मोदी ने ट्रंप को दिया जवाब

–भारत 5 हजार सालों से पर्यावरण हितैषी
सेंट पीटर्सबर्ग। पैरिस अग्रीमेंट तोड़ने के बाद भारत और चीन की आलोचना करने वाले अमेरिकी राष्ट्रपति डॉनल्ड ट्रंप को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने भी जवाब दिया है। सेंट पीटर्सबर्ग इकनॉमिक फोरम में प्रधानमंत्री ने एक तरफ निवेशकों को आमंत्रित किया, तो दूसरी तरफ भारत को पर्यावरण हितैषी बताते हुए कहा कि यह देश प्राचीन काल से ही इस जिम्मेदारी को निभाता आ रहा है। इसके लिए उन्होंने वेदों का उदाहरण दिया। रूसी राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन की मौजूदगी में मोदी ने कहा, भारत की सांस्कृतिक विरासत रही है। 5 हजार साल पुराने शास्त्र हमारे यहां मौजूद हैं, जिन्हें वेद के नाम से जाना जाता है। इनमें से एक वेद अथर्ववेद पूरी तरह नेचर को समर्पित है। हम उन आदर्शों को लेकर चल रहे हैं। हम यह मानकर चलते हैं कि प्रकृति का शोषण क्राइम है। यह हमारे चिंतन का हिस्सा है। हम नेचर के शोषण को स्वीकार नहीं करते हैं। इसलिए हम अपने मैन्युफैक्चरिंग सेक्टर में जीरो डिफेक्ट, जीरो इफेक्ट पर चलता है।
यह है पूरा मामला
पैरिस क्लाइमेट डील से बाहर निकलने की घोषणा करते हुए अमेरिकी राष्ट्रपति डॉनल्ड ट्रंप ने भारत के खिलाफ मोर्चा खोला है। ट्रंप ने अपने बयान में पैरिस क्लाइमेट डील को भारत-चीन के लिए फायदेमंद बताया था। ट्रंप ने कहा था कि भारत इस समझौते के तहत विकसित देशों से अरबों-अरब रुपये की विदेशी मदद हासिल कर रहा है।
पीएम ने रूस के निवेशकों का आमंत्रित किया
मोदी ने रूस के निवेशकों को आमंत्रित करते हुए कहा, तीन दशक के बाद भारत में पूर्ण बहुमत वाली मजबूत सरकार चुनकर आई है। इस कारण जीवन के हर क्षेत्र में प्रगतिशील विचार के साथ निर्णय करने की दिशा में हम तेज गति से आगे बढ़ रहे हैं। आज भारत का जीडीपी 7% की गति से ग्रोथ कर रहा है। यह दुनिया में तेज गति से बढ़ने वाले तीन अर्थव्यवस्थाओं में से एक है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *