योंकि एक झूठ को छिपाने के लिए हजारों झूठा बोलना पड़ता है। वहीं दूसरी ओर श्री महाकाल मंदिर, राजेन्द्र नगर में, गांधी पार्क, सुदर्शनपुरी कालोनी, ऐशबाग में, श्री दुर्गाजी मंदिर, शास्त्रीनगर मंें और ग्रामीण आंचलों में रामगरा, सीतापुर में, पूर्व माध्यमिक विद्यालय में उनई, लखनऊ में शिविर अपने चरर्मोकर्ष पर है। सभी शिविरों में बच्चों को योगासन, ध्यान, गीता श्लोक, प्रात्यक्षिक, कहानियां, खेल, रचनात्मक कार्यशाला में नृत्य, जूडो, नानचाप, बेकार वस्तुओं से काम की चीज बना, हनुमान चालीसा, संपूर्ण वंदेमातरम कराया जाता है।

बच्चों को किया गया पुरस्कृत, दो शिविरों का समापन

लखनऊ। गीता परिवार के तत्वावधान में बुधवार को 6 संस्कार पथ एवं व्यक्तित्व विकास शिविरों संचालन किया गया। गांधी पार्क, सुदर्शनपुरी कालोनी, ऐशबाग में 5 दिवसीय और रामनगरा, सीतापुर में 3 दिवसीय शिविर का समापन किया गया। पीयूष जयसवाल ने बताया कि बच्चों को योग करना क्यों आवश्यक है बच्चे के लिए खेलकूद, शिक्षा, लचीला व फुर्तीला, एकाग्रता, स्मरणशक्ति, रोग प्रतिरोधक क्षमता को बढ़ाता है। सभी को अपने शारीरिक, मानसिक और आत्मिक स्वास्थ्य के लिए योग करना चाहिए। बुधवार को गांधी पार्क मंे नरेन्द्र शर्मा, पार्षद तिलकनगर वार्ड, राजविमल धानुक, नगर उपाध्यक्ष युवा मोर्चा, अजय भारती, मंडल उपाध्यक्ष, रवि जयसवाल, सेक्टर महासचिव, हरीलाल, डा. आशु गोयल, राष्ट्रीय उपाध्यक्ष, गीता परिवार और रामनगरा, सीतापुर में सुधारक द्विवेदी, ग्राम प्रधान, रामप्रसाद, शिवप्रसाद मुख्य अतिथियों में उपस्थित थे। मुख्य अतिथियों का स्वागत एवं अभिनंदन डा. गोयल ने नरेन्द्र शर्मा, राजविमल धानुक, अजय भारती, रवि जायसवाल, हरीलाल, अरुण कुमार और शिवप्रसाद ने सुधारक द्विवेदी को स्मृति चिन्ह भेंट कर किया। समापन पर विशेष प्रतियोगिताएं भी कराई गई। प्रतिभागी विजयी बच्चों को मुख्य अतिथियों ने पुरस्कार भी दिये गये। श्रीमद्भगवत गीता व भगवती स्त्रोत में श्वेता, कृष्ण के नामों में अदिती सिंह, खेल में अंकित, प्रश्नोत्तरी व गीता संथा में निखिल, ध्यान में गोल्डी, सर्वश्रेष्ठ शिविरार्थी में अमन यादव, सुशील, विनय और संस्कार तरंग में अमन यादव, कशिश यादव, अंजली कुमारी, प्रभाकर, अंजू को पुरस्कृत किया गया। अनमिका मिश्रा के कुशल निर्देशन में पांच दिवसीय शिविर संचालन किया गया। रामप्रसाद ने कहा कि हर शिविर का एक सूत्रवाक्य होना चाहिए उनके शिविर का सूत्रवाक्य था बचपन है जिनका संभला, जीवन बना उन्हीं का…। जिन बच्चों का बचपन संभल गया, वास्तव में जीवन बना उन्हीं का। यदि बच्चों में बाल्यावस्था में ही संस्कार रूपी बीज डाल दिये जाते है तो निश्चय ही अपने लक्ष्यों को प्राप्त कर लेते है। डा. गोयल ने बच्चों को बुरी आदतों का छोड़ने और अच्छी आदतों को ग्रहण तथा बच्चों के प्रश्नों के उत्तर दिये गये। नरेन्द्र शर्मा ने कहा कि बच्चांे को संस्कार शिविरों में अधिक से अधिक भाग ले चाहिये, शिविर लाभदायक होते है। राजविमल ने कहा कि बच्चों को विविध ज्ञार्नाजन कराया जाता है। अजय भारती ने कहा कि बच्चों के लिए संस्कार की पाठशाला हंै जिसमें नवीन उपक्रम से अपनी संस्कृति के दर्शन कराते है। रवि जयसवाल ने कहा कि ये शिविर अधिक से अधिक संख्या में लगाये जाने चाहिए ये शिविर भारतीय संस्कृति के परिचायक है खेलों के साथ-साथ ज्ञानार्जन कराने तरीका अच्छा और अनूठा है। शिविर में सभी कार्यकर्ताओं एवं स्वयंसेवकों का भरपूर सहयोग प्रदान किया। वहीं दूसरी ओर श्री महाकाल मंदिर, राजेन्द्र नगर में, श्री दुर्गाजी मंदिर, शास्त्रीनगर मंें और ग्रामीण आंचलों में पूर्व माध्यमिक विद्यालय में उनई, भगौतीपुर, बीकेटी, लखनऊ में शिविर अपने चरर्मोकर्ष पर है। शिविरों में बच्चों को योग, ध्यान, गीता संथा, प्रात्यक्षिक, कहानियां, खेल, रचनात्मक कार्यशाला में नृत्य, जूडो, ताइक्वाडो, नानचाप, पिडमिड, बेकार वस्तुओं से काम की चीज बना, हनुमान चालीसा, संपूर्ण वंदेमातरम कराया जाता है।

बच्चों का कॉन्फिडेंस देख अभिभावक खुश हुए

–रावतपुरा सरकार इंटरनेशनल स्कूल का ‘उमंग-एनुअल डे’
रायपुर। मैग्नेटो द माल में श्री रावतपुरा सरकार इंटरनेशनल स्कूल धनेली रायपुर द्वारा एनुअल फंक्शन मनाया गया। इसमे रायपुर ब्रांचेज के 500 बच्चों ने अलग अलग थीम पर परफॉर्म किया। योगा, बॉलीवुड , ट्रेडिशनल , राजस्थानी , वेस्टर्न सभी पर डांस परफॉरमेंस का आयोजन हुआ । बच्चो ने अलग अलग सांग्स पर डांस की प्रस्तुति दी। 3 से 16 साल के बच्चों ने स्टेज पर कॉन्फिडेंस के साथ परफॉर्म कर दर्शकों के मंत्र मुग्ध कर दिया। कार्यक्रम की शुरूवात गणेश वंदना से हुई। खुशी तिवारी ने इसे प्रस्तुत किया। ग्रुप्स एवं सोलो डांस भी परफॉरमेंस हुए। खुशी ने नगाड़े बजे गाने परफॉर्म किया। 5 साल के बच्चों ने मेरा सोला का डोला, ओपन गनगनाम स्टाइल पे डांस किया। लेटेस्ट मूवी बजरंगी भाईजान के सेल्फी ले ले रे सांग पे बच्चों ने डांस किया।

किशोर वैज्ञानिक प्रोत्साहन योजना फेलोशिप में 10 छात्र चयनित

–प्रत्येक छात्र को उच्च शिक्षा हेतु मिलेंगे 4,92,000 रूपये
लखनऊ। सिटी मोन्टेसरी स्कूल, गोमती नगर (प्रथम कैम्पस) के 10 मेधावी छात्रों ने भारत सरकार की किशोर वैज्ञानिक प्रोत्साहन योजना (के.वी.पी.वाई फेलोशिप) हेतु चयनित होकर विद्यालय का नाम पूरे देश में गौरवान्वित किया है। यह जानकारी सी.एम.एस. के मुख्य जन-सम्पर्क अधिकारी श्री हरि ओम शर्मा ने दी है। श्री शर्मा ने बताया कि के.वी.पी.वाई फेलोशिप हेतु चयनित छात्रों को विज्ञान वर्ग में स्नातक तक की पढ़ाई के दौरान प्रति माह रू. 5,000/- स्काॅलरशिप तथा आकस्मिक खर्चे के रूप में रू. 20,000/- वार्षिक मिलेगा तथा एम.एस.सी. स्तर की पढ़ाई के दौरान प्रति माह रू. 7,000/- स्काॅलरशिप तथा आकस्मिक खर्चे के रूप में रू. 28,000/- वार्षिक मिलेगा। इस प्रकार पाँच वर्षों की उच्चशिक्षा अवधि के दौरान प्रत्येक छात्र को रु. 4,92,000/- रूपये प्रदान किये जायेंगे। इस प्रतिष्ठित फेलोशिप हेतु चयनित सी.एम.एस. गोमती नगर (प्रथम कैम्पस) के 10 मेधावी छात्रों में अमोल मिश्रा, अर्पण भट्ट, धनंजय जोशी, दिव्यांश सिंह, कात्यायन राजमीत, प्रत्यूष मिश्रा, शुभ अग्रवाल, उत्कर्ष गुप्ता, अमन तिवारी एवं अमन वर्मा शामिल हैं। श्री शर्मा ने बताया कि यह फेलोशिप विद्यालयों तथा स्नातक स्तर के छात्रों को रिसर्च कैरियर अपनाने के लिए प्रोत्साहित करने हेतु भारत सरकार की एक अत्यन्त ही महत्वाकांक्षी योजना है जिसका संयोजन भारतीय विज्ञान संस्थान, बंगलोर द्वारा किया जाता है। श्री शर्मा ने बताया कि इस फेलोशिप की चयन प्रक्रिया के अन्तर्गत बोर्ड परीक्षा में सर्वश्रेष्ठ परीक्षाफल अर्जित करने वाले अत्यन्त मेधावी छात्रों का एप्टीट्यूट टेस्ट एवं इण्टरव्यू लिया जाता है। यह फेलोशिप तभी तक प्रदान की जाती है जब तक छात्र प्रथम श्रेणी का एकेडमिक परफारमेन्स मेन्टेन करता रहता है। इस योजना में चयनित छात्र अपना आई.डी. कार्ड दिखाकर देश की किसी भी प्रसिद्ध नेशनल लेब्रोटरी, विश्वविद्यालय, लाइब्रेरी की सुविधा निःशुल्क प्राप्त कर सकता है।

प्रतियोगिता के विजयी बच्चे किये गये पुरस्कृत

लखनऊ। गीता परिवार उत्तर प्रदेश के तत्वावधान में शनिवार को 12 संस्कार पथ शिविरों संचालन किया गया। शिव पार्क, बावली चैकी, एसवीपी कालेज के पीछे, सहादतगंज में शनिवार से शिविर प्रारम्भ किया गया। नीलकंठेश्वर मंदिर, श्री गोवर्धननाथ जी हवेली, सेन्ट्रल पार्क, ऐशबाग में शिविरों का समापन किया गया। अन्य शिविरों में प्राथमिक विद्यालय, बबुरियाखेड़ा काकोरी में, मालवीय पल्ली कालोनी पार्क, मालवीय नगर में, तालकटोरा लेबर कालोनी पार्क, राजाजीपुरम में, अग्रसेन पार्क, तिलकनगर में, टयूबेल वाला पार्क, मोतीझील में, पूर्व माध्यमिक विद्यालय, राजापुर पोस्ट सिगरामऊ में, बिरहाना पार्क, बिरहाना मंे, साई बाबा मंदिर, मोतीनगर में शिविर अपने चरर्मोत्कर्ष पर है।पीयूष जायसवाल ने बताया कि शनिवार को नीलकंठेश्वर मंदिर, राजेन्द्र नगर और श्री गोवर्धननाथ जी हवेली, राजाबाजार में संस्कार पथ शिविरों का समापन किया गया। समापन शिविरों पर मुख्य अतिथियों में इंद्रमती पाण्डेय, कुमकुम भटनागर, सदस्या, गीता परिवार, अनुराग पाण्डेय, महासचिव, गीता परिवार, उत्तर प्रदेश उपस्थित थे। शिविर आयोजक का स्वागत एवं अभिनंदन शिविर संयोजकों ने गीता परिवार का स्मृति चिन्ह भेंट कर किया। अच्छी आदतों की सूची- देवांश माहेश्वरी, महापुरुषों के नामांे- अंशवी माहेश्वरी, भगवती स्तोत्र- काव्या रस्तोगी, सर्वश्रेष्ठ शिविरार्थी- आर्यन माहेश्वरी, रचनात्मक कार्य- मणि रस्तोगी, ऋषि राजपूत, भगवदगीता- शिवेक, वेदांश, भगवती स्त्रोत व सर्वश्रेष्ठ शिविरार्थी- मुकेश गौतम और संस्कार तरंग- आर्यन, मनिका, किरन, मुकेश को मुख्य अतिथियों ने पुरस्कृत किया। सभी शिविरों मेें प्रार्थना, मंगल स्मरण, ध्यान, भगवद्गीता, भगवती स्त्रोत, गीत, प्रात्यक्षिक, म्यूजिक योगासन, बैठक खेल, हनुमान चालीसा, संपूर्ण वंदेमातरम इत्यादि करायंे गये।

अक्षिता का उत्कृष्ठ प्रदर्शन

भिलाईनगर  । कुमारी अक्षिता ङ्क्षसंह ने 12वीं सीबीएससी परीक्षा में 93 प्रतिशत अंक प्राप्त कर विद्यालय के  साथ ही नगर को गौरवांवित किया है। अधिवक्ता असीम सिंह व श्रीमती सारिका सिंह की पुत्री कुमारी अक्षिता सिंह केपीएस नेहरू नगर में अध्ययनरत 12वीं बायोलॉजी की छात्रा हैं। अपनी सफलता का श्रेय माता-पिता, गुरूजनों के  साथ सतत प्रयत्न व परिश्रम को देती हेैं। उनकी सफतला पर विद्यालय परिवार, अधिवक्ता समुदाय, ईष्ट मित्र व परिजनों ने बधाई देेते हुए उनक उज्जवल भविष्य की शुभकामना की है।

संस्कार पाठशालाओं में बच्चों ने गीता सार को जाना

–राधाकृष्ण मंदिर में शरद कुमार पाण्डेय किये गये सम्मानित
लखनऊ। गीता परिवार उत्तर प्रदेश के तत्वावधान में सोमवार 10 संस्कार पथ एवं व्यक्तित्व विकास शिविर आयोजित किये गये थे। इन शिविरों दिन-प्रतिदिन हजारों बच्चे और अपनी संस्कारों की गंगा को निरन्तर प्रवाहित कर रहे है। सोमवार को सरस्वती शिशु मंदिर, टिकैतराय तालाब, 5 दिवसीय शिविर प्रारम्भ हुआ समय 10 से 1.00 बजे तक है। अन्य शिविर श्रृंखला में 5 दिवसीय हनुमान मंदिर, पाण्डेय तालाब कालोनी, ऐशबाग में, 7 दिवसीय नीलकंठेश्वर मंदिर, राजेन्द्र नगर में, 10 दिवसीय में पायनियर माण्टेसरी स्कूल, राजाबाजार में, 15 दिवसीय में अग्रसेन पार्क, तिलकनगर में, श्री गोवर्धननाथ जी हवेली, राजाबाजार में, राधाकृष्ण मंदिर, नादान महल रोड, यहियागंज लखनऊ में संस्कार पाठशाला आयोजित की जा रही है। 5 दिवसीय ओमकालेश्वर महादेव मंदिर, चित्तखेड़ा में शिविर का समापन किया गया। समपान मुख्य अतिथि में श्री पाठक, हाईकोर्ट अधिवक्ता थे। जिन्होंने विजयी बच्चों को दिये पुरस्कार। गीता में आयुषी द्विवेदी, गीत में अंशिका लोधी, अर्जुन साधना में अभिषेक, ध्यान में सारिका, दृढ़ साधना में खुशी और संस्कार तरंग में सारिका, विपिन, सूरज को पुरस्कृत किया गया। सोमवार को राधाकृष्ण मंदिर में हम सभी बच्चों के बीच शरद कुमार पाण्डेय शशांक, कवि, पत्रकार मुख्य अतिथि के रूप में उपस्थित थे। गीता परिवार के कार्यों एवं संस्कार पाठशाला से इतना अधिक प्रभावित हुए कि उन्हें राधाकृष्ण मंदिर में आने को मजबूर कर दिया, यह सभी के लिए गौरव की बात थी। पीयूष जायसवाल ने शरद कुमार पाण्डेय को गीता परिवार का स्मृति चिन्ह एवं श्रीमदभगवत गीता देकर सम्मानित किया। शरद कुमार ने गीता के उद्देश्य पर प्रकाश डालते हुए लिखा है कि करवाया जो आपने मैंने किया, कुछ पाप व पुण्य में भेद न जाना, प्रति कर्म को कर्म ही माना सदा, यहां स्याह क्या और सफेद न जाना। गीता केवल पढ़ने की ही चीज नहीं बल्कि जीवन में उतारने और जीवन जीने वाली चीज है। गीता को जिसने समझ लिया उसको फिर और कुछ समझने या जानने के लिए शेष नहीं रह जाता। गीता परिवार का शिविर आने वाली पीढ़ी के लिए बहुत ही मूल्यवान है। इससे संस्कारों की जो धरोहर है वह हमारे बीच सुरक्षित रहती हंै और आने वाली पीढ़ी का दिशा निर्देशन करती है। सोमवार शिविरों का मुख्य आर्कषण केन्द्र रहे सुवाक्य पर टाॅकशो, रंगीन कागजों से बंैच बनाना, म्यूजिकल योग सोपान, हनुमान चालीसा, संपूर्ण वंदेमातरम, नृत्य सिखाये गये।

शंशाक ने ९६.६ अंक लाकर नगर का बढ़ाया मान

रायगढ़। शशांक पांडेय ने 12 की सीबीएसई की परीक्षा में 96.6 प्रतिशत अंक प्राप्त किया कर अपने माता-पिता और नगर का नाम रोशन किया है। शशांक ओ पी जिंदल स्कूल ऊर्जा नगर तमनार में पढ़ाई करते हुए १२वीं की परीक्षा सीबीएसई माध्यम से दी। शशांक प्रारम्भ से ही प्रतिभावान है। शशांक के माता पिता दोनों शिक्षक है, यहां तक कि शशांक के दादा जी स्व डॉ राम जन्म पांडेय घरघोड़ा शासकीय उच्चतर माध्यमिक शाला के प्राचार्य रहे हैं वे भी रविशंकर विस्वविद्यालय से पीएचडी किये थे। पूरा पारिवारिक माहौल शिक्षामय होने के कारण शशांक की दोनों बड़ी बहने भी 12 वी में मेरिट में लाकर इंजीनियरिंग कर रही हंै। शशांक ने इस उपलब्धि के लिए अपनी मेहनत के साथ गुरुजनों के मार्गदर्शन को दिया है। शंशाक ने बताया कि वह अभी सीबीटी की तैयारी कर सीए बनने की इच्छा रखता है। पढ़ाई के साथ ही क्रिकेट भी में की रुचि है,अण्डर 19 टीम में रायगढ़ से खेल चुके है। उसी वर्ष रायगढ़ प्लेट गुरप में विजेता बना था। शशांक की इस उपलब्धि पर उनके शिक्षकों ने भी बधाई दी । वहीं शशांक के पालक ने बताया कि इनके शिक्षकों के मार्गदर्शन से ही शशांक ९६.६ प्रतिशत अंक लाने में सफल हो सका है, इसलिए सभी शिक्षक बधाई के साथ वंदनीय है जिनके प्रयास से यह स्थिति बनी है।