Daily Archives: April 19, 2017

पूजा सोनी बनीं रायगढ़ की शहर अध्यक्ष

रायपुर। मिशन 2018 की तैयारी में जुटे जनता कांग्रेस छत्तीसगढ़ जे के संस्थापक पूर्व मुख्यमंत्री अजीत जोगी ने संगठन को मजबूत करने का अभियान छेड़ रखा है। इस्पात नगरी रायगढ़ के जिलाध्यक्ष बजरंग अग्रवाल की संस्तुति पर श्री जोगी ने पूजा सोनी को पार्टी की रायगढ़ इकाई के शहर अध्यक्ष पद की जिम्मेदारी सौंपी है। पूजा ने कहा कि वह श्री जोगी द्वारा दी गई जिम्मेदारी का निष्ठा से निर्वहन करेंगी।

राजेश और अरुणा को मिली जिम्मेदारी

रायपुर। जनता कांग्रेस छत्तीसगढ़ के सुप्रीमो पूर्व मुख्यमंत्री अजीत जोगी के द्वारा बेमेतरा शहर जिला छात्र संगठन के अध्यक्ष पद पर युवा साथी राजेश मारकण्डे एवं ग्रामीण जिला अध्यक्ष पद पर बेरला ब्लाक के युवा साथी रॉकी साहू और बेमेतरा विधानसभा महिला जनता कांग्रेस जे के अध्यक्ष पद पर भिंभौरी निवासी श्रीमती अरुणा साहू को अध्यक्ष बनाया गया है। इनकी नियुक्ति पर बधाई देने वालों में मुख्य रूप से योगेश तिवारी सच्चिदानंद मिश्रा, लेख मणि पांडे, लाला भारती छात्र संगठन के प्रदेश सचिव- चंद्रकांत चतुर्वेदी, हरीश चंद्र धृत लहरे, रामकुमार चेलक, गौतम पटेल, मनोज पटेल, मनोज दुबे, राजकुमार ठाकुर, दिनेश नवरंगे, विक्की, रवि साहू, पंकज सिंह, धर्मेंद्र चतुर्वेदी, धर्मेंद्र पांडे, नवीन गौतम, शंकर लाल साहू, खिलेश्वर वर्मा, श्रीमती कस्तूरी वर्मा, सुनीति, निर्मला साहू, यशोदा साहू, आरती साहू, देवकी साहू, रामप्यारी साहू, लता समेत कई लोग शामिल रहे।

जोगी ने शेख इस्माईल को बनाया प्रदेश संयोजक

रायपुर। जनता कांग्रेस छत्तीसगढ़ ने शेख इस्माईल अहमद को पार्टी के सूचना एवं प्रौद्यागिकी विभाग (आईटी सेल) का प्रदेश संयोजक बनाया है। इस अवसर पर शेख इस्माईल ने निुयक्ति प्रदान करने पर पार्टी के संस्थापक अजीत जोगी के प्रति आभार व्यक्त किया और कहा कि श्री जोगी के नेतृत्व में ही युवाओं को रोजगार, महिलाओं को सुरक्षा, किसानों की उन्नति और छत्तीसगढ़ का चहुंमुखी विकास संभव हैं। श्री जोगी ने जो जिम्मेदारी दी हैं उसका पूर्ण रूप से पालन करते हुए उनके संदेश को आई.टी. के माध्यम से हर गांव गरीब तक पहुंचाएंगे।

लवली के इस्तीफे की खबर सुन रो पड़े माकन

नई दिल्ली। दिल्ली के प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष अजय माकन को पूर्व अध्यक्ष अरविंदर लवली का इस्तीफा देना इतना नागवार गुजरा कि वे रो ही दिये। एक चैनल के कार्यक्रम में बोलते हुए उन्होंने कहा कि यह एक ऐसे नेता का जाना है जिसने विचारधारा की राजनीति की। मंत्री बनने के बनने के बाद वे एक दशक तक पार्टी में रहे और अब उन्हें दूसरे दल ने अपने में शामिल कर लिया। निश्चित ही यह सत्ता की राजनीति है, अब विचारधारा की राजनीति का समय जा चुका है। उन्होंने सवाल उठाते हुए कहा कि क्या कारण है कि अब लोग अपनी मातृ संस्था को छोड़कर दूसरे दल में चले जाते हैं। पद का क्या है, यह तो आता जाता रहता है। आज है, कल नहीं लेकिन हमें कम से कम अपनी विचारधारा को तो स्थायी बनाए ही रखना चाहिए। ऐसा क्यों है कि अब हम केवल सत्ता को ही देख रहे हैं और सत्ता के सुख के चलते बरसों पुरानी परंपराओं को छोड़ रहे हैं।

पीएम मोदी मई में जाएंगे श्रीलंका

— अंतरराष्ट्रीय वेसक दिवस में करेंगे शिरकत
कोलंबो। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी भगवान बुद्ध की जयंती (बुद्ध पूर्णिमा) के अवसर पर संयुक्त राष्ट्र की ओर से श्रीलंका में आयोजित किए जाने वाले समारोह में हिस्सा लेने मई में श्रीलंका जाएंगे। इस दिन को बौद्ध धर्म में बहुत महत्वपूर्ण माना जाता है। श्रीलंका सरकार के न्याय मंत्री विजयदासा राजपक्षे ने बुधवार को कहा कि प्रधानमंत्री मोदी मई के दूसरे सप्ताह में श्रीलंका आएंगे। उनकी श्रीलंका की यह दूसरी यात्रा होगी। अपनी यात्रा के दौरान वे 12 से 14 मई तक वेसक डे के उपलक्ष्य में होने वाले कार्यक्रम में शिरकत करेंगे। राजपक्षे ने बताया कि प्रधानमंत्री ने अपनी यात्रा पर सहमति दे दी है। प्रधानमंत्री मोदी पहले भी 2015 में श्रीलंका का दौरा कर चुके हैं। अंतरराष्ट्रीय वेसक दिवस पर श्रीलंका में होने वाली अंतरराष्ट्रीय बौद्ध कांफ्रेंस में दुनिया के करीब 100 देशों के 400 से अधिक प्रतिनिधि शामिल होंगे। वेसक सबसे खास दिन होता है। यह भगवान बुद्ध के जन्म, ज्ञान का स्मरण करवाता है।

2019 के चुनाव में पर्ची से जान सकेंगे किसको दिया वोट

नई दिल्ली। ईवीएम पर जारी बहस के बीच केंद्रीय मंत्रिमंडल ने आने वाले चुनाव में उपयोग के लिए पेपर ट्रेल मशीनों की खरीद के चुनाव आयोग के प्रस्ताव को मंजूरी दे दी। अगर सितंबर 2018 तक ये सारी ईवीएम बनकर तैयार हो जाएंगी तो 2019 के लोकसभा चुनाव में हर कोई आश्वस्त हो सकेगा कि उसने किसको वोट दिया है। यह निर्णय ऐसे समय में किया गया है जब विपक्षी दलों की ओर से चुनाव में ईवीएम के साथ पेपर ट्रेल मशीन के उपयोग की मांग तेज हो रही है। प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी की अध्यक्षता में हुई कैबिनेट की बैठक में छोटी सी चर्चा के बाद मतदाता सत्यापन की पर्ची दिखाने वाली मशीन के खरीद के प्रस्ताव को मंजूरी दी। चुनाव आयोग ने देश के सभी मतदान केंद्रों के लिए 16 लाख से अधिक पेपर ट्रेल मशीनों की खरीद के लिए 3,174 करोड़ रुपये मांगे हैं। कैबिनेट ने नई इलेक्ट्रानिक वोटिंग मशीनों की खरीद के लिए अब तक दो किस्तों में 1,009 करोड़ रुपये और 9,200 करोड़ रुपयों की मंजूरी प्रदान कर चुकी है। वित्त मंत्री अरुण जेटली ने नई मशीनों के लिए बैठक संपन्न होने के बाद कहा, अगर सितंबर 2018 तक सारी मशीन आ जाती हैं तो स्वाभाविक है कि उसके बाद जितने भी इलेक्शन होंगे सभी पोलिंग बूथ की इलेक्ट्रॉनिक मशीन के साथ पेपर ट्रेल भी होगा। चुनाव आयोग हमेशा से इसकी मांग करता रहा है, और इसकी पूरी चर्चा करने के बाद केंद्रीय मंत्रिपरिषद ने इसे अपनी स्वीकृति दे दी है। जून 2014 से अब तक चुनाव आयोग ने सरकार को कम से कम 11 बार मशीनों की खरीद के लिए सूचना दी थी, लेकिन सरकार की ओर से इस पर कोई कार्यवाही नहीं की जा रही थी। पिछले साल चुनाव आयुक्त एस. एन. ए. जैदी ने प्रधानमंत्री को पत्र लिखकर उनका ध्यान इस ओर दिलाया था। सुप्रीम कोर्ट ने आयोग को यह बताने को कहा था कि वह कब तक सभी मतदान केंद्रों में मशीनों का उपयोग कर सकती है।

मशीन की खासियत
मशीन में वोट डालने के बाद वोटर को एक पर्ची मिलेगी जिसमें उस पार्टी का चिह्न बना होगा जिसे उसने वोट दिया होगा। हालांकि दिखने के बाद यह पर्ची तुरंत एक बॉक्स में गिर जाएगी। मतलब मतदाता इसे अपने साथ नहीं ले जा पाएंगे। सिर्फ सात सेकंड तक ही यह पर्ची दिखेगी।

तुर्की में जनमत-संग्रह के विरोध में प्रदर्शन, 49 गिरफ्तार

एंटाल्या। तुर्की में संवैधानिक बदलावों के विरोध में हो रही देशव्यापी रैलियों से 49 लोगों को गिरफ्तार किया गया है। देश में हुए जनमत संग्रह में राष्ट्रपति रेजेप ताय्यीप एर्दवां की जीत के बाद से संवैधानिक बदलावों को लेकर विरोध हो रहा है। समाचार पत्र हुर्रियत के मुताबिक, पुलिस ने एंटाल्या के भूमध्य प्रांत से 14 प्रदर्शनकारियों को गिरफ्तार किया है। इसी स्थान पर रविवार को हुए जनमत संग्रह में बहुत अधिक संख्या में लोगों ने संवैधानिक बदलावों के विरोध में वोट किया था। निर्वाचन आयोग का कहना है कि शुरूआती नतीजों से पता चला कि 51.4 फीसदी मतदाताओं ने तुर्की के इस बदलाव का समर्थन किया है। हालांकि, विपक्षी पार्टियां तुर्किश बार असोसिएशन और आॅगेर्नाइजेशन फॉर सिक्यॉरिटी ऐंड कॉपोर्रेशन इन यूरोप का कहना है कि यह जनमत संग्रह अंतरराष्ट्रीय मानकों के अनुरूप नहीं है।

सैकड़ों साल पुरानी नदी 4 दिन में हो गई ‘गायब’

यूकॉन। कनाडा से बहने वाली 150 मीटर चौड़ी स्लिम्स नदी सिर्फ चार दिन में सूख गई। ऐसा मौसम में बदलाव की वजह से ग्लैशियर पिघलने के चलते हुए। कास्कावुल्श ग्लैशियर से निकलने वाली स्लिम्स नदी सैकड़ों से सालों से बह रही थी। द गार्जियन की रिपोर्ट के मुताबिक, मौसम में आए बदलाव की वजह से ग्लैशियर की बर्फ काफी तेजी से पिघली जिससे नदी के पानी का बहाव इतना तेज हो गया कि ‘गायब’ ही हो गया। दरअसल तेज बहाव कि वजह से एक अलग रास्ता बन गया था। बहाव की दिशा बदलने की वजह से नदी अपनी पुरानी जगह से लगभग खाली हो गई। खबर के मुताबिक, अब यह नदी अलास्का की खाड़ी की तरफ बहती है। वैज्ञानिक कुदरत के इस कमाल को ‘रिवर पाइरेसी’ (नदी की चोरी) का नाम दे रहे हैं। रिपोर्ट में एक भूविज्ञानी ने बताया कि उन्होंने नदी वाली जगह का दौरा किया है। उन्होंने बताया कि नदी लगभग सूख चुकी है। वैज्ञानिकों का कहना है कि इस तरह के बड़े बदलाव में काफी लंबा वक्त लगता है। उनका कहना है कि ग्लोबल वॉर्मिंग की वजह से स्लिम्स नदी पतली धारा में बदल गई, जबकि दूसरी तरफ ग्लैशियर के पानी की दिशा बदलने से अलास्का नदी कई गुना बड़ी हो गई है। इससे पहले ये दोनों नदियां एक जैसी थीं।

सीमा सुरक्षा बल से तेजबहादुर बर्खास्त

नई दिल्ली। सीमा सुरक्षा बल के जवान तेजबहादुर यादव को बीएसएफ ने बुधवार को बर्खास्त कर दिया। तेजबहादुर ने गत जनवरी माह में एक वीडियो जारी कर जवानों को खराब खाना देने की शिकायत की थी जिसके बाद मामले की जांच जारी थी। तेजबहादुर को सीमा सुरक्षा बल की छवि खराब करने का दोषी पाया गया है। बता दें कि तेजबहादुर के बाद कई जवानों के वीडियो सामने आए थे। इन वीडियो को लेकर काफी विवाद हुआ था। पीएमओ ने इस मामले में गृह मंत्रालय और बीएसएफ से रिपोर्ट मांगी थी। यादव ने अपने सीनियर अधिकारियों पर भी भोजन की राशि के नाम पर घपला करने का आरोप लगाया था। इसके बाद यह वीडियो वायरल हो गया था। हालांकि तेज बहादुर के परिजनों ने आरोप लगाया था कि जवान को धमकाया जा रहा है और उन्हें मानसिक यातना दी जा रही है। तेज बहादुर के खिलाफ अनुशासनहीनता सहित कई आरोपों की जांच चल रही थी। इस बीच उनकी स्वैच्छिक सेवानिवृत्ति की याचिका भी खारिज कर दी गई थी।

आशिक ने पेट्रोल छिड़क दो बहनों को जिंदा जलाया, एक की मौत

बेतिया। बिहार में पश्चिम चंपारण के बेतिया में एक सिरफिरे आशिक ने पेट्रोल छिड़क कर कमरे में सो रही दो सगी बहनों को जिंदा जला दिया। इसमें से छोटी बहन दिपमाला उर्फ समता कुमारी की मौके पर ही मौत हो गयी। जबकि बड़ी बहन ममता कुमारी को गंभीर हालत में हॉस्पिटल में भरती कराया गया है। वारदात मुफस्सिल थाने के पोखरभिंडा गांव में रात के तीन बजे उस वक्त घटित हुई, जब पीड़िता के परिवार के सभी पुरूष सदस्य इसके चचेरे भाई धनंजय की शादी में बारात गये थे। घटना के बाद से आरोपी प्रेमी फरार है, जो जूडो कराटे का शिक्षक है तथा ममता को जूडो का प्रशिक्षण देता था। घटना की सूचना मिलते ही एसपी विनय कुमार मौके पर पहुंच मामले का जायजा लिया है। पुलिस ने शव का पोस्टमार्टम करा परिजनों को सौंप दी है। जानकारी के अनुसार, पोखरभिंडा के ट्रैक्टर चालक रामप्रवेश ठाकुर की पुत्री ममता कुमारी शहर के आरएलएसवाइ कॉलेज की बीए पार्ट वन की छात्रा है। जबकि छोटी बेटी समता कुमारी उर्फ दीपमाला इस साल मैट्रिक की परीक्षा दी है। ममता शहर के लालबाजार तुलसी मार्केट में स्थित जूडा कराटे प्रशिक्षण संस्थान में जूडा का प्रशिक्षण लेती थी, जहां श्रीनगर थाना के घोड़हिया का रहने वाला रूदल शर्मा का पुत्र नवनीत शर्मा प्रशिक्षण देने का कार्य करता था।
एक तरफा प्यार के चक्कर में बना हैवान
कुछ दिन पहले नवनीत ने चोरी से ममता की तस्वीर लेकर उससे प्यार का इजहार किया, लेकिन वह नहीं मानी। एक तरफ प्यार के चक्कर में पड़ा नवनीत शादी के लिए ममता पर दबाव बनाने लगा। पर, ममता हर बार इंकार करती रही। ममता पर दबाव बनाने के लिए वह धमकी भी देता था।