Daily Archives: July 16, 2017

धमतरी में बाईक और कार के नंबरों पर जारी की गई ‘रायल्टी’

रायपुर। सुचना अधिकार अधिनियम से छत्तीसगढ़ में रेत घोटाले का पदार्फाश हुआ है। यहां बाईक और कार के नंबर पर हजारों फर्जी रॉयल्टी जारी हुई हैं, जिससे राज्य सरकार के खजाने पर करोड़ों रुपये का चूना लगाया गया है। राज्य के धमतरी में बाईक और कार से रेत ढोई जाती है। आरटीआई से मिली जानकारी से इस बात का खुलासा हुआ है कि बाईक और कार के नंबरो पर हजारों फर्जी रॉयल्टी जारी की है। परिवहन विभाग कार्यालय में तहकीकात करने पर पता चला कि रॉयल्टी में दिए गए सारे नंबर बाईक और कार के हैं। सीजी-04 सीए 9002, रेत खदान के रिकार्ड में यह नंबर एक 6 चक्का ट्रक का है। जिसमें कहा गया है कि इसी ट्रक के जरिये कई बार रेत ढोई गयी है। लेकिन जब ये नंबर छत्तीसगढ़ सरकार के परिवहन विभाग के एप्प में फीड कर चेक करते है, तो यह नंबर घनश्याम चांदे की सीडी 100 बाईक की है। जबकि, माईनिंग अफसरों और ग्रामपंचायत की रॉयल्टी स्लिप में ये ट्रक का नंबर है जिससे इस खदान से रेत ढोई जाती है। यह खुलासा धमतरी के ही योगेश शाहू ने एक आरटीआई के जरिये मिली जानकारी से निकाला है।
4900 फर्जी रॉयल्टी जारी
ग्राम पंचायत और खनन अधिकारियों ने बीते एक साल में ऐसी 4900 फर्जी रॉयल्टी जारी की है जिसमें कार और बाइक के नंबरों को ट्रक और ट्रेक्टर बताया गया है। दरअसल इस खदान से बिना रॉयल्टी के ही हजारों ट्रक रेत, हर महीने चोरी की जा रही थी। रॉयल्टी सबमिशन का समय आया, तो आनन-फानन में ग्रामपंचायत के सदस्यों और स्थानीय खनिज अधिकारियों ने किसी भी गाड़ी के नंबर पर रॉयल्टी जारी कर जमा कर दिया। लेकिन आरटीआई में इस चोरी और फर्जीवाड़े की सारी पोल खुल गई।

वर्जन—
मामले की जांच की जा रही है। जांच पूरी होने पर दोषियों पर करवाई की जाएंगी।
प्रेम पटेल, एसडीएम, धमतरी

कोरबा-बस्तर में खुलेंगे प्लास्टिक इंजीनियरिंग संस्थान

रायपुर। मुख्यमंत्री डॉ. रमन सिंह ने कहा है कि राजधानी रायपुर में लगभग डेढ़ साल पहले शुरू किया गया केन्द्रीय प्लास्टिक इंजीनियरिंग एवं तकनीकी संस्थान सफलता पूर्वक चल रहा है। अब प्रदेश का दूसरा केन्द्रीय प्लास्टिक इंजीनियरिंग एवं तकनीकी संस्थान औद्योगिक शहर कोरबा में जल्द शुरू किया जाएगा। डॉ. सिंह ने रविवार को राजधानी रायपुर के इंडोर स्टेडियम में विश्व युवा कौशल दिवस के उपलक्ष्य में आयोजित राज्य स्तरीय समारोह को सम्बोधित करते हुए यह जानकारी दी। उन्होंने कहा कि कोरबा के बाद बस्तर संभाग में भी इस केन्द्रीय संस्थान की स्थापना की जाएगी। केन्द्र सरकार ने कोरबा और बस्तर में इस संस्थान की स्थापना के लिए स्वीकृति प्रदान कर दी है। डॉ. सिंह ने समारोह में इसकी घोषणा करते हुए प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी और केन्द्रीय कौशल विकास मंत्री राजीव प्रताप रूड़ी के प्रति आभार प्रकट किया। डॉ. सिंह ने समारोह में यह भी बताया कि प्रदेश चौथा सीपेट राजनांदगांव में प्रस्तावित है। इसके लिए भी तैयारी चल रही है। मुख्यमंत्री ने विश्व कौशल दिवस समारोह को सम्बोधित करते हुए कहा कि छत्तीसगढ़ देश का पहला राज्य है, जिसने युवाओं को कौशन उन्नयन का प्रशिक्षण पाने का कानूनी अधिकार दिया है। राज्य के तीन लाख 62 हजार से ज्यादा युवाओं ने केन्द्र तथा राज्य की योजनाओं के तहत विभिन्न पाठ्यक्रमों में कौशल प्रशिक्षण प्राप्त कर लिया है। इनमें से एक लाख से ज्यादा युवा अब तक रोजगार और स्वरोजगार से जुड़ चुके हैं। इस मौके पर राज्य युवा आयोग के अध्यक्ष कमलचंद भंजदेव भी उपस्थित रहे।

गोरक्षा के नाम पर हिंसा बर्दाश्त नहीं

नई दिल्ली। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने रविवार को आॅल पार्टी मीटिंग में कहा कि गोरक्षा के नाम पर हिंसा करने वालों के खिलाफ सख्त कार्रवाई होगी। पीएम ने कहा कि गोरक्षा के लिए देश में भावनाएं हैं। मीटिंग के बाद, मीडिया से बातचीत में केंद्रीय मंत्री अनंत कुमार ने मोदी के बयान की जानकारी दी। कुमार के मुताबिक, पीएम ने कहा- गोरक्षा के नाम पर हिंसा करने वालों के खिलाफ कठोर से कठोर कार्रवाई करेंगे। प्रेसिडेंट इलेक्शन का जिक्र करते हुए मोदी ने कहा कि अगर सर्वसम्मति से चुनाव होता तो बेहतर होता। मोदी ने राज्यों से कहा कि वो गोरक्षा के नाम पर कानून तोड़ने वालों के खिलाफ सख्त कार्रवाई करें। क्योंकि लॉ एंड आॅर्डर राज्यों के पास होता है। मोदी ने ये भी कहा कि गोरक्षा मामले को सियासी या कम्युनल रंग नहीं दिया जाना चाहिए, क्योंकि इससे देश को कोई फायदा नहीं होगा। मोदी ने कहा- गाय को माता माना जाता है लेकिन इसका मतलब ये नहीं कि लोग कानून को अपने हाथ में लें। मीटिंग में मोदी ने ये भी कहा कि गाय हमारी मां की तरह है लेकिन किसी को भी कानून को अपने हाथ में लेने का हक नहीं है। अगर कोई ऐसा करता है तो राज्य सरकार को उनपर कार्रवाई करना चाहिए।

‘कोडार’ डेम के भ्रष्टाचारियों पर कसेगा शिकंजा

–विधायक धनेन्द्र साहू ने ध्यानाकर्षण प्रस्ताव में शामिल करने के लिए सवाल भेजा
रायपुर। महासमुंद जिले में शहीद वीर नारायण सिंह ‘कोडार’ डेम के सेप्टी प्रोजेक्ट में हुए घोटाले का मामला एक अगस्त से शुरू होने जा रहे विधानसभा सत्र में उठेगा। कांग्रेस विधायक धनेन्द्र साहू ने विधानसभा सचिवालय में पत्र भेजकर इस मामले को प्रमुखता से ध्यानाकर्षण प्रस्ताव में शामिल करने का आग्रह किया है। गौरतलब है कि कोडार डेम के सेफ्टी प्रोजेक्ट में गलत इस्टीमेट और काल्पनिक माप दर्ज कर 1.51 करोड़ रुपय से अधिक का फर्जी भुगतान करा लिए जाने की पुष्टि हुई है। इस बावत विभाग ने उड़न दस्ता जांच दल को मौके पर भेजकर रिपोर्ट मंगाई। इस रिपोर्ट में भी मामले की पूरी तरह से पुष्टि की गयी। बावजूद इसके भी दोषी अधिकारियों के विरुद्ध कार्रवाई किए जाने के बजाय उन्हें संरक्षण प्रदान किया जा रहा है। मार्च 2017 में संपन्न हुए विधानसभा के बजट सत्र में कांग्रेस विधायक धनेन्द्र साहू ने इस मामले को उठाया था तो उस समय विभागीय मंत्री ने दोषी लोगों के विरुद्ध कार्रवाई किए जाने का आश्वासन देकर मामला टाल दिया था। दोषी अधिकारियों के विरुद्ध चार्जशीट फ्रेम होने के बाद आठ माह से अधिक का समय बीत रहा है पर अभी तक प्रमुख अभियंता द्वारा इस मामले में कोई कार्रवाई नहीं की जा सकी है। कांग्रेस विधायक धनेन्द्र साहू ने साफ कहा है कि वह इस मामले में कार्रवाई होने तक लड़ाई लड़ेंगे। विधानसभा के सत्र में इस मामले को पूरे जोश के साथ उठाएंगे।

छह माह से मजूदरी के लिए दर-दर की ठोकरें खा रहे हमाल

–श्रमायुक्त कार्यालय से दोषी ठेकेदार को मिल रहा संरक्षण
रायपुर। सेन्ट्रल वेयर हाउसिंग कारपोरेशन में अनलोड़िंग व स्केटिंग का कार्य कर रहे हमाल पिछले छह माह से मजदूरी के लिए दर-दर की ठोकरें खा रहे हैं। इन हमालों को उनका पारिश्रमिक दिलाने के बजाय श्रमायुक्त कार्यालय द्वारा दोषी ठेकेदार को संरक्षण प्रदान किया जा रहा है। इस कारण से हमालों की 15 लाख 72 हजार 633 रुपये की मजदूरी फंस गयी है। छत्तीसगढ़ हमाल मजदूर संघ के कार्यकारिणी के सदस्य सियाराम साहू ने मुख्यमंत्री को भेजे गये पत्र में कहा है कि 6 जनवरी से 10 जुलाई 2017 तक करीब 100 मजदूरों की मजदूरी नहीं दी गई है। राईस मिलर्स राधाकिशन अग्रवाल सहित 14 राईस मिलर्स से यह पैसा बकाया है। दो राईस मिलरों ने श्रमिकों की मजदूरी का पैसा चेक के माध्यम से सहायक श्रमायुक्त कार्यालय रायपुर में मजदूरों को भुगतान किये जाने के लिए भेजा था किन्तु ठकेदार के दबाव के चलते श्रमायुक्त कार्यालय ने हमालों की मजदूरी देने के बजाय चेक को पुन: राईस मिलरों को वापस कर दिया। संघ ने यह भी कहा है कि राज्य के किसी और जिले में राईस मिलर्स के काम का ठेका नहीं दिया जाता। अनलोडिंग करने वाले हमालों को सीधे राईस मिलर द्वारा मजदूरी का भुगतान किया जाता है। किन्तु यहां ठेकेदार से काम लिया जा रहा है जो पूरी तरह से अवैधानिक है। हमाल मजदूर संघ की शिकायत पर केन्द्रीय भंडार निगम ने भी स्पष्ट किया है कि हैंडलिंगÑ टांसपोर्टिंग और ट्रांजेक्शन में केन्द्रीय भंडार निगम की कोई भूमिका नहीं है। निगम के क्षेत्रीय प्रबंधक एसएस मीना ने 31 मई 2017 को सहायक श्रमायुक्त कार्यालय को पत्र भेजकर इस संबंध में स्पष्ट किया है।

100 से अधिक युवाओं ने किया रक्तदान किया

रायपुर। थेलेसिमिया के बच्चों के लिए रक्त की कमी को देखते हुए राजधानी में कार्यरत श्री कृष्णा चेरीटीबल ट्रस्ट और आषीर्वाद ब्लड बैंक की ओर से राजधानी के पण्डरी श्याम प्लाजा स्थित जी. एस. पी. फिटनेष क्लब में रक्तदान शिविर का आयोजन किया गया। शिविर में 100 से अधिक युवाओं ने रक्तदान किया। शिविर के मुख्य अतिथि के रूप में पब्लिक इश्यू सोशल फॉउन्डेशन के चेयरमैन नितिन भंसाली ने संस्था के इस कार्यक्रम की सराहना करते हुए आम जनता से नियमित रूप से रक्तदान किए जाने की अपील की। शिविर मे फिटनेस एक्सपर्ट गौरीशंकर प्रधान ने बताया कि नियमित रूप से रक्तदान किए जाने से दिल की बीमारी जैसे हार्टअटैक, ब्लड प्रेशर, डायबिटिज जैसी जानलेवा बीमारी से बचा जा सकता है। शिविर में श्री कृष्णा चेरीटीबल ट्रस्ट की संस्थापक काजल सचदेव और सुरेश सचदेव ने बताया कि उनकी संस्था थेलेसिमिया यूनिट जो कि राजधानी के देवेन्द्र नगर में स्थित है जहां पर वे 60 से अधिक थेलेसिमिया से पीड़ीत बच्चों को मुफ्त ब्लड चढ़ाती है। इस सेंटर में मेट्रो सीटीज के जाने माने चिकित्सकों को समय समय पर बुलाकर नि:षुल्क थेलेसिमिया चेकअप कैम्प भी लगाए जाते हैं, इस संस्था में हर महीने आषीर्वाद ब्लड बैंक द्वारा 100 यूनिट ब्लड आषीर्वाद ब्लड बैंक द्वारा थेलेसिमिया के मरीजों के लिए फ्री उपलब्ध कराया जाता है। रक्तदान शिविर में प्रमुख रूप से काजल सचदेव, सुरेष सचदेव, अरूण गोयंका, संजय संचेती, राकेश सचदेव, जय जोशी आदि उपस्थित रहें।