Daily Archives: July 13, 2017

CSIDC कर्मचारियों को मिलेगा सातवें वेतनमान का लाभ

रायपुर । छत्तीसगढ़ राज्य औद्योगिक निगम के कर्मचारियों को भी सातवें वेतनमान का लाभ मिलेगा। इस प्रस्ताव की स्वीकृति आज यहां उद्योग भवन में सीएसआईडीसी के अध्यक्ष श्री छगन लाल मूंदड़ा की अध्यक्षता में आयोजित संचालक मंडल की 134वीं बैठक में प्रदान की गई। बैठक में निगम के कर्मचारियों की वर्षों से लंबित पदोन्नति के प्रस्ताव और वेतन के अनुसार युक्तियुक्तकरण करते हुए पदों की स्वीकृति भी प्रदान की गई। इस निर्णय से सीएसआईडीसी के कर्मचारियों की पदोन्नति का मार्ग प्रशस्त हो गया है। बैठक में वाणिज्य एवं उद्योग विभाग के अपर मुख्य सचिव एन.बैजेन्द्र कुमार, प्रबंध संचालक सुनील मिश्रा, मुख्य महाप्रबंधक संतोष भगत, कम्पनी सचिव स्वप्निल अवस्थी और वित्त विभाग के  ए.के. सिंह भी उपस्थित थे।

अवंतिविहार का आम रास्ता खुलने से लोगों में हर्ष

रायपुर। तेलीबांधा से अवंती विहार जाने वाले रास्ते से बेरीकेट हटाकर जनहित में आम जनता के लिए रास्ते को खोले जाने पर स्थानिय नागरिकों, व्यापारी संघ एवं समाज सेवी संगठनों ने शासन के प्रति आभार प्रकट करते हुए चौराहे पर आतिशबाजी कर आम जनता को मिठाई खिलाकर प्रसन्नता जताई। पिछले 18 महिनों से राजधानी के तेलीबांधा से अवंती विहार जाने वाले मार्ग को जिला प्रशासन ने बेरीकेट लगाकर बंद कर दिया गया था जिस वजह से तेलीबांधा से अवंती विहार जाने वाले नागरिको को बेहद परेशानियों का सामना करना पड़ रहा था। स्थानिय नागरिकों, व्यापारी संगठन के पदाधिकारी और समाज सेवी संगठनो ने पुरजोर विरोध करते हुए इस मार्ग को जनहित में खोले जाने की मांग जिला प्रशासन से की थी। इस संबंध में मार्ग खोले जाने के आंदोलन में अवंती विहार व्यापारी संघ के संरक्षक राजकुमार राठी और पब्लिक इश्यू सोशल फॉउण्डेशन के चेयरमैन नितिन भंसाली ने स्थानिय जनता एवं व्यापारीयों का प्रतिनिधित्व करते हुए धरना प्रदर्शन, हस्ताक्षर अभियान, पोस्टकार्ड अभियान आदि चलाकर शासन से लगातार उक्त मार्ग को खोले जाने हेतु दबाव बनाया जाता रहा। आखिर शासन ने आन्दोलनकारियों की मांग को मानते हुए विगत दिनो उक्त मार्ग से बेरीकेट हटाकर आम जनता के आने जाने के लिए खोल दिया।

अभिषेक ने की थी पहल, 6000 शिक्षाकर्मी बहाल होंगे

रायपुर। व्यावसायिक परीक्षा मंडल प्रदेश में 6000 शिक्षाकर्मियों की बहाली करेगा। गुरुवार को पंचायत विभाग की तरफ से व्यापम को पत्र भेजकर चयन परीक्षा की तैयारी का निर्देश जारी कर दिया गया है। शिक्षक व्याख्याता पद के लिए होने वाली बहाली में अलग-अलग विषयों के लिए अलग-अलग शिक्षकों की बहाली की जायेगी। स्कूल शिक्षा विभाग की तरफ से 12 जुलाई को व्याख्याता पंचायत के विभिन्न विषयों के लिए 3908 और 1928 पदों को रिक्त बताया गया है। पंचायत विभाग के अमर मुख्य सचिव की तरफ से जारी निर्देश में व्यापम से कहा गया है कि वो दो माह के भीतर चयन परीक्षा लेकर पंचायत विभाग के डायरेक्टरेट को इसकी सूचना भेजें ताकि नियुक्ति की प्रक्रिया पूरी की जा सके। इस मामले को लेकर राजनांदगांव के युवा सांसद अभिषेक सिंह ने पहल की थी। शिक्षाकर्मियों ने सांसद से मिलकर उनके समक्ष अपनी मांगों को रखा था। सांसद श्री सिंह की पहल पर हुए आदेश के बाद शिक्षाकर्मी खुश नजर आ रहे हैं और सांसद के प्रति आभार जताया है।

डॉ. सुशांत शंकर मजूमदार का निधन

रायपुर। राजधानी रायपुर के वल्लभ नगर (टैगोर नगर) निवासी डॉ. सुशांत शंकर मजूमदार का यहां उनके निवास में 10 जुलाई 2017 को निधन हो गया। डॉ. मजूमदार तत्कालीन मध्यप्रदेश सरकार के पशु चिकित्सा विभाग के सेवानिवृत्त संयुक्त संचालक थे। वे श्रीमती तृप्ति मजूमदार के पति और दीपशंकर मजूमदार और शक्तिशंकर मजूमदार तथा श्रीमती शिखा सेनगुप्ता और श्रीमती सीमा श्रीवास्तव के पिता थे। स्वर्गीय डॉ. मजूमदार का अंतिम संस्कार यहां मारवाड़ी श्मशान घाट में किया गया, जहां बड़ी संख्या में उनके परिजनों और नागरिकों ने उन्हें श्रद्धांजलि सहित अंतिम बिदाई दी।

‘द रायपुर बस्तर कोरापुट’ परिवहन संघ भंग

रायपुर। परिवहन संघों के विवाद को लेकर प्रशासन खासा सतर्क हो गया है। बस्तर परिवहन संघ के भंग किए जाने के बाद अब कलेक्टर रायपुर ओपी चौधरी ने बस्तर के एसपी के सुझाव पर रायपुर से संचालित हो रहे ‘द रायपुर बस्तर कोरापुट’ परिवहन संघ को भंग कर दिया है। 7 जुलाई 2017 को इस संबंध में अधिसूचना जारी कर दी गई है। 23 मई 2017 को जगलपुर के एसपी ने कलेक्टर रायपुर को पत्र लिखकर द रायपुर बस्तर कोरापुट परिवहन संघ को भंग किए जाने की अनुशंसा की थी। मौजूदा समय में परिवहन संघ के दो गुटों में विवाद के चलते मनमुटाव बना हुआ है। ऐसे में आशंका जताई गई है कि विवाद बढ़ सकता है और गंभीर घटना घट सकती है।

अनुराग ठाकुर ने बिना शर्त कोर्ट से मांगी माफी

नई दिल्ली। अदालत में शपथ लेकर गलत बयान देने और कंटेप्ट आॅफ कोर्ट के मामले में बीसीसीआई के पूर्व अध्यक्ष व बीजेपी सांसद अनुराग ठाकुर ने सुप्रीम कोर्ट में बिना शर्त माफी मांगी है। सुप्रीम कोर्ट में इसको लेकर अनुराग ठाकुर की ओर से माफीनामा पेश किया गया। इस मामले में सुप्रीम कोर्ट शुक्रवार को सुनवाई करेगा। अपने एक पेज के एफिडेविट में अनुराग ठाकुर ने कहा है कि कुछ गलत सूचना और गलतफहमी की वजह से ये हुआ और वह बिना किसी शर्त के साफ शब्दों में माफी मांगते हैं। अदालत की प्रतिष्ठा को कभी उन्होंने कम नहीं समझा है। सुप्रीम कोर्ट ने 7 जुलाई को बीसीसीआई के पूर्व अध्यक्ष अनुराग ठाकुर से कहा था कि वह बिना शर्त स्पष्ट माफीनामा पेश करें। सुप्रीम कोर्ट ने अनुराग ठाकुर से कहा था कि वह एक पेज का हलफनामा पेश करें जिसमें बिना शर्त माफी हो। पहले उनकी ओर से जो एफिडेविट पेश किया गया है उसे कोर्ट स्वीकार नहीं करेगी। सुप्रीम कोर्ट के जस्टिस दीपक मिश्रा और जस्टिस ए एम खानविलक व डीवाई चंद्रचूड़ की बेंच ने कहा था कि पहले से उनकी ओर से माफी को लेकर जो हलफनामा पेश किया गया है उस पर कोर्ट विचार नहीं करने जा रही है। सुप्रीम कोर्ट ने अनुराग ठाकुर से कहा था कि वह 14 जुलाई को कोर्ट के सामने पेश हों। कोर्ट ने संकेत दिया था कि माफीनामा स्वीकार कर कंटेप्ट की कार्रवाई बंद कर सकती है। अनुराग ठाकुर के वकील पीएस पटवालिया ने कहा था कि उनके क्लाइंट बिना शर्त माफीनामा देने के लिए तैयार हैं साथ ही कहा था कि उनका केस मेरिट पर बेहतर केस था और वह साबित कर सकते थे कि क्लाइंट ने गलत नहीं किया है।

कुरुद में नीलकंठेश्वर की हुई प्राण प्रतिष्ठा

रायपुर। पंचायत और ग्रामीण विकास मंत्री अजय चंद्राकर गुरुवार को तहसील मुख्यालय कुरूद में भगवान नीलकंठेश्वर की प्रतिमा के प्राण प्रतिष्ठा समारोह में शामिल हुए। इस अवसर पर पंडित विजयशंकर मेहता ने शिव महापुराण कथा का शुभारंभ करते हुए आध्यात्मिक विषय पर अपना प्रवचन दिया। आयोजन में छत्तीसगढ़ वनौषधि बोर्ड के अध्यक्ष रामप्रताप सिंह भी उपस्थित थे। श्री अजय चंद्राकर ने कहा कि भगवान शिव के आशीर्वाद से इस वर्ष छत्तीसगढ़ में अच्छी बारिश हो रही है। श्री चंद्राकर ने प्रदेशवासियों सहित सभी किसानों के लिए अपनी शुभकामनाएं दी। श्री चंद्राकर ने पं. विजयशंकर मेंहता का स्वागत किया। उन्होंने श्रद्वालुओं को जानकारी देते हुए बताया पं. विजयशंकर मेहता की शिव महापुराण कथा प्रतिदिन दोपहर 2 बजें से 5 बजे तक चलेगी।

कोडार डेम के भ्रष्टाचारियों ने ‘मंत्री’ को भी उलझाया

रायपुर। जल संसाधन विभाग में भ्रष्टाचार को पुष्पित और पल्लवित कर रहे अफसर और ठेकेदार मिलकर बड़ा खेल कर रहे हैं। छोटे-मोटे लोगों की शिकायत पर अमल करने की बात कौन कहे, अफसर विभाग के मंत्री बृजमोहन अग्रवाल द्वारा बजट सत्र के दौरान विपक्ष के विधायक धनेन्द्र साहू को दिए गए ‘जवाब’ का ही अमल करना भूल गये। एक अगस्त से शुरू हो रहे 12वें विधानसभा सत्र में विभाग के मंत्री को शायद इस बात को लेकर शर्मिन्दगी उठानी पड़े और उन्हें खेद व्यक्त करना पड़े। महासमुंद जिले में स्थित शहीद वीर नारायण सिंह ‘कोडार’ डेम के सेफ्टी प्रोजेक्ट में हुए घोटाले का मामला कांग्रेस विधायक धनेन्द्र साहू ने मार्च 2017 में हुए विधानसभा के बजट सत्र में ध्यानाकर्षण सूचना के अन्तर्गत उठाया था। उन्होंने इस मामले में दोषी पाये गये अधिकारियों और संबंधित ठेकेदार के विरुद्ध कार्रवाई किए जाने की मांग की थी। इस पर जवाब देते हुए विभाग के मंत्री बृजमोहन अग्रवाल ने कोडार डेम के सेफ्टी प्रोजेक्ट में हुए घोटाले की बात स्वीकार की थी और दोषियों के विरुद्ध कार्रवाई किए जाने का आश्वासन दिया था। किन्तु अभी तक मुख्य अभियंता द्वारा दोषियों के विरुद्ध आरोप पत्र जारी कर दिए जाने के बाद भी प्रमुख अभियंता एचसी कुटारे द्वारा उसे दबाकर रख लिया गया है और दोषी अफसर और ठेकेदार के विरुद्ध कोई कार्रवाई नहीं की गई है।