Daily Archives: June 6, 2017

छह माह में उत्तर प्रदेश को 100 ई-हॉस्पिटल

लखनऊ । केंद्रीय विधि एवं संचार मंत्री रविशंकर प्रसाद ने कहा कि प्रदेश में छह माह के भीतर सौ जिला अस्पताल ई-हॉस्पिटल हो जाएंगे। इन अस्पतालों में मोबाइल से रजिस्ट्रेशन कराया जा सकेगा। स्वास्थ्य सुविधाओं की दिशा में यह एक बड़ा कदम है। उन्होंने कहा कि हम चाहते हैं कि यूपी डिजिटल इंडिया बने। इसके लिए यहां आइटी क्षेत्र को मजबूत किया जा रहा है। हाईकोर्ट में कामन सर्विस सेंटर शुरू करने के बाद एनेक्सी में मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के साथ पत्रकारों से वार्ता में रविशंकर ने कहा कि यूपी के विकास के लिए आइटी क्षेत्र में कई बड़े कदम उठाए जा रहे हैं। मुख्यमंत्री योगी भी सहयोग कर रहे हैं। छोटे जिलों में बीपीओ सेंटर बनाए जा रहे हैं। गाजीपुर, उन्नाव, बरेली, इलाहाबाद, लखनऊ में 1900 सीट अलाट की गई हैं। 1500 सीट का बीपीओ बुंदेलखंड को दिया गया है। मेरठ में सॉफ्टवेयर टेक्नोलॉजी पार्क बनाया जा रहा है। उन्होंने कहा प्रदेश में 32 मोबाइल फैक्ट्री आई हैं। बुधवार को सैमसंग कंपनी के विस्तार की योजना शुरू होगी। इस कंपनी को पिछली सरकार में सपोर्ट नहीं मिला।

राजीव गांधी के अपमान से आहत कांग्रेसियों का राजभवन में डेरा

लखनऊ । राजीव गांधी की प्रतिमा तोड़े जाने से आक्रोशित कांग्रेस नेताओं ने आज राज्यपाल राम नाईक को ज्ञापन सौंप दोषियों के खिलाफ कठोर कार्रवाई की मांग करते हुए महापुरुषों का अपमान करने की परंपरा बंद कराने को कहा। प्रदेश अध्यक्ष राजबब्बर के नेतृत्व में राजभवन पहुंचने वाले प्रतिनिधिमंडल में पीएल पुनिया, राजेश मिश्रा, प्रमोद तिवारी, संजय सिंह, सुहेल अंसारी, सत्यदेव त्रिपाठी व आराधना मिश्रा शामिल थे। उनकी नाराजगी प्रदेश में लचर होती कानून व्यवस्था को लेकर अधिक थी। उन्होंने आरोप लगाया कि मीरजापुर में मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के दौर में बाद जिस तरह स्व.राजीव गांधी की प्रतिमा को तोड़ा गया उससे प्रदेश के बिगड़े हालात जाहिर होते हैं।प्रदेश अध्यक्ष ने प्रतिमा तोडऩे वाले लोगों पर सख्त कार्रवाई करने की मांग करते हुए संबंधित पार्क में नई प्रतिमा लगाने व पार्क का सुंदरीकरण करने की मांग की। उन्होंने कहा कि महापुरुषों का अपमान करने की कार्रवाई राजनीतिक विद्वेष के तहत करायी जा रही है। जिस पर तत्काल प्रभावी रोक लगाने की मांग करते हुए कहा कि ऐसा न करने पर सामाजिक टकराव के हालात बने रहेंगे। ज्ञापन सौंपने के बाद राजबब्बर ने बताया कि राजनीतिक विद्वेष में की जा रही घटनाओं को लेकर कांग्रेस जनता के बीच में जाएगी। आरोप लगाया कि अल्पसमय में ही सरकार फेल साबित हो चुकी है। फ्लाप हो जाने की बौखलाहट में जनता का ध्यान बांटने की कोशिश की जा रही है।

 

नेपाल में शेर बहादुर देउबा चौथी बार बने प्रधानमंत्री

काठमांडू। नेपाल की संसद में विपक्ष का गतिरोध समाप्त होने के बाद हुए चुनाव में नेपाली कांग्रेस पार्टी के मुखिया शेर बहादुर देउबा को प्रधानमंत्री चुना गया है। नेपाली संसद के स्पीकर ओनसारी घार्ती ने बताया कि मंगलवार को हुए चुनाव में 593 सदस्यों वाले सदन के558 सदस्यों ने मतदान किया था। इनमें से देउबा के पक्ष में 388 वोट मिले। वह माओवादी पार्टी के प्रधानमंत्री पुष्प कमल दहल प्रचंड की जगह लेंगे। प्रचंड ने पिछले महीने नेपाली कांग्रेस के साथ सत्ता हस्तांतरण को लेकर हुए एक समझौते के तहत इस्तीफा दे दिया था। देउबा पहले भी तीन बार नेपाल के प्रधानमंत्री रह चुके हैं। वह 1995-97, 2001-2002 और 2004-2005 में प्रधानमंत्री की जिम्मेदारी संभाल चुके हैं। नेपाल के आखिरी राजा ज्ञानेंद्र ने 2002 में माओवादी हिंसा को रोकने में असफल रहने के आरोप में उन्हें पद से हटा दिया था और चुनाव कराए थे। इसके बाद 2004 में वह सत्ता में लौटे, लेकिन 2005 में एक बार फिर उन्हें पद से बेदखल होना पड़ा। इसके बाद फैली राजनीतिक अस्थिरता का अंत नेपाल में 239 साल पुरानी राजशाही की समाप्ति के साथ ही हुआ था। प्रधानमंत्री चुने जाने के बाद देउबा के पर 28 जून तक चार प्रांतों में स्थानीय निकाय चुनाव कराने और अगले साल जनवरी में प्रांतीय और संसदीय चुनाव कराने की जिम्मेदारी है। वामपंथी दल के नेता पुष्प कमल दहल प्रचंड ने इस करार के बाद ही पद से इस्तीफा दिया था। उम्मीद जताई गई है कि देउबा छोटे मंत्रिमंडल का गठन करेंगे और कुछ दिनों बाद इसका विस्तार करेंगे। इसमें कुछ मधेशी पार्टियां भी शामिल हो सकती हैं। देउबा को माओवादी पार्टी और कुछ अन्य छोटे दलों का समर्थन मिला है। प्रचंड और देउबा के बीच राष्ट्रीय चुनावों तक के लिए यह डील हुई है।

2018 के लिए अजीत का जन-जन जोगी अभियान

—एक दिन में एक करोड़ लोगों तक पहुंचाएंगे शपथ पत्र
–21 जून को राजनांदगांव से होगी अभियान की शुरूआत
–‘विश्वास’ जगाने के लिए घोषणा पत्र को बनाएंगे शपथ पत्र
रायपुर। मिशन 2018 की तैयारी को लेकर जनता कांग्रेस छत्तीसगढ़ जे के संस्थापक अध्यक्ष अजीत जोगी ने मंगलवार को नए प्लान को सार्वजनिक किया। इस नए अभियान को उन्होंने ‘जन जन जोगी’ अभियान की संज्ञा दी। उन्होंने पार्टी की स्थापना के लिए हुई पहली बैठक के एक साल पूरे होने पर पत्रकारों से संवाद किया। इस दौरान उन्होंने बताया कि छत्तीसगढ़ को आंचलिक पार्टी के सत्ता की जरूरत है ताकि यहां के लोगों के विकास के लिए सीधे निर्णय लिया जा सके। उन्होंने साफ किया कि छत्तीसगढ़ में जो दो राष्ट्रीय पार्टियां है उन्हें यहां की योजनाओं को लागू करने के लिए पहले दिल्ली से अनुमति लेनी पड़ती है। इस अव्यवस्था को खत्म करने के लिए ही उन्होंने आंचलिक पार्टी का गठन किया और लोगों के बीच जाकर उन्हें जागरूक किया। श्री जोगी ने बताया कि पार्टी का नाम 21 जून 2016 को तय हुआ था। अब तक राज्य में उनकी पार्टी के 10 लाख सदस्य बन चुके हैं। उन्होंने निर्णय लिया है कि 2018 के चुनाव के लिए पार्टी का घोषणा पत्र शपथ पत्र बनेगा। इसे वह बाकायदा नोटराइज्ड 21 जून को सार्वजनिक करेंगे। इस शपथ पत्र को उसी दिन पार्टी का हर एक सदस्य अपने आसपास के दस परिवारों से मिलकर उन्हें उपलब्ध कराएगा। श्री जोगी खुद उस दिन राजनांदगांव से इस कार्यक्रम की शुरूआत करेंगे।
टिकट के लिए कराएंगे सर्वेक्षण
टिकट वितरण के सवाल पर उन्होंने कहा कि हम पुराने चेहरों पर दांव नहीं लगाएंगे। उम्मीदवार चयन के लिए वह दो प्रतिष्ठित एजेंसियों से सर्वे कराएंगे। इसके बाद वह खुद अपने सोर्स से सर्वे की सच्चाई से अवगत होंगे। इसके बाद टिकट तय की जाएगी। उन्होंने यह भी कहा कि अगर सर्वे में यह आएगा कि मरवाही सीट से अमित जोगी हार जाएंगे तो उन्हें भी टिकट नहीं दी जाएगी।
राहुल-सोनिया से निजी रिश्ते कायम
एक सवाल के जवाब में अजीत जोगी ने कहा कि राहुल गांधी और सोनिया गांधी से उनके संबंध आज भी पहले जैसे ही हैं। केवल राजनीतिक मामलों में दूरी बनाई गई है। उन्होंने यह भी स्पष्ट किया कि अगर राजनैतिक मामलों को छोड़ेकर अन्य कोई प्रकरण होगा तो वह राहुल और सोनिया के साथ खड़े होंगे।

जोगी ज्वर से दूसरी पार्टियां ग्रसित
अजीत जोगी ने कहा कि प्रदेश में उनका मुख्य मुकाबला भारतीय जनता पार्टी से होगा। कांग्रेस राज्य में अप्रासंगिक हो चुकी है। उन्होंने कहा कि दूसरे दलों के नेता जोगी ज्वर से पीड़ित हैं। उन्होंने बताया कि छत्तीसगढ़ में आज जनता कांग्रेस पार्टी सबसे ताकतवर राजनैतिक दल के रूप में उभरकर सामने आयी है।

मप्र में किसानों पर फायरिंग, 3 की मौत, 4 घायल

मंदसौर। मध्य प्रदेश के मंदसौर में आंदोलन कर रहे किसानों पर पुलिस की फायरिंग में 3 किसानों की मौत हो गई है जबकि 4 घायल हुए हैं। एमपी में किसानों के राज्यव्यापी प्रदर्शन को देखते हुए मंदसौर, रतलाम और उज्जैन में इंटरनेट भी बंद कर दिया गया है। राष्ट्रीय किसान मजदूर संघ ने बुधवार को प्रदेश व्यापी बंद का आह्वान किया है। हालांकि मध्य प्रदेश के गृहमंत्री का दावा है कि पुलिस की तरफ से फायरिंग नहीं हुई। सीएम शिवराज सिंह चौहान ने मामले की न्यायिक जांच के आदेश दिए हैं। उन्होंने यह भी कहा कि सरकार ने न तो इंटरनेट बंद किया है और न ही कर्फ्यू लगाया गया है। मध्य प्रदेश के किसानों ने अपने उपज के वाजिब दाम दिलाने सहित अपनी 20 सूत्रीय मांगों को लेकर एक जून से 10 जून तक आंदोलन की घोषणा की है। प्रदेश में किसानों से जुड़े विभिन्न यूनियनों का आंदोलन जारी है। सोमवार को भी पश्चिमी मध्यप्रदेश के धार, देवास, झाबुआ, मंदसौर एवं नीमच जिलों सहित कई स्थानों पर तोड़फोड़ एवं हिंसक घटनाएं देखने को मिलीं थी। इस बीच मध्य प्रदेश के सीएम शिवराज सिंह चौहान ने आंदोलन कर रहे लोगों को किसान नहीं बल्कि असामाजिक तत्व कहा है। सीएम शिवराज ने अपनी सरकार को किसान हितैषी सरकार बताते हुए कहा कि उनकी सरकार सदैव किसानों के कल्याण के लिये कार्य करती है और जो लोग आंदोलन समाप्त होने की घोषणा के बाद भी हिंसा एवं उपद्रव कर रहे हैं, वे किसान नहीं, बल्कि असामाजिक तत्व हैं। दरअसल मध्य प्रदेश में किसानों के आंदोलन को लेकर असमंजस की स्थिति है। भारतीय किसान संघ और मध्य प्रदेश किसान सेना ने शिवराज से मुलाकात के बाद आंदोलन को खत्म करने की घोषणा की थी। हालांकि राष्ट्रीय किसान मजदूर संघ जैसे दूसरे संगठन अभी भी आंदोलनरत हैं। इसी दौरान एक फिर मंदसौर में हिस्सा भड़क उठी है।

नदियों की अविरलता के लिए समाज आगे आये : डॉ पांडेय

प्रतापगढ़ । नदियों और समाज का सम्बन्ध आदिकाल से रहा है ।किंतु वर्तमान में हमारी नदियों को प्रदूषण रुपी दैत्य ने दूषित कर दिया है । इस प्रदूषण रुपी दैत्य का सर्वनाश करने के लिए हमारे समाज को हमारी नदियों की अविरलता पुनः लौटानी होगी , तभी गंगा दशहरा जैसे पर्वों की सार्थकता सिद्ध होगी । ग्राम सभा पुरेला में आयोजित गंगा दशहरा उत्सव कार्यक्रम में उक्त विचार मुख्य अतिथि के रूप में पधारे शिक्षाविद डॉ शक्ति कुमार पांडेय जी ने प्रकट किये । साथ ही आयोजकों को कार्यक्रम हेतु बधाई भी दी ।कार्यक्रम में बोलते हुए विशिष्ठ अतिथि पुरातत्वविद डॉ पीयूषकान्त शर्मा जी ने कहा कि आज गंगा दशहरा उत्सव को हमारे प्राकृतिक जल स्त्रोतों को बचाने की दिशा में मनाए जाने वाले पर्व के रूप में लिया जाना चाहिए । खासतौर से दूरदराज़ तथा सूखे की मार झेल रहे क्षेत्रों में ऐसे पर्व जल संरक्षण में विशेष भूमिका निभा सकते हैं । समाजसेवी तथा विशिष्ठ अतिथि हेमंत नंदन ओझा ने कहा कि प्रकृति ने हमको बेशकीमती वस्तुएं बिना किसी शुल्क के दी, किन्तु मनुष्य ने उन्ही बेशकीमती वस्तुओं का व्यापार शुरू कर दिया , और इसी का खामियाजा आज उसको प्राकृतिक आपदाओं के रूप में भुगतना पड़ता है ।उन्होंने समाज को अपने प्राकृतिक धरोहरों के प्रति सजग रहने की बात कही ।समाजसेवी तथा युवा भाजपा नेता योगेश शुक्ल ने ऐसे आयोजनों को लगातार करते रहने की बात कही , तथा भविष्य में आयोजकों को यथासंभव सहयोग की बात कही ।मुम्बई से पधारे शिक्षाविद ने लोगों को पानी के बाज़ारीकरण के प्रति जागरूक किया । युवा समाजसेवी सज्जन सरकार ने स्कूलों में जल संरक्षण को एक विषय के रूप में पढ़ाने की बात कही ।कार्यक्रम में काव्य सन्ध्या का आयोजन भी किया गया जिसमें प्रदेश के ख्यातिलब्ध युवा कवि लवलेश यदुवंशी तथा अंजनी अमोघ ने अपनी काव्य रचनाओं ने उपस्थित श्रोताओं का हृदय जीत लिया ।अन्य कवियों में इलाहाबाद से आये कवि नज़र इलाहाबादी जी ने व्यंग के माध्यम से आजकी कुरीतियों पर प्रहार किया ।अन्य कवियों में अजब नारायण निराश , विश्वनाथ प्रजापति , जलयोद्धा आर्य शेखर , आदि ने गंगा दशहरा पर्व से सम्बंधित रचनाएँ सुनाई।  कार्यक्रम की अध्यक्षता वरिष्ठ समाजसेवी व्यास त्रिभुवननाथ ओझा जी ने की ।। स्वागत तथा कार्यक्रम सञ्चालन आयोजक मंडल के अध्यक्ष आलोक आज़ाद और संयोजक आलोक तिवारी ने किया ।आज हुए कार्यक्रम में प्रमुख रूप से खरवई प्रधान त्रिभुवन सिंह ” कल्लू” , कलानी प्रधान पिंटू तिवारी, मल्हूपुर प्रधान अनुराग मिश्र, हरिकेश दुबे, सूर्यनारायण तिवारी, मदन सिंह, सुरेंद्र सिंह, समाजसेवी विक्रम सिंह, देवेंद्र सिंह , सतेंद्र सिंह , मनोज सिंह, सी पी त्रिपाठी, सह-आयोजक प्रदीप मिश्र, संदीप सिंह, संतोष यादव , नविन सरोज , मनीष त्रिपाठी सहित कई लोग उपस्थित रहे ।आये हुए अतिथियों का स्वागत तथा आभार पुरेला ग्राम प्रधान संतराम ने किया ।