Daily Archives: June 3, 2017

सेना मुख्यालय में तबादला रैकेट का भंडाफोड़

नई दिल्ली। सीबीआइ ने सेना में अवैध तबादला और पोस्टिंग रैकेट का भंडाफोड़ किया है। जांच एजेंसी ने इस संबंध में सेना मुख्यालय में तैनात लेफ्टिनेंट कर्नल रंगनाथन सुव्रमणि मोनी और एक बिचौलिये गौरव कोहली को गिरफ्तार किया है। सीबीआइ सूत्रों ने शनिवार को यह जानकारी दी। इस रैकेट में कुछ और वरिष्ठ अधिकारियों के शामिल होने की आशंका के चलते सेना में खलबली मची है। सूत्रों ने बताया कि ले. कर्नल मोनी को बेंगलुरु में तैनात एक अधिकारी के तबादले के लिए दो लाख रुपये घूस लेते रंगे हाथ गिरफ्तार किया गया है। जांच एजेंसी को कुछ वरिष्ठ सैन्य अधिकारियों की अवैध गतिविधियों के बारे में भी पता चला था। इसके बाद उसने दोनों को गिरफ्तार करने के लिए जाल बिछाया। सूत्रों के अनुसार, जांच एजेंसी ने सेना मुख्यालय में तैनात वरिष्ठ अधिकारियों से जुड़े रैकेट का पर्दाफाश किया है। रैकेट में शामिल अधिकारी कथित तौर पर मनचाही तैनाती के लिए घूस के रूप में बड़ी राशि ले रहे थे। एक-एक तबादले के लिए लाखों रुपये घूस में ली जा रही थी। इस मामले में लेफ्टिनेंट कर्नल रंगनाथन सुव्रमणि मोनी (सेना मुख्यालय, कार्मिक विभाग), हैदराबाद में तैनात सैन्य अफसर पुरुषोत्तम, बेंगलुरु में सैन्य अधिकारी एस सुभाष तथा बिचौलिया गौरव कोहली के खिलाफ मामला दर्ज किया गया है। एफआइआर में ब्रिगेडियर एसके ग्रोवर का भी नाम है। वह डीडीजी कार्मिक हैं। हालांकि आरोपियों की सूची में उनका नाम नहीं है। सीबीआइ ने एफआइआर में आरोप लगाया है कि हवाला रैकेट के जरिये रिश्वत दी जा रही थी। एजेंसी यह भी जांच कर रही है कि सेना के कितने अधिकारियों ने घूस देकर मनचाही तैनाती पाई है। सीबीआइ का आरोप है कि लेफ्टिनेंट मोनी ने विभिन्न अधिकारियों के मनचाहे तबादले के लिए पुरुषोत्तम और कोहली के साथ मिल आपराधिक साजिश रची। पुरुषोत्तम काकीनाडा स्थित इंजीनियर कार्यालय विभाग (ईएसडी) में सैन्य अधिकारी है। उसने सेना के उन अधिकारियों से संपर्क किया, जो अलग-अलग क्षेत्रों में तैनात थे और उनका तबादला होने वाला था तथा वे मनचाही पोस्टिंग चाहते थे।

अमला ने तोड़ा विराट कोहली का एक और रेकॉर्ड

नई दिल्ली।साउथ अफ्रीका के ओपनर हाशिम अमला ने भारतीय कप्तान विराट कोहली का एक और रेकॉर्ड अपने नाम कर लिया। अमला ने अपने वनडे करियर की 25वीं सेंचुरी लगाई। अमला ने शनिवार को लंदन में चैंपियंस ट्रोफी मुकाबले में श्री लंका के खिलाफ 112 गेंदों पर पांच चौकों और दो छक्कों की मदद से सेंचुरी पूरी की। अमला 115 गेंदों पर 103 रन बनाकर रन आउट हो गए। अमला ने 151वीं पारी में 25वीं सेंचुरी लगाई। उन्होंने सबसे तेज 25 सेंचुरी बनाने का रेकॉर्ड अपने नाम कर लिया। उन्होंने विराट कोहली के 162 पारियों में 25 वनडे सेंचुरी बनाने के रेकॉर्ड को तोड़ दिया। इतना ही नहीं वह वनडे इंटरनैशनल में 25 सेंचुरी लगाने वाले पहले दक्षिण अफ्रीकी बल्लेबाज भी बन गए। इससे पहले इसी हफ्ते अमला ने विराट कोहली के सबसे तेज 7000 वनडे रन बनाने का रेकॉर्ड तोड़ा था। अमला ने इंग्लैंड के खिलाफ खेले गए वनडे में यह रेकॉर्ड अपने नाम किया था। 29 मई को खेले गए वनडे इंटरनैशनल में उन्होंने 150वीं पारी में 7000 वनडे रन पूरे किए थे वहीं कोहली ने 169 पारियों में यह मुकाम हासिल किया था।

मलिन बस्ती में योगी आदित्यनाथ

Lucknow. उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ जी ने आज जनपद मिर्जापुर भ्रमण के दौरान मलिन बस्ती एवं जिला अस्पताल का निरीक्षण किया। उन्होंने नगर की मलिन बस्ती-मोहल्ला डंगहर के निवासियों से उनकी समस्याओं के बारे में जानकारी लेते हुए आवास व राशन कार्ड के बारे में पूछा। उन्होंने इस अवसर पर जिलाधिकारी को निर्देश दिए कि मलिन बस्तियों में गरीबी रेखा के नीचे जीवनयापन करने वालों का सत्यापन कराकर पात्रता के आधार पर नियमानुसार आवास, राशन कार्ड, पेंशन व अन्य सरकारी सुविधाएं मुहैया कराई जाएं। मुख्यमंत्री ने मिर्जापुर के जिला अस्पताल के औचक निरीक्षण के दौरान गन्दगी पर अप्रसन्नता व्यक्त की। उन्होंने अपर निदेशक स्वास्थ्य को निर्देशित किया कि साफ-सफाई की व्यवस्था सुनिश्चित की जाए। अस्पताल परिसर, वाॅर्डों के आस-पास व सीढ़ियों पर कोई भी व्यक्ति पान/गुटका खाकर थूकता हुआ पाया जाता है, तो उसके विरुद्ध कार्यवाही की जाए। उन्होंने इमरजेन्सी वाॅर्ड में मरीजों से मुलाकात कर अस्पताल से मिलने वाले सुविधाओं के बारे में जानकारी ली। इस दौरान मुख्यमंत्री ने ब्लड बैंक का निरीक्षण भी किया।
योगी जी ने जिला पंचायत सभागार में सांसद, विधायकगण तथा मण्डल के प्रमुख जनप्रतिनिधियों के साथ बैठक की तथा जनपद के विकास कार्यों के बारे में जानकारी प्राप्त की। उन्होंने जिलाधिकारी को निर्देश दिए कि माँ विन्ध्यवासिनी के धाम विन्ध्याचल के सर्वांगीण विकास के लिए प्रस्ताव बनाकर शासन को उपलब्ध कराएं, जिसमें सड़कों का चौड़ीकरण, अण्डर ग्राउण्ड विद्युतीकरण, घाटों की सफाई व मरम्मत, यात्रियों की सुविधा के लिए धर्मशाला, पेयजल की व्यवस्था आदि को सम्मिलित किया जाए। उन्होंने कहा कि नवरात्रि मेले को और भव्य बनाने के लिए प्रस्ताव बनाकर शासन को उपलब्ध कराएं।

मंत्री ने अधिकारियों को फटकार लगाई

वाराणसी । यूपी की बेसिक शिक्षा मंत्री (स्वतंत्र प्रभार) अनुपमा जायसवाल शनिवार को बनारस में पूरे एक्शन में दिखीं। फर्म्स सोसायटीज एवं चिट्स कार्यालय का निरीक्षण किया तो पीएम नरेंद्र मोदी के जनसम्पर्क कार्यालय में बैठ लोगों की शिकायतें सुनी।
कार्यालय के निरीक्षण में कई कर्मचारी गायब मिले। गंदगी देख भड़की मंत्री ने अधिकारियों को जमकर फटकार लगाई। अधिकारियों पर 3 लाख रुपये रिश्वत मांगने के आरोप पर उन्होंने इसकी जांच के आदेश दिए। पीएम के जनसम्पर्क कार्यालय में एक घंटे बैठने के दौरान तीन दर्जन से ज्यादा लोग शिकायत लेकर पहुंचे। मीडिया से बातचीत में मंत्री अनुपमा जायसवाल ने कहा कि शिक्षा का बाजारीकरण नहीं होने दिया जाएगा। सरकार का पूरा ध्यान बेसिक शिक्षा को बेहतर करने का है। सरकारी विद्यालयों की हालत सुधारने को हमारी कोशिश है कि सांसद-विधायक एक-एक स्कूल को गोद लें। इससे शिक्षा और व्यवस्था, दोनों दुरुस्त हो जाएगी। बच्चों की उपस्थिति भी बढ़ेगी।

ठिरिया दान गांव के लोगों ने एकता की मिसाल पेश की

मुरादाबाद। जहां धर्मस्थल पर लाउडस्पीकर लगाने और बजाने के कारण सांप्रदायिक माहौल बिगड़ने के हालात पैदा हो जाते हैं, वहीं जिले के भगतपुर थाना क्षेत्र के ठिरिया दान गांव के लोगों ने एकता की मिसाल पेश की है। गांव के दोनों समुदाय के लोगों ने मस्जिद और मंदिर दोनों से आपसी सहमति से लाउडस्पीकर उतार कर भाईचारे का परिचय दिया है। इसके अलावा दोनों समुदाय के लोगों ने यह भी निर्णय लिया कि आने वाले समय में किसी भी धार्मिक कार्य में लाउडस्पीकर का प्रयोग नहीं किया जाएगा। ये गांव अधिकतर दो समुदायों के बीच विवाद में घिरा रहता था, लेकिन आपसी सहमती और हंसी-खुशी से लिया गया ये फैसला निसंदेह काबिले तारीफ है। समुदाय के दोनों पक्षों ने हुए आपसी समझौते को बाकायदा लिख कर उसे थाने में भी दे दिया है। फिलहाल गांव वालों ने ये फैसला करके एक मिसाल कायम कर दी है ताकि आपस में कोई विवाद न हो और भाईचारा बना रहे। गांव के रहने वाले हेमंत शर्मा का कहना है, ‘हमारे मंदिर पर दो लाउडस्पीकर थे, जबकि मस्जिद पर सात लगे हुए थे। हमने कहा था कि मस्जिद पर दो लगा लो हम भी दो ही लगाए रखेंगे। लेकिन वो लोग नहीं माने। फिर पंचायत बैठी और दोनों तरफ से तय हुआ कि दोनों धर्मस्थल से लाउडस्पीकर उतार लिए जाएं। आपस में सहमति बन गई और हमने अपना लाउडस्पीकर उतार लिया।’

9 जून को रिलीज होगी ‘ए हमार जान तोहरा में बसेला प्राण’

राईज इंडिया प्रोडक्शन इन असोसिएशन बिथ चौधरी सिनेविजन प्रस्तुत फिल्म ‘ए हमार जान तोहरा में बसेला प्राण’ आनेवाली 9 जून से बिहार झारखण्ड के सिनेमाघरों में रिलीज होने को तैयार है। निर्माता भारत भूषण कुमार व निर्देशक अमित कुमार वर्मा के इस फिल्म में भोजपुरी गायक व नायक रितेश पाण्डे हॉट सिने तारिका प्रियंका पंडित, आनंद मोहन, बृजेश त्रिपाठी, बंदनी मिश्रा, रत्नेश वर्णवाल, प्रीति सिंह, चंदन चौधरी, प्रमोद गुप्ता और साथ प्रेम दुबे है। फिल्म की कहानी सभी फिल्म से अगल और अनोखे ढंग से फिल्मया गया है। इस फिल्म के सभी गाने काफी पॉपुलर और कर्ण प्रिय है।

‘तेनाली राम’ में बरखा बिष्ट बनीं देवी कालीमाता

सोनी सब का आगामी शो ‘तेनाली राम’ अपने चर्चित और दिलचस्प सितारों के कारण चर्चा का विषय बना हुआ है। यह शो तेनाली राम पर आधारित है, वे कृष्ण्देवराय के दरबार में एक महान कवि हुआ करते थे। वे अपनी बुद्धिमानी भरे तरीकों का इस्तेमाल कठिन से कठिन परेशानियों को हल करने में किया करते थे। शो अपने चर्चित सितारों कृष्ण भारद्वाज और प्रियम्बदा कांत के साथ पहले ही सबकी नजर में आ चुका है। इन कलाकारों को मुख्य भूमिकाएं निभाने के लिये शामिल किया गया है। सितारों की इस फेहरिस्त में जुड़ने वाले नये कलाकारों में खूबसूरत अभिनेत्री बरखा बिष्ट शामिल हुईं, जो अपने विविधतापूर्ण अभिनय के लिये मशहूर हैं। बरखा शो में कैमियों किरदार निभायेंगी, जिसमें वह देवी काली की महत्वपूर्ण भूमिका में होंगी। देवी काली से आशीर्वाद मिलने के बाद से ही तेनाली को शास्त्रों का महान ज्ञान प्राप्त हुआ था। वे उन्हें विकतावी होने का आशीर्वाद देती हैं, अपनी बुद्धिमत्ता से प्रभावित करने के बाद कृष्णदेवराय के दरबार में एक मसखरे कवि बन जाते हैं। बेहद खुश नजर आ रहीं बरखा बिष्ट ने कहा, तेनाली राम का हिस्सा बनकर मैं बेहद रोमांचित हूं, जो बहुत ही मजेदार लोककथा है। भले ही यह मेहमान भूमिका है, इसके बावजूद शो के लिये काफी महत्वपूर्ण है और परदे पर एक देवी की भूमिका निभाने के लिये बहुत उत्साहित हूं। मैंने जो अब तक किया है, उससे यह भूमिका अलग है और दर्शक मुझे एक बिल्कुल नये अवतार में देखने के लिये तैयार हो जायें। मुझे पूरी उम्मीद है कि दर्शकों को शो में मेरी छोटी सी भूमिका पसंद आयेगी।

किशोर वैज्ञानिक प्रोत्साहन योजना फेलोशिप में 10 छात्र चयनित

–प्रत्येक छात्र को उच्च शिक्षा हेतु मिलेंगे 4,92,000 रूपये
लखनऊ। सिटी मोन्टेसरी स्कूल, गोमती नगर (प्रथम कैम्पस) के 10 मेधावी छात्रों ने भारत सरकार की किशोर वैज्ञानिक प्रोत्साहन योजना (के.वी.पी.वाई फेलोशिप) हेतु चयनित होकर विद्यालय का नाम पूरे देश में गौरवान्वित किया है। यह जानकारी सी.एम.एस. के मुख्य जन-सम्पर्क अधिकारी श्री हरि ओम शर्मा ने दी है। श्री शर्मा ने बताया कि के.वी.पी.वाई फेलोशिप हेतु चयनित छात्रों को विज्ञान वर्ग में स्नातक तक की पढ़ाई के दौरान प्रति माह रू. 5,000/- स्काॅलरशिप तथा आकस्मिक खर्चे के रूप में रू. 20,000/- वार्षिक मिलेगा तथा एम.एस.सी. स्तर की पढ़ाई के दौरान प्रति माह रू. 7,000/- स्काॅलरशिप तथा आकस्मिक खर्चे के रूप में रू. 28,000/- वार्षिक मिलेगा। इस प्रकार पाँच वर्षों की उच्चशिक्षा अवधि के दौरान प्रत्येक छात्र को रु. 4,92,000/- रूपये प्रदान किये जायेंगे। इस प्रतिष्ठित फेलोशिप हेतु चयनित सी.एम.एस. गोमती नगर (प्रथम कैम्पस) के 10 मेधावी छात्रों में अमोल मिश्रा, अर्पण भट्ट, धनंजय जोशी, दिव्यांश सिंह, कात्यायन राजमीत, प्रत्यूष मिश्रा, शुभ अग्रवाल, उत्कर्ष गुप्ता, अमन तिवारी एवं अमन वर्मा शामिल हैं। श्री शर्मा ने बताया कि यह फेलोशिप विद्यालयों तथा स्नातक स्तर के छात्रों को रिसर्च कैरियर अपनाने के लिए प्रोत्साहित करने हेतु भारत सरकार की एक अत्यन्त ही महत्वाकांक्षी योजना है जिसका संयोजन भारतीय विज्ञान संस्थान, बंगलोर द्वारा किया जाता है। श्री शर्मा ने बताया कि इस फेलोशिप की चयन प्रक्रिया के अन्तर्गत बोर्ड परीक्षा में सर्वश्रेष्ठ परीक्षाफल अर्जित करने वाले अत्यन्त मेधावी छात्रों का एप्टीट्यूट टेस्ट एवं इण्टरव्यू लिया जाता है। यह फेलोशिप तभी तक प्रदान की जाती है जब तक छात्र प्रथम श्रेणी का एकेडमिक परफारमेन्स मेन्टेन करता रहता है। इस योजना में चयनित छात्र अपना आई.डी. कार्ड दिखाकर देश की किसी भी प्रसिद्ध नेशनल लेब्रोटरी, विश्वविद्यालय, लाइब्रेरी की सुविधा निःशुल्क प्राप्त कर सकता है।

सोने पर लगेगा 3 फीसदी जीएसटी

नई दिल्ली। जीएसटी काउंसिल की मीटिंग में काफी कशमकश के बाद सोने पर 3 फीसदी जीएसटी लगाने का फैसला लिया गया है। इससे पहले सोने को जीएसटी के 5 पर्सेंट के स्लैब में रखे जाने की चर्चा थी, लेकिन केरल को छोड़कर कोई भी राज्य इस पर सहमत नहीं था। गोल्ड और गोल्ड जूलरी पर 3 पर्सेंट टैक्स लगेगा। डायमंड पर भी 3 पर्सेंट टैक्स लगेगा, जबकि रफ डायमंड पर 0.25 फीसदी जीएसटी लागू होगा। जीएसटी काउंसिल की अगली मीटिंग 11 जून को होगी। जीएसटी काउंसिल ने ट्रांजिशन और रिटर्न्स समेत कई नियमों मंजूरी दे दी। वित्त मंत्री अरुण जेटली की अध्यक्षता में हुई मीटिंग में सभी राज्यों के फाइनैंस मिनिस्टर्स ने 1 जुलाई से जीएसटी को लागू किए जाने पर सहमति जताई।

किस पर, कितना टैक्स
टेक्सटाइल्स
कॉटन फैब्रिक/यान:र्जीएसटी के तहत 5% टैक्स लगाया जाएगा। अभी इस पर 0% टैक्स लगता है।
रेडीमेड गारमेंट: इस पर 12% टैक्स लगाया जाएगा। लेकिन, 1000 रुपए से कम के गारमेंट पर 5% जीएसटी लगाया जाएगा।

तेंदू पत्ता/बीड़ी
– अभी इस पर 20% टैक्स लगता है। बीड़ी के पत्ते पर 18% जीएसटी लगेगा। बीड़ी पर 28% टैक्स लगाया जाएगा, इस पर कोई सेस नहीं लगेगा।

बिस्किट
– अभी बिस्किट पर 12% से लेकर 20.5% टैक्स लगता है। जीएसटी के तहत सभी तरह के बिस्किट पर 18% टैक्स लगेगा।

क्या है जीएसटी?
– जीएसटी का मतलब गुड्स एंड सर्विसेज टैक्स है। इसको केंद्र और राज्यों के 17 से ज्यादा इनडायरेक्ट टैक्स के बदले में लागू किया जाएगा। ये ऐसा टैक्स है, जो देशभर में किसी भी गुड्स या सर्विसेज की मैन्युफैक्चरिंग, बिक्री और इस्तेमाल पर लागू होगा। इससे एक्साइज ड्यूटी, सेंट्रल सेल्स टैक्स (सीएसटी), स्टेट के सेल्स टैक्स यानी वैट, एंट्री टैक्स, लॉटरी टैक्स, स्टैंप ड्यूटी, टेलिकॉम लाइसेंस फीस, टर्नओवर टैक्स, बिजली के इस्तेमाल या बिक्री और गुड्स के ट्रांसपोर्टेशन पर लगने वाले टैक्स खत्म हो जाएंगे।
बाजार होगा एक समान
सरल शब्दों में कहें तो जीएसटी पूरे देश के लिए इनडायरेक्ट टैक्स है, जो भारत को एक समान बाजार बनाएगा। जीएसटी लागू होने पर सभी राज्यों में लगभग सभी गुड्स एक ही कीमत पर मिलेंगे। अभी एक ही चीज के लिए दो राज्यों में अलग-अलग कीमत चुकानी पड़ती है। इसकी वजह अलग-अलग राज्यों में लगने वाले टैक्स हैं। इसके लागू होने के बाद देश बहुत हद तक सिंगल मार्केट बन जाएगा।

प्रतियोगिता के विजयी बच्चे किये गये पुरस्कृत

लखनऊ। गीता परिवार उत्तर प्रदेश के तत्वावधान में शनिवार को 12 संस्कार पथ शिविरों संचालन किया गया। शिव पार्क, बावली चैकी, एसवीपी कालेज के पीछे, सहादतगंज में शनिवार से शिविर प्रारम्भ किया गया। नीलकंठेश्वर मंदिर, श्री गोवर्धननाथ जी हवेली, सेन्ट्रल पार्क, ऐशबाग में शिविरों का समापन किया गया। अन्य शिविरों में प्राथमिक विद्यालय, बबुरियाखेड़ा काकोरी में, मालवीय पल्ली कालोनी पार्क, मालवीय नगर में, तालकटोरा लेबर कालोनी पार्क, राजाजीपुरम में, अग्रसेन पार्क, तिलकनगर में, टयूबेल वाला पार्क, मोतीझील में, पूर्व माध्यमिक विद्यालय, राजापुर पोस्ट सिगरामऊ में, बिरहाना पार्क, बिरहाना मंे, साई बाबा मंदिर, मोतीनगर में शिविर अपने चरर्मोत्कर्ष पर है।पीयूष जायसवाल ने बताया कि शनिवार को नीलकंठेश्वर मंदिर, राजेन्द्र नगर और श्री गोवर्धननाथ जी हवेली, राजाबाजार में संस्कार पथ शिविरों का समापन किया गया। समापन शिविरों पर मुख्य अतिथियों में इंद्रमती पाण्डेय, कुमकुम भटनागर, सदस्या, गीता परिवार, अनुराग पाण्डेय, महासचिव, गीता परिवार, उत्तर प्रदेश उपस्थित थे। शिविर आयोजक का स्वागत एवं अभिनंदन शिविर संयोजकों ने गीता परिवार का स्मृति चिन्ह भेंट कर किया। अच्छी आदतों की सूची- देवांश माहेश्वरी, महापुरुषों के नामांे- अंशवी माहेश्वरी, भगवती स्तोत्र- काव्या रस्तोगी, सर्वश्रेष्ठ शिविरार्थी- आर्यन माहेश्वरी, रचनात्मक कार्य- मणि रस्तोगी, ऋषि राजपूत, भगवदगीता- शिवेक, वेदांश, भगवती स्त्रोत व सर्वश्रेष्ठ शिविरार्थी- मुकेश गौतम और संस्कार तरंग- आर्यन, मनिका, किरन, मुकेश को मुख्य अतिथियों ने पुरस्कृत किया। सभी शिविरों मेें प्रार्थना, मंगल स्मरण, ध्यान, भगवद्गीता, भगवती स्त्रोत, गीत, प्रात्यक्षिक, म्यूजिक योगासन, बैठक खेल, हनुमान चालीसा, संपूर्ण वंदेमातरम इत्यादि करायंे गये।