Daily Archives: May 18, 2017

एसआईटी करेगी आईएएस अनुराग की मौत की जांच

लखनऊ। कर्नाटक कैडर के आईएएस अधिकारी अनुराग तिवारी की मौत की जांच के लिए आज विशेष जांच दल का गठन किया गया। उत्तर प्रदेश के रहने वाले तिवारी की मौत का मुद्दा राज्य विधानसभा में भी उठा। वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक दीपक कुमार ने बताया कि एसआईटी से 72 घंटे में रिपोर्ट सौंपने को कहा गया है। हजरतगंज के क्षेत्राधिकारी के नेतृत्व में पांच सदस्यीय एसआईटी बनायी गयी है जो युवा आईएएस अधिकारी की मौत के कारणों की जांच करेगी। उत्तर प्रदेश के संसदीय कार्य मंत्री सुरेश कुमार खन्ना ने विधानसभा में कहा कि दिवंगत आईएएस अधिकारी कर्नाटक में कांग्रेस के नेतृत्व वाली सरकार के करोडों रुपए के घोटाले का पदार्फाश करने वाले थे। आईएएस अधिकारी अनुराग तिवारी का शव बुधवार को हजरतगंज में मीराबाई मार्ग स्थित वीआईपी गेस्ट हाउस के निकट संदिग्ध परिस्थितियों में पाया गया था। विपक्षी सदस्यों का आरोप था कि तिवारी की हत्या की गयी है। तिवारी बेंगलूरू में खाद्य, नागरिक आपूर्ति एवं उपभोक्ता मामलों के विभाग में आयुक्त के पद पर तैनात थे। जिस जगह उनका शव पाया गया, वह अत्यंत कड़ी सुरक्षा वाले विधान भवन से लगभग एक किलोमीटर दूर है।

अनाज और दूध पर टैक्स नहीं, एसी-फ्रिज होगा सस्ता

श्रीनगर। गुड्स ऐंड सर्विसेज टैक्स के तहत अधिकतर वस्तुओं की टैक्स दरों को लेकर केंद्र और राज्यों के बीच सहमति बन गई है। श्रीनगर में गुरुवार को शुरू हुई दो दिवसीय जीएसटी काउंसिल की बैठक में रोजमर्रा की चीजों पर टैक्स रेट घटाने का फैसला लिया गया। नए टैक्स सिस्टम के तहत कई जरूरी चीजों की कीमतें कम हो सकती हैं। अनाज और दूध को टैक्स मुक्त कर दिया गया है। प्रोसेस्ड फूड भी सस्ते हो जाएंगे। मिठाई, इडेबल आॅइल, चीनी, चायपत्ती, कॉफी और कोयले को 5% टैक्स स्लैब में रखा गया है। हेयर आॅइल, टूथ पेस्ट और साबुन पर 18 फीसदी टैक्स लगाया जाएगा। अभी इन पर 28 फीसदी टैक्स लगता है। कोयले और मसालों पर भी 5% टैक्स लगेगा। एंटरटेंनमेंट, होटल और रेस्त्रा में खाने पर 18 पर्सेंट टैक्स लगेगा। छोटी कारों पर 28 फीसदी टैक्स के अलावा सेस लगाया जाएगा। लग्जरी कारों पर टैक्स के अलावा 15% सेस जोड़ा जाएगा। एसी और फ्रिज को भी 28 फीसदी टैक्स दायरे में रखा गया है। हालांकि अभी इन पर अभी 30-31 फीसदी टैक्स लगता है। वित्त मंत्री अरुण जेटली ने यहां मीडियाकर्मियों से कहा, किसी भी वस्तु पर बढ़ोतरी नहीं की गई है। कई चीजों पर टैक्स की दरें कम हो जाएंगी। विचार यह है कि जीएसटी का असर महंगाई बढ़ाने वाला ना हो। वहीं राजस्व सेक्रेटरी हसमुख अधिया ने रिपोटर्स को बताया कि 1211 आइट्मस में से 7% को छूट के दायरे में रखा गया है। 14% वस्तुओं को 5% के दायरे में रखा गया है। 17% पर 12% टैक्स लगेगा। 43% आइट्मस को 18 पर्सेंट टैक्स लिया जाएगा। अन्य 19% वस्तुओं पर 28 फीसदी टैक्स देना होगा। सोने और बीड़ी पर टैक्स स्लैब का फैसला शुक्रवार को होगा। सर्विस टैक्स की दरें भी दूसरे दिन ही तय की जाएंगी।

आखिरी फैसले तक जाधव को फांसी नहीं

हेग। इंटरनेशनल कोर्ट आॅफ जस्टिस ने पाकिस्तान की जेल में बंद भारतीय नागरिक कुलभूषण जाधव की फांसी की सजा पर रोक लगा दी। कोर्ट ने गुरुवार को कहा- हमारा आखिरी फैसला आने तक जाधव को फांसी नहीं दी जा सकती। भारत को इस मामले में दूसरी कामयाबी भी मिली। कोर्ट ने पाक से कहा- वियना कन्वेंशन के तहत आपको जाधव को कॉन्स्यूलर एक्सेस भी देना होगा। पाक ने जाधव को भारत का जासूस बताते हुए पिछले साल गिरफ्तार किया था। मिलिट्री कोर्ट ने पिछले महीने उसे फांसी की सजा सुनाई थी। भारत ने इंटरनेशनल कोर्ट में इसके खिलाफ अपील की थी। इंटरनेशनल कोर्ट में पाक के खिलाफ भारत को 18 साल बाद फिर जीत मिली है। 1999 में भी एक मामले में कोर्ट ने पाक के दावे को खारिज कर दिया था। कोर्ट ने भारतीय वक्त के मुताबिक दोपहर 3.30 बजे फैसला सुनाया। इस दौरान चीफ जस्टिस रोनी अब्राहम और बाकी 10 जज मौजूद थे। अब्राहम ने सबसे पहले दोनों देशों की तरफ से मंगलवार को पेश की गईं दलीलों की समरी पढ़कर सुनाई। इसके बाद आॅर्डर आॅफ मैरिट पढ़कर सुनाया। अब्राहम ने कहा, भारत और पाक दोनों वियना कन्वेंशन का हिस्सा हैं। उन्हें जिम्मेदार देश की तरह बर्ताव करना होगा। पाकिस्तान जाधव पर भारत को कॉन्स्यूलर एक्सेस दे। जब तक ये कोर्ट उस पर आखिरी फैसला नहीं सुना देता तब तक उसे मिलिट्री कोर्ट द्वारा दी गई फांसी की सजा पर अमल नहीं किया जा सकता। जाधव को मर्सी पिटीशन दायर करने का हक है। सिविलाइज्ड सोसायटी में हर देश को पहले से तय नतीजे पर सजा देने का अधिकार नहीं है।
पाक को सबूत भी देने होंगे
-इस फैसले में एक बेहद अहम बात है। कोर्ट ने पाकिस्तान से साफ कहा है कि उसे ये कोर्ट को सबूतों के साथ बताना होगा कि उसे जो आॅर्डर इंटरनेशनल कोर्ट ने दिए हैं, उन पर किस तरह अमल किया गया।
क्या है वियना कन्वेंशन?
– वियना कन्वेंशन 1963 में अलग-अलग देशों के लोगों को विदेशों में कॉन्स्यूलर एक्सेस देने के लिए बना था।
– कन्वेंशन के आर्टिकल 36 के तहत अगर किसी देश में विदेशी नागरिक क्रिमिनल या इमिग्रेशन आरोपों में हिरासत में लिया जाता है या अरेस्ट किया जाता है, तो उसे कॉन्स्यूलर एक्सेस पाने का हक है। यानी वह अपने देश के दूतावास से संपर्क कर सकता है।

18 साल पहले थे आमने-सामने
– 10 अगस्त 1999 को इंडियन एयरफोर्स ने गुजरात के कच्छ में पाकिस्तान नेवी के एक एयरक्राफ्ट एटलांटिक को मार गिराया था। इसमें सवार सभी 16 सैनिकों की मौत हो गई थी।
– पाकिस्तान का दावा था कि एयरक्राफ्ट को उसके एयरस्पेस में मार गिराया गया। उसने इस मामले में भारत से 6 करोड़ डॉलर मुआवजा मांगा था। इंटरनेशनल कोर्ट की 16 जजों की बेंच ने 21 जून 2000 को 14-2 से पाकिस्तान के दावे को खारिज कर दिया।

माओवादियों के संपर्क में थीं नंदिनी सुंदर और बेला भाटिया

रायपुर। छत्तीसगढ़ के सुकमा में बीते 24 अप्रैल को हुए नक्सली हमले और 2010 में ताड़मेटला हत्यकांड में शामिल एक सक्रिय माओवादी ने कथित रूप से यह बात मानी है कि दिल्ली यूनिवर्सिटी की प्रफेसर नंदिनी सुंदर और अधिकार कार्यकर्ता बेला भाटिया उसके जरिए बड़े माओवादी नेताओं के संपर्क में थीं। माओवादी पोडियम पांडा ने पुलिस के आगे ‘सरेंडर’ करने के बाद यह बात कही। यहां रायपुर में एक प्रेस कॉन्फ्रेंस में पांडा ने कहा कि वह दक्षिण बस्तर में सीनियर माओवादियों और नंदिनी सुंदर व बेला भाटिया के बीच एकमात्र लिंक था। पांडा ने बताया कि वह ऐक्टिविस्ट्स को दिल्ली से मोटर बाइक पर सुकमा के घने जंगलों में माओवादियों से मीटिंग कराने ले जाता था। इन ऐक्टिविस्ट्स में सुंदर और भाटिया भी शामिल थीं। जिन माओवादियों से मुलाकात कराई जाती थी, उनमें रमन्ना, हिडमा, पपाराव आयतु, अर्जुन और अन्य शामिल थे। पांडा ने बताया कि वह उनके लिए संदेशवाहक का भी काम करता था।
नंदिनी ने दावे को झूठा बताया
इस खबर को लेकर जब नंदिनी सुंदर से संपर्क किया गया तो उन्होंने कहा, यह झूठ है और पुलिस कस्टडी में बलपूर्वक बुलवाया गया है। वहीं पांडा की पत्नी ने छत्तीसगढ़ हाई कोर्ट में अपनी बंदी-प्रत्यक्षीकरण याचिका में आरोप लगाया है कि बीते 3 मई को पांडा को सीआरपीएफ और जिला पुलिस की संयुक्त टीम द्वारा जबर्दस्ती कैद किया गया।
एसपी अभिषेक मीणा ने की पुष्टि
सुकमा के एसपी अभिषेक मीणा ने बताया, माओवादी पोडियम पांडा माओवादियों के अंदर के कैडर और दिल्ली, रायपुर व अन्य शहरों के नेटवर्क सिस्टम के बीच बतौर लिंक काम कर रहा था। वह कई लड़ाइयों में भी शामिल रहा। पुलिस को दिए बयान में उसने माना, कि वह बुरकापाल घटना में शामिल था और सीआरपीएफ के जवानों पर इनसास राइफल से हमला किया था। पांडा 2010 के ताड़मेटला हत्याकांड में भी शामिल था जिसमें 75 सीआरपीएफ जवानों की मौत हो गई थी।

 डॉ. जॉनसन को मिला रिसर्च अवॉर्ड

–दलहन फसलों में उल्लेखनीय अनुसंधान कार्य के लिए मिला सम्मान
रायपुर। शासकीय कृषि महाविद्यालय रायपुर के आनुवांशिकी एवं पादप प्रजनन विभाग के पादप प्रजनक डॉ. पी.एल. जॉनसन को नेपाल में पिछले सप्ताह आयोजित अंतर्राष्ट्रीय संगोष्ठी में सर्टिफिकेट आॅफ मेरिट-एक्सिलेन्स इन रिसर्च एवार्ड-2017 से सम्मानित किया गया है। डॉ. जॉनसन को विगत 12 वर्षों से दलहनी फसलों-चना, मूंग, उड़द, मटर इत्यादि में उल्लेखनीय अनुसंधान कार्य के लिए यह सम्मान मिला है। डॉ. जॉनसन ने इंदिरा गांधी कृषि विश्वविद्यालय द्वारा विकसित इंदिरा चना-1, इंदिरा उडद-1, तथा इंदिरा मटर-1 के विकास में सक्रिय योगदान दिया है। डॉ. जॉनसन के नेतृत्व में चने की नई किस्म इंदिरा चना-2 विकसित करने की प्रक्रिया चल रही है। इस अंतर्राष्ट्रीय संगोष्ठी में विश्वविद्यालय के तीन अन्य वैज्ञानिकों डॉ. जीवन लाल नाग, डॉ. ललित रामटेके एवं श्री एस.एस. पोर्ते को भी सम्मानित किया गया। उल्लेखनीय है कि डॉ. जॉनसन ने 5जी इन्टरनेशनल कोर्स आॅन सीड जिन बैंक मेनेजमेन्ट एण्ड प्लान्ट एण्ड मेक्रो फंगस जेनेटिक रिसोर्सेस में हिस्सा लिया। यह अयोजन इन्टरनेशनल एग्रीकल्चर रिसर्च ट्रेनिंग सेन्टर इजमिर, टर्की में 8 से 12 मई 2017 को हुआ था। इस आयोजन में लगभग सात देशों के 10 वैज्ञानिकों ने विशेष प्रशिक्षण लिया। इस आयोजन में डॉ. जॉनसन ने छत्तीसगढ़ राज्य एवं भारत देश में दलहन अनुसंधान पर विशेष प्रकाश डाला तथा दलहन उत्पादन तकनीक की बारीकियों को विस्तार से बताया। इसमें बांग्लादेश, इजिप्ट, मोरक्को, अलजीरिया, अजरबेजान, सूडान एवं टर्की के कृषि विशेषज्ञ शामिल हुए। उन्नत कृषि तकनीक के प्रति किसानों को प्रेरित करने इंदिरा गांधी कृषि विश्वविद्यालय रायपुर द्वारा कुलपति डॉ. एस.के. पाटील के मार्गदर्शन में डॉ. कृष्ण कुमार साहू, प्रमुख वैज्ञानिक तथा सूचना एवं जनसंपर्क अधिकारी द्वारा रचित गीत (चलौव-चलौव भई किसान) पर आधारित वीडियो की प्रस्तुति डॉ. जॉनसन ने की। डॉ. जॉनसन एवं अन्य वैज्ञानिकों की उपलब्धि पर विश्वविद्यालय के कुलपति डॉ. एस.के. पाटील, संचालक अनुसंधान डॉ. जे.एस. उरकुरकर, अधिष्ठाता कृषि महाविद्यालय रायपुर डॉ. एस.एस. राव, आनुवांशिकी एवं पादप प्रजनन विभाग के विभागाध्यक्ष डॉ. ए.के. सरावगी, मृदा विज्ञान एवं रसायन शास्त्र विभाग के विभागाध्यक्ष डॉ. आर.के. बाजपेयी तथा विश्वविद्यालय परिवार ने बधाई दी।

सत्य सांई अस्पताल को रोटरी क्लब ग्रेटर देगा कैथ लैब मशीन

रायपुर। रोटरी क्लब ग्रेटर तथा रोटरी बिरादरी 3261 को रोटरी इंटरनेशनल यूएसए ने तीन करोड़ रुपए के ग्लोबल ग्रांट को पास कर दिया है। इस प्रॉजेक्ट को पूरा किये जाने की जिम्मेदारी रोटरी क्लब ग्रेटर के अध्यक्ष राज दुबे को सौंपी गई है। रोटरी जगत में रोटरी इंटरनेशनल यूएसए द्वारा किसी इतने बड़े प्रोजेक्ट का पास होना बहुत बड़ी उपलब्धि माना जाता है। इसमें रोटरी इंटरनेशनल की बहुत ही सूक्ष्म से सूक्ष्म जाँच से गुजर कर रोटरी इंटरनेशनल द्वारा भेजा आडीटर जाँच कर इसे अनुमोदित करता है। इस प्रोजेक्ट का आडिट करने इजरायल के विश्व प्रसिद्ध डॉ. डैन शानित (शिशु विशेषज्ञ) रायपुर आये और आडिट करने के बाद उन्होंने कहा कि मेरे 40 साल के कार्यकाल में इतनी कुशलता से बनाया गया यह पहला प्रोजेक्ट है, जिसमें कोई खामी नहीं है बहुत ही सही जगह, सही हाथो में जा रहा है। यह प्रोजेक्ट (कैथ लैब) है। इस प्रोजेक्ट मे रोटरी क्लब ग्रेटर एक कैथ लैब मशीन श्री सत्य सांई संजीवनी अस्पताल, नया रायपुर को देगा। इसके लगने से बच्चों के दिल के आपरेशन होंगे। अभी करीब 700 आपरेशन होते हैं पर इस मशीन के लग जाने के बाद एक हजार आपरेशन होंगे। इस मशीन के कारण बच्चों के माता पिता का करीब 30 से 40 हजार रुपए और बच जायगा जो उन्हे आपरेशन से पहले जाँच करवाना पड़ता था। इस प्रोजेक्ट को मूर्त रूप देनें में क्लब के रोटरी संतोष अग्रवाल , रोटरी हरजीत सिंग हूरा, रोटरी रंजन नथानी, पूर्व अध्यक्ष रोटरी राजेन्द्र सुराना, गवर्नर मेजर दीपक मेहता एवं अध्यक्ष रोटरी राज दुबे का सबसे जादा योगदान रहा।

नहीं रहे पर्यावरण मंत्री अनिल माधव

नई दिल्ली।  केंद्रीय मंत्री अनिल माधव दवे का दिल का दौरा पड़ने से निधन हो गया। अनिल माधव मोदी सरकार में पर्यावरण मंत्री थे, 61 साल की उम्र में उनका दिल का दौरा पड़ने से निधन हो गया। वह एम्स में भर्ती थे, वहीं उन्होंने अंतिम सांस ली। पीएम मोदी ने ट्वीट कर पर्यावरण मंत्री अनिल माधव के निधन पर शोक जताया है और कहा है कि उनका जाना व्यक्तिगत नुकसान है। पीएम ने बताया कि बीती शाम तक वह अनिल माधव के साथ थे और पर्यावरण से जुड़े प्रमुख नीतिगत मामलों पर चर्चा कर रहे थे। पीएम मोदी ने कहा कि वह अचानक अपने कॉलीग और दोस्त के निधन से बेहद हैरान हैं। दवे आज सुबह कुछ असहज महसूस कर रहे थे, जिसके बाद उन्हें एम्स ले जाया गया था।दवे साल 2009 से राज्यसभा के सदस्य थे।