धमतरी में बाईक और कार के नंबरों पर जारी की गई ‘रायल्टी’

रायपुर। सुचना अधिकार अधिनियम से छत्तीसगढ़ में रेत घोटाले का पदार्फाश हुआ है। यहां बाईक और कार के नंबर पर हजारों फर्जी रॉयल्टी जारी हुई हैं, जिससे राज्य सरकार के खजाने पर करोड़ों रुपये का चूना लगाया गया है। राज्य के धमतरी में बाईक और कार से रेत ढोई जाती है। आरटीआई से मिली जानकारी से इस बात का खुलासा हुआ है कि बाईक और कार के नंबरो पर हजारों फर्जी रॉयल्टी जारी की है। परिवहन विभाग कार्यालय में तहकीकात करने पर पता चला कि रॉयल्टी में दिए गए सारे नंबर बाईक और कार के हैं। सीजी-04 सीए 9002, रेत खदान के रिकार्ड में यह नंबर एक 6 चक्का ट्रक का है। जिसमें कहा गया है कि इसी ट्रक के जरिये कई बार रेत ढोई गयी है। लेकिन जब ये नंबर छत्तीसगढ़ सरकार के परिवहन विभाग के एप्प में फीड कर चेक करते है, तो यह नंबर घनश्याम चांदे की सीडी 100 बाईक की है। जबकि, माईनिंग अफसरों और ग्रामपंचायत की रॉयल्टी स्लिप में ये ट्रक का नंबर है जिससे इस खदान से रेत ढोई जाती है। यह खुलासा धमतरी के ही योगेश शाहू ने एक आरटीआई के जरिये मिली जानकारी से निकाला है।
4900 फर्जी रॉयल्टी जारी
ग्राम पंचायत और खनन अधिकारियों ने बीते एक साल में ऐसी 4900 फर्जी रॉयल्टी जारी की है जिसमें कार और बाइक के नंबरों को ट्रक और ट्रेक्टर बताया गया है। दरअसल इस खदान से बिना रॉयल्टी के ही हजारों ट्रक रेत, हर महीने चोरी की जा रही थी। रॉयल्टी सबमिशन का समय आया, तो आनन-फानन में ग्रामपंचायत के सदस्यों और स्थानीय खनिज अधिकारियों ने किसी भी गाड़ी के नंबर पर रॉयल्टी जारी कर जमा कर दिया। लेकिन आरटीआई में इस चोरी और फर्जीवाड़े की सारी पोल खुल गई।

वर्जन—
मामले की जांच की जा रही है। जांच पूरी होने पर दोषियों पर करवाई की जाएंगी।
प्रेम पटेल, एसडीएम, धमतरी

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *