Daily Archives: April 20, 2017

छोटे जोगी ने रमन को चिट्ठी लिख कसा तंज

रायपुर। मरवाही के विधायक अमित जोगी अब मुख्यमंत्री डॉ.रमन सिंह को चिट्ठी लिखकर उन पर तंज कसा है। उन्होंने पत्र में लिखा है…..
आदरणीय मुख्यमंत्री जी
सादर नमस्कार,
आप को ये पत्र मै काफी व्यथित हो कर लिख रहा हूँ। पीछे दिनों रायपुर जिले के छेड़ी खेडी गांव से बेदखल किये गए 200 परिवार मुझ से मिलने पहुचे थे। उनके आँखों में आंसू और अपने अन्धकारमय भविष्य की चिंता थी। मुझे लगता है की इस के लिए हम जनप्रतिनिधि जिम्मेदार है। आप के निर्देशन में छेड़ी खेडी में विधायको के लिए बंगला का निर्माण किया जा रहा है। इस प्रोजेक्ट के लिए छेड़ी खेड़ी में बसे इन 200 परिवार जनों को हटाया जा रहा है।
इन गरीबो को हटा कर हम जैसे विधायको के लिए आलीशान बंगलों का निर्माण बिलकुल भी उचित प्रतीत नही होता हैं। इस परिसर में मुझे भी बँगला आबंटित किया गया है। मुझे लगता है की उन दो सौ परिवारों को उनके घर से हटा कर उनके आँखों में आंसू ला कर हम विधायक अपने आबंटित घरो में खुशी के साथ नही रह पायेगे। महात्मा गांधी ने कहा था कि सुशासन में विकास को तभी सार्थक माना जाएगा जब हम गरीबों के आंसू पोछकर उनके चेहरो पर मुस्कान लाने में सफल होंगे। मुख्य मंत्री जी, हम दुसरो का आशियाने उजाड़ कर अपने अरमानो का महल नही बना सकते। आप इन दिनों अपने ‘लोक सुराज’ अभियान के जरिये जनता का राज स्थापित करने का सन्देश लेकर जगह जगह जा रहे है लेकिन विधायकों के घरों के निर्माण के लिए 200 परिवारों को हटाये जाना ‘लोक उजाड़’ अभियान सा लगता है। ऐसे समय में सत्गुरू कबीर जी की ये पक्तियाँ याद आती है..
गरीब को मत सताईए, जाकि मोटी हाय।
मुए चाम की आग से लौह भस्म हो जाय।।
आशा करता हूं कि आप इन पक्तियों के निहितार्थ को समझकर लोक हित में उचित फैसला लेगे! मैं आपके गरीबों की आह लेने वाली योजना का सहभागी नहीं बनाना चाहता। कृपया इस प्रोजेक्ट में ऐसी व्यवस्था कि जाए की उन गरीबों के चेहरे में मुस्कान आ सके। मुझे उम्मीद है इस बात से सभी विधायक भी सहमत होगें।

अमित जोगी अदिवासी कंवर समाज के कार्यक्रम में शामिल होगें

 खैरागढ़़ .. खैरागढ़़ आज विकास खंड के ग्राम तेलीटोला मे आयोजित अदिवासी कंवर विकास समिति परिछेत्र खैरागढ़़ द्वरा आयोजित अदिवासी सामुहिक आदर्श विवाह के कार्यक्रम के मुख्य अतिथी जनता कांग्रेस छत्तीसगढ़ (जे) के युवा नेता मरवाही विधायक श्री अमित जोगी होगें कार्यक्रम की आध्यझता सुखी राम कवर करगें उक्त अवसर पर जनता कांग्रेस के जिला प्रवक्ता एंव नव नियुक्त  खैरागढ़़ उप जिला अध्यझ नासिर मेमन ने बताया की आदर्श विवाह तिथि कुन्डली के अतर्गत आठ जोडो का अब तक पंजियन हुआ है अदिवासी समाज के कार्यक्रम को सफल बनाने छेत्र के सेवर्निव्रत प्रचार्य श्री मंशाराम सिमंकर. सोनसिंग कंवर. अर्जुन सिंग चंद्रवशी. नारायण कंवर .लाल सिंग कंवर.बिसे लाल कंवर. राम जी कंवर. शत्रुहन लाल कंवर. श्रीमती इंदिरा चंद्रवशी. इंदिया कंवर. सेवती बाई कंवर. बोधनी बाई कंवर. पुनम कंवर. किरन कंवर. एंव समस्त कंवर समाज खैरागढ़़ ने अदिवासी समाज एंव अन्य समाज से बरात स्वागत पणिग्रहण भांवर मे उपस्थित होने की विनती की.

इच्छाप्यारी नागिन में इच्छा के आगे हैं कई मुश्किलें

सोनी सब के इच्छाप्यारी नागिन में पहलवान परिवार में सुरसुरी के आने के बाद से ही हालात दिन-ब-दिन बिगड़ते जा रहे हैं। वह एक नागिन है, जो इच्छा से बदला लेना चाहती है। सुरसुरी (जसविंदर कौर), जो हमेशा ही इच्छा के खिलाफ चालें चलती रहती है, अब परिवार के सदस्यों के बीच गलतफहमियों पैदा कर रही है, जोकि सीधे-सीधे इच्छा पर असर डाल सकती हैं। सुरसुरी ने चंचल (शीला शर्मा) का वेश बनाया और दादी से सभी बहुओं के बीच प्रतियोगिता करवाने की अनुमति मांगी। दादी ने परिवार के सदस्यों के बीच किसी भी तरह की प्रतियोगिता करवाने से मना कर दिया। चंचल दादी को यह कहकर मना लेती है, कि यह प्रतियोगिता उनके और बहुओं, ममता (पूजा खत्री) और इच्छा (प्रियाल गौर) के बीच होगी। इससे उन दोनों के बीच रिश्ता बनाने में बेहतर मदद मिलेगी और उनका रिश्ता अच्छा होगा।

सिद्धार्थ के लिए कार्तिकेय की मधुर सद्भावना

हाल ही में आयोजित गोल्डन पीटल अवॉर्ड्स समारोह की रात बेहद शानदार रही जिसमें समूचा कलर्स परिवार असाधारण प्रतिभाओं के सम्मान का जश्न मनाने के लिए एक मंच पर एकत्र हुआ। बाल प्रतिभा कार्तिकेय मालवीय शनि के रूप में चर्चित हैं। जब वे समारोह में फेवरिट चाइल्ड आर्टिस्ट का पुरस्कार प्राप्त करने आए तो उनका अभूतपूर्व स्वागत किया गया। अपनी सफलता के लिए अपने माता-पिता और भगवान का आभार प्रकट करते हुए कार्तिकेय ने मार्गदर्शन एवं सबसे बड़े सपोर्ट सिस्टम बनने के लिए धारावाहिक के प्रोड्यूसर सिद्धार्थ तिवारी को भी धन्यवाद दिया। कलर्स गोल्डन पीटल अवॉर्ड्स का प्रसारण 29 अप्रैल की रात 9 बजे कलर्स पर होगा।

कृष्णा अभिषेक और मोना सिंग इंडिया बनेगा मंच के होस्ट

सच्ची प्रतिभा को मंच की जरूरत नहीं होती। वह तो अपनी क्षमता के आधार पर ही उतनी चमक जाती है कि देखने वाले का ध्यान आकर्षित हो जाए। वस्तुत: मनोरंजन की कोई सीमाएं नहीं होती। इसी धारणा को सम्मान देते हुए, कलर्स अपनी तरह का पहला प्रतिभा आधारित रीयलिटी शो आरंभ कर रहा है जहां लोगों को सड़कों पर रोकने और आश्चर्य से देखते रहने के लिए विवश करने की क्षमता के आधार पर प्रतिभाओं को जज किया जाएगा। इंडिया बनेगा मंच नाम का यह धारावाहिक इस मान्यता पर आधारित है कि प्रतिभा को मंच तक सीमित नहीं हो सकती तथा इसमें सड़कों को उनकी सच्ची कसौटी बनाया गया है। सेलिब्रिटी जज और मंच/स्टूडियो फॉरमेट से आगे बढ़ते हुए, इंडिया बनेगा मंच जज करने की शक्ति पूरी तरह दर्शकों को देता है क्योंकि वे उन्हें एक रात में सेलिब्रिटीज बनाने के लिए अब तक अछूती प्रतिभा की किस्मत पर नियंत्रण नहीं कर सकते। इस सफर में अपनी विशिष्ट शैली एवं एक्ट से राष्ट्र को प्रभावित करने के प्रयास में प्रतिभाओं को प्रेरित करने के लिए होस्ट कृष्णा अभिषेक और मोना सिंग मौजूद रहेंगे।

सीमा और आदित्य का ठुमका ‘परिवार के बाबू’ में

धनंजय प्रताप सिंह के निर्देशन में संस्कार आर्ट इंटरनेशनल के बैनर तले बनने जा रही भोजपुरी फिल्म परिवार के बाबू का मुंबई में शूटिंग शुरू हो गई है । फिल्म में सीमा सिंह और आदित्य मोहन के ठुमके पर एक गाने को फिल्माया गया मुंबई में मड बंगलो में। आदित्य मोहन ने बताया की सीमा सिंह के साथ काम कर के बहुत अच्छा लगा सीमा एक अच्छी एक्ट्रेस के साथ साथ एक अच्छी और खूसूरत इन्सान है। फिल्म का एक और रोमांटिक गाना जीत रस्तोगी और भावना सिंह के ऊपर फिल्माया गया। फिल्म के निर्माता दिनेश तिवारी ने बताया की यह एक पारिवारिक फिल्म है जिस के गाने बहुत खूबसूरत हैं।

रजनीश लेकर आ रहे ‘चकल्लसपुर’

झांसी व पटना फिल्म महोत्सव और थर्ड आई एशियन फिल्म फेस्टिवल में दमदार उपस्थिति दर्ज कराने वाली फिल्म ‘चकल्लसपुर’ जल्द ही रिलीज हो सकती है। फिल्म बन कर तैयार है । फिल्म में झांसी के आरिफ शहडोली ने अभिनय किया है और फिल्म पर अपनी गहरी छाप छोड़ी है। फिल्म का निर्देशन रजनीश जायसवाल ने किया है और फिल्म में आरिफ शहडोली के साथ ही मुकेश मानस, उर्मिला महंत, पद्मजा राय, त्रिपुरारी यादव जैसे अभिनेताओं ने अभिनय किया है। फिल्म में पोस्टमास्टर के रोल में अपनी दमदार मौजूदगी का अहसास कराने वाले आरिफ शहडोली इससे पहले मणिरत्नम की रावण में एक बेहद छोटी सी भूमिका में नजर आये थे। फिल्म के निर्देशक रजनीश जायसवाल आरिफ के अभिनय की तारीफ करते हैं और बताते हैं कि आरिफ शहडोली से मुम्बई में मुलाकात हुई और उस समय वे इस फिल्म की प्लानिंग कर रहे थे। उसी मुलाकात के दौरान उन्होंने आरिफ को इस रोल का प्रस्ताव दिया। फिल्म में आरिफ ने प्रभावशाली अभिनय किया है और फेस्टिवल्स में आलोचकों का ध्यान अपनी ओर खींचने में सफल रहे हैं।

प्राची अग्रवाल मिसेज इंडिया कानटेस्ट में फर्स्ट रनर अप बनी

रायपुर। शहर की श्रीमती प्राची अग्रवाल ई आठ राधास्वामी नगर रायपुर ने अखिल भारतीय मिसेज इंडिया कानटेस्ट में फर्स्ट रनर अप बनकर प्रदेश का नाम रौशन किया है। आज प्रेस क्लब रायपुर पहुंची प्राची ने अपनी उपलब्धियों से मीडिया को अवगत कराते हुये बताया कि वे योगा और मार्शल आर्ट युवाओं को सिखाती है साथ ही उन्होंने बीई मैकेनिकल की पढ़ाई की है। इसके अलावा वे पूर्व में मिसेज इंडिया 2017 में फाइनल राउंड में मिसेज इंडिया नार्थ 2017 में फर्स्ट रनर अप में चयनित हुई है। उन्होंने बताया कि समाज सेवा के जरिये वे युवतियों को आत्मनिर्भर बनाने के लिए विशेष अभियान चला रही है। साथ ही कोपलवाणी के मूक बधिर बच्चों को समस्याएं आने पर शारीरिक रूप से सशक्त बनाने के लिए प्रशिक्षण देने विद्यालय जाती है। मिसेज इंडिया कानटेस्ट में हुये रोमांचक अनुभवों को बताते हुये प्राची ने बताया कि उनका माडलिंग एवं फोटोग्राफी की ओर शुरू से झुकाव रहा है। उनके पति मिलिंद अग्रवाल भी उनकी गतिविधियों में सक्रियता से हिस्सा लेकर उन्हें सामाजिक गतिविधियों के जरिये लोगों की भलाई के लिए प्रेरित करते है। उन्होंने बताया कि नार्थ मिसेज इंडिया कानटेस्ट में 3 राउंड हुये और वे छग प्रदेश का नेतृत्व करते हुये फर्स्ट रनर अप में चयनित हुई है। जिसके लिए वे यहां उनके निवासरत शुभचिंतकों के लिए विशेष धन्यवाद ज्ञापित करती है।

4.14 करोड़ में बिके 1948 में गांधी पर जारी हुए डाक टिकट

लंदन। महात्मा गांधी पर 1948 में जारी हुए डाक टिकट रेकॉर्ड 5 लाख पाउंड यानी करीब 4 करोड़ 14 लाख रुपये में बिका है। ब्लूमबर्ग के मुताबिक डाक टिकटों का संग्रह करने वाले यूके बेस्ड डीलर स्टैनली गिबन्स ने बुधवार को एक बयान जारी कर बताया कि यह ‘अनोखा’ डाक टिकट आजाद भारत का सबसे ज्यादा महत्वपूर्ण और चाहा जाने वाला आइटम है।10-10 रुपये मूल्य के 4 डाक टिकटों का यह स्ट्रिप पर्पल-ब्राउन कलर का है और इन पर ‘सर्विस’ लिखा हुआ है। इस डाक टिकट को 1948 में तत्कालीन गवर्नर-जनरल के सचिवालय ने आॅफिशल यूज के लिए जारी किया था। इससे पहले इस तरह का सिर्फ एक डाक टिकट किसी निजी संग्रह में था। इस डाक टिकट को एक आॅस्ट्रेलियाई निवेशक ने खरीदा है और यह भारतीय डाक टिकटों के बाजार की ताकत को बताता है। स्टैनली गिबन्स ने गांधीजी पर 10 रुपये के एक डाक टिकट को पिछले साल उरुग्वे के एक व्यक्ति को 1.6 लाख पाउंड यानी करीब एक करोड़ 32 लाख रुपये में बेचा था। इस साल मार्च में भी एक भारतीय डाक टिकट को 1.1 लाख पाउंड यानी करीब 91 लाख रुपये में बेचा गया था। उस डाक टिकट पर महारानी विक्टोरिया के युवावस्था की तस्वीर गलत ढंग से लगी थी।

भूपेश ने जोगी को बताया जयचंद

रायपुर। छत्तीसगढ़ के दो राजनैतिक दिग्गजों के बीच राजनीतिक जंग जारी है। यह जंग आए दिन एक दूसरे पर बयानबाजी को लेकर तेज हो जाया करती है। एक बार फिर यह जंग परवान चढ़ गयी है। एक दिन पहले जनता कांग्रेस के संस्थापक अजीत जोगी ने कहा था कि वे भूपेश बघेल के किसी बात का जवाब नहीं देते क्योंकि वे उनके स्तर के नेता नहीं हैं। इसके जवाब में प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष भूपेश बघेल ने अपने फेसबुक पेज पर अजीत जोगी को एक खुला पत्र लिखा है। इस पत्र में उन्होंने कहा है कि उन्हें खुशी है कि वे उनके स्तर के नहीं और वे उनके स्तर तक जाना भी नहीं चाहते। श्री बघेल ने कहा है, मुझे आज हार्दिक खुशी है कि मैं आपके स्तर का नहीं। मैं लाख चाहूं तो भी आपके स्तर पर जाकर न झूठ बोल सकता हूं, न अपनी पार्टी की पीठ में छुरा भोंक सकता हूं और न लोकतंत्र का चीरहरण कर सकता हूं। उन्होंने लिखा है, मेरी अंतरात्मा गवाही नहीं देती कि मैं आपके स्तर तक जाऊं। मैं राजनीति छोड़कर खेती के अपने पुश्तैनी काम में वापस लौट जाना पसंद करुंगा लेकिन आपके स्तर तक नहीं जाउंगा। स्तर तो छोड़ दीजिए मैं आपके रास्ते पर एक कदम भी नहीं चलना चाहूंगा।
बघेल ने अपने जवाब में कहा है, मैं जयचंद कभी नहीं हो सकता। मुख्यमंत्री के रूप में अजीत जोगी के कार्यकाल का जिक्र करते हुए प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष ने कहा है, छत्तीसगढ़ में जातिवाद का जो जहर आपने बोया वह अक्षम्य है। आपने हमारे कारोबारी भाइयों के मन में डर पैदा कर दिया कि कहीं उन्हें कारोबार समेटकर भागना न पड़े। आपने न कर्मचारियों को बख्शा और न राजनेताओं को। अंत में उन्होंने लिखा है, आपका स्तर आपको मुबारक। आपके भ्रमजाल में फंसे आपके करीबियों को मुबारक। मेरा सौभाग्य है कि मैं आपके स्तर का नहीं और मैं अपने स्तर पर खुश हूं। ईश्वर आपको लंबी उम्र और थोड़ी सद्बुद्धि दे।