इमैन्युअल मैक्रों ने ली फ्रांस के राष्ट्रपति पद की शपथ

पैरिस। फ्रांस में मध्यमार्गी उदारवादी इमैनुएल मैक्रों ने रविवार को देश के 25वें राष्ट्रपति के रूप में शपथ ली। वह देश के सबसे युवा राष्ट्रपति हैं। बीबीसी की रिपोर्ट के मुताबिक, मैक्रों ने राष्ट्रपति का पदभार संभालने के बाद अपने पहले वक्तव्य में नवचेतना की बात की। उन्होंने कहा, ‘फ्रांस की ताकत समाप्त नहीं हो रही है, बल्कि हम एक बड़ी नवचेतना की कगार पर हैं। उन्होंने कहा कि आज दुनिया और यूरोप को फ्रांस की पहले से कहीं अधिक आवश्यकता है। उन्होंने कहा कि पिछले कुछ समय में फ्रांस का आत्मविश्वास खो गया था, पर उनकी जीत के बाद यह लौट आया है। यहां लोग एक बार फिर खुद में यकीन करेंगे। मैक्रों ने सात मई को हुए दूसरे व अंतिम दौर के चुनाव में नैशनल फ्रंट की धुर दक्षिणपंथी उम्मीदवार मेरी ले पेन को हराया था। उदार मध्यमार्गी मैक्रों व्यापार समर्थक और यूरोपीय संघ के समर्थक हैं। मैक्रों का अजेंडा था कि वह 5000 बॉर्डर गार्ड्स की फोर्स बनाएंगे। फ्रांसीसी राष्ट्रीयता हासिल करने के लिए फ्रैंच भाषा जाननी जरूरी होगी। इसके अलावा फ्रांस में धर्मनिरपेक्ष मूल्यों का विस्तार भी उनके अजेंडे में शामिल था। उधर मैरीन ल पेन ने अपने अजेंडे में गैरकानूनी प्रवासन पर रोक, सीमा रेखा कंट्रोल, इस्लामी कट्टरवादियों के खिलाफ कार्रवाई और कट्टरवादी मस्जिदों पर कार्रवाई शामिल थी।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *