मोदी सरकार की योजनाओं से जनता को वंचित कर रही हैं ममता

मोदी सरकार की योजनाओं से जनता को वंचित कर रही हैं ममता

रायपुर। पश्चिम बंगाल प्रवास पर गए प्रदेश की कृषि एवं सिंचाई मंत्री बृजमोहन अग्रवाल ने भारतीय जनता पार्टी संगठन द्वारा पंडित दीन दयाल उपाध्याय की जन्म शताब्दी के अवसर पर चालाये जा रहे कार्य विस्तार योजना कार्यक्रम में अपनी भागीदारी सुनिश्चित की। उन्होंने पुरुलिया जिले के गरजापुर ग्राम में भाजपा

वृद्धाश्रम में सेलिब्रेट किया फादर्स डे

वृद्धाश्रम में सेलिब्रेट किया फादर्स डे

रायपुर। महावीर महिला विंग ने संजीवनी वृद्धाश्रम में पहुंचकर वहां रह रहे बुजुर्गो के साथ फादर्स डे सेलिब्रेट किया। इस मौके पर संगठन के सदस्यों ने विविध कार्यक्रम आयोजित किये। कार्यक्रम में संगठन की अध्यक्ष सपना कुकरेजा के अलावा पहलाज खेमानी लक्ष्मी कुमार, प्रियंका, विशाल गुरानी समेत कई लोग उपस्थित

भारत की कामयाबी के लिए हवन कर मांगी दुआ

भारत की कामयाबी के लिए हवन कर मांगी दुआ

रायपुर। चैम्पियन ट्राफी में भारत और पाकिस्तान के बीच होने वाले महामुकाबले को लेकर लोगो में गजब का उत्साह देखा जा रहा है। प्रदेश के कोने-कोने में लोग जहां ईश्वर से टीम इंडिया की जीत के लिए प्रार्थनाएं कर रहे है वहीं भारत पाकिस्तान के बीच खेले जाने वाले फाइनल

कार्यकर्ताओं का ‘दर्द’ बांटेंगी यूथ कांग्रेस

कार्यकर्ताओं का ‘दर्द’ बांटेंगी यूथ कांग्रेस

रायपुर। मिशन 2018 की तैयारी में जुटी कांग्रेस युवाओं को साधने में जुटी है। अब युवा कांग्रेस के नेता गांव-गांव जाकर कार्यकर्ताओं का ‘दर्द’ सुनेंगे और उनसे समन्वय स्थापित करेंगे। अगर कार्यकर्ता पार्टी के किसी नेता की उपेक्षा का शिकार है तो उस समस्या को दूर किया जाएगा। छत्तीसगढ़ में

जैन युवा मोर्चा ने जताया आभार

जैन युवा मोर्चा ने जताया आभार

रायपुर। छतीशगढ़ शासन के कैबिनेट मंत्री जिन्होंने रायपुर शहर में 700 करोड़ के विकास कार्यो को स्वीकृती प्रदान की व जैन युवा मोर्चा के परमसंरक्षक विकास के पर्याय राजेश मुणत से पूरी टीम ने सौजन्य मुलाकात कर नई कार्यकारणी ने अश्रिर्वाद प्राप्त किया और भविष्य के सामाजिक व धार्मिक क्षेत्रो

गुढ़ियारी प्राथमिक स्वास्थ्य केन्द्र में मिलेगी 30 बिस्तरों की सुविधा

गुढ़ियारी प्राथमिक स्वास्थ्य केन्द्र में मिलेगी 30 बिस्तरों की सुविधा

— उपकरणों व आवश्यक सुविधाओं के लिए कलेक्टर ने जिला खनिज निधि से 38 लाख प्रदान करने की दी मंजूरी रायपुर। कलेक्टर ओपी चौधरी ने शनिवार को यहां राजधानी रायपुर के गुढ़ियारी, रामनगर व मठपुरैना में संचालित शहरी प्राथमिक स्वास्थ्य केन्द्रों का औचक निरीक्षण कर वहां उपलब्ध स्वास्थ्य सुविधाओं का

छत्तीसगढ़ में किसानों का कर्ज माफ करे सरकार

छत्तीसगढ़ में किसानों का कर्ज माफ करे सरकार

–राज्य में चरणबद्ध आन्दोलन शुरू करेगी कांग्रेस रायपुर। देश में कर्ज से डूबे किसानों द्वारा की जा रही आत्महत्या के मामले को लेकर छत्तीसगढ़ में किसान कांग्रेस चरणबद्ध आन्दोलन करेगी। संगठन के प्रदेश अध्यक्ष चन्द्रशेखर शुक्ल ने राज्य सरकार से मांग की है कि प्रदेश के सभी किसानों का कर्ज

बूढ़ातालाब हमारी सांस्कृतिक धरोहर है : छाया वर्मा

बूढ़ातालाब हमारी सांस्कृतिक धरोहर है : छाया वर्मा

रायपुर । बूढ़ातालाब को व्यवसायिक संस्थान की तरह विकसित किये जाने और चौपाटी बनाये जाने का विरोध तीव्र होता जा रहा है । आज सुबह राज्यसभा सदस्य श्रीमती छाया वर्मा एवं महापौर श्री प्रमोद दुबे के साथ प्रबुद्ध नागरिकों ने तालाब और गार्डन का मुआयना किया । इस दौरान श्रीमती

हर नारी को लक्ष्मीबाई बनने की आवश्यकता

हर नारी को लक्ष्मीबाई बनने की आवश्यकता

रानीगंज/प्रतापगढ़। भारत के प्रथम स्वतंत्रता संग्राम में अग्रणी भूमिका निभाने वाली जांबाज वीरांगना रानी लक्ष्मीबाई के बलिदान दिवस पर उत्तर प्रदेश के प्रतापगढ़ जिले की रानीगंज तहसील के मल्हूपुर ग्रामसभा में जांबाज हिंदुस्तानी सेवा समिति के तत्वाधान में युवा सामाजिक कार्यकतार्ओं की एक बैठक हुई जिसमें रानी लक्ष्मीबाई के शौर्य,

रमन को भाया मेदनीपुर का रसगुल्ला

रमन को भाया मेदनीपुर का रसगुल्ला

–दलित के घर बैठकर किया भोजन, हुआ स्वागत, आरती उतारी गई मेदनीपुर । मोदी सरकार की उपलब्धियां बताने छत्तीसगढ़ के मुख्यमंत्री डॉ. रमन सिंह शुक्रवार को पश्चिम बंगाल के प्रवास पर पहुंचे। यहां मेदनीपुर में उन्होंने जनसभा को संबोधित किया। इससे पहले उन्होंने दलित पुच्चा भुनिया के घर खाना खाया।

हर नारी को लक्ष्मीबाई बनने की आवश्यकता

रानीगंज/प्रतापगढ़। भारत के प्रथम स्वतंत्रता संग्राम में अग्रणी भूमिका निभाने वाली जांबाज वीरांगना रानी लक्ष्मीबाई के बलिदान दिवस पर उत्तर प्रदेश के प्रतापगढ़ जिले की रानीगंज तहसील के मल्हूपुर ग्रामसभा में जांबाज हिंदुस्तानी सेवा समिति के तत्वाधान में युवा सामाजिक कार्यकतार्ओं की एक बैठक हुई जिसमें रानी लक्ष्मीबाई के शौर्य, जीवन वृत्त पर चर्चा तथा उनको श्रद्धान्जलि दी गई ।बैठक में बोलते हुए जांबाज हिंदुस्तानी सेवा समिति के अध्यक्ष आलोक आजाद ने कहा कि भारतीय वसुंधरा को गौरवान्वित करने वाली झांसी की रानी वीरांगना लक्ष्मीबाई वास्तविक अर्थ में आदर्श वीरांगना थीं। सच्चा वीर कभी आपत्तियों से नहीं घबराता है।अंग्रेजी हुकूमत द्वारा दिए गए अनेकों प्रलोभन भी लक्ष्मीबाई को देश के प्रति कर्तव्यपालन से विमुख नही कर सके ।वही युवा सामाजिक कार्यकर्त्ता आलोक तिवारी ने कहा कि रानी लक्ष्मीबाई को आत्मविश्वासी, कर्तव्य परायण, स्वाभिमानी और धर्मनिष्ठ और उच्च चरित्र की साहसी महिला थीं । उन्होंने हर महिला को अपने भीतर रानी लक्ष्मीबाई जैसी साहस लाने की बात की। आगे उन्होंने ने कहा कि मात्र 22 वर्ष की अल्पायु में ही देश के लिए अपने प्राण न्योछावर कर वो सदा सदा के लिए अमर हो गई ।इस अवसर पर क्षेत्रीय सामाजिक कार्यकर्ता विवेक पांडेय ने रानी लक्ष्मीबाई के जीवन वृत्त पर प्रकाश डाला,वही पर आर एल सेवा समिति के प्रदीप मिश्र ने उपस्थित लोगों से रानी लक्ष्मीबाई के जीवन वृत्त से सीख लेने की बात कही तथा अपने भीतर राष्ट्र सर्वोपरि की भावना लाने की बात कही ,अन्य वक्ताओं में सी पी तिवारी , मनीष पाण्डेय , मनीष जैस्वाल आदि रहे ।इस अवसर पर रानी लक्ष्मीबाई की स्मृति में दो मिनट का मौन भी रखा गया,इस मौके पर प्रमुख रूप से संदीप सिंह, नवीन यादव ,लल्लू महराज, अनूप त्रिपाठी जी सहित कई क्षेत्रीय लोग उपस्थित रहे ।

अनूठी है शिखा शाह की कारीगरी

प्रतिभा पाण्डेय

 सेंट्रल पाॅल्यूशन कंट्रोल बोर्ड आॅफ इंडिया के फरवरी 2015 के आंकड़ों के अनुसार भारत में प्रतिदिन 1.4 लाख टन कचरा उत्पन्न होता है। इस कचरे में बहुत सा हिस्सा बोतलों, गत्ते, डिब्बे, प्लास्टिक का सामान, विभिन्न उद्योगों से निकले कबाड़ का भी होता है। शहरों में इन सबके ढेर के ढेर लगे देखना कोई नई बात नहीं है। यह जानते हुए भी कि इस तरह हर दिन इकट्ठा होता कचरा एक दिन हमारे घर के सामने तक पहुंच जाएगा, हम इसमें बढ़ोतरी करते जाते हैं। पर, बनारस की शिखा शाह की परवरिश और शिक्षा कुछ ऐसी हुई कि उन्हें इस बढ़ती समस्या से अनजान बने रहना मंजूर ना हुआ और उन्होंने एक सार्थक पहल की।

स्क्रैपशाला की शुरूआत

 इस तरह शुरू हुआ उनका छोटा सा स्टार्टअप, जिसका नाम रखा गया स्क्रैपशाला। शिखा की राय में लगातार बढ़ते कबाड़ से निजात तभी मिलेगी जब हम उसे कम करने की सोचें। कचरे का दोबारा उपयोग करने के तरीके खोजने होंगे उसे रिसाइकल करना होगा। इसके लिए वह अपने स्टार्टअप के जरिए कोशिश में लगी हैं। उनकी यह अनोखी सोच कई लोगों के लिए प्रेरणा बनी है।

छोड़ दी कमाऊ नौकरी

पर्यावरण विज्ञान से मास्टर्स करने के बाद शिखा को अपने प्रोजेक्ट्स और नौकरियों की वजह से गांवों की समस्याओं के बारे में करीब से जानने का मौका मिला। आईआईटी, मद्रास में अपनी नौकरी के दौरान वह कई छोटे-बड़े उद्यमियों से मिलीं और स्टार्टअप की चुनौतियों को समझने का मौका मिला। वहां से कुछ अपना और सार्थक करने का विचार आया। वह नौकरी छोड़कर अपने शहर बनारस आ गई और स्क्रैपशाला शुरू करने की योजना बनाई। शिखा बताती हैं कि बचपन से ही उन्होंने अपनी मां को चीजों को रिसाइकल करते देखा था। वह कबाड़ कम से कम निकालने पर जोर देती थीं और कई बार घर के पुराने हो रहे सामान को सजा-धजाकर नया कर देतीं। यह सब शिखा के लिए उनकी स्टार्टअप की प्रेरणा बने और स्क्रैपशाला में अपसाइकलिंग का काम शुरू हुआ।

कम नहीं थी चुनौतियां

शिखा बताती हैं, ‘स्क्रैपशाला के काॅन्सेप्ट को लेकर घर में किसी ने तुरंत हां नहीं की थी। शुरूआत में थोड़ी असहमति थी। लेकिन मां मेरे साथ आई और मेरी सहेली भी और एक बार शुरूआत होने पर सभी का सपोर्ट मिला। पुराने सामान और कचरे को नए रूप में लाना भी आसान काम नहीं होता। उसे साफ करना, डिजाइन करना भी एक चुनौती होती है। कचरे को लेकर वैसे भी लोगों में एक पूर्वधारणा होती है। तैयार सामान को लेकर लोगों में पहले डाउट था। फिर जब प्रोडक्ट्स पसंद किए गए, तो अब सबका सहयोग मिल रहा है।’ चुनौतियां और भी थीं, जैसे जगह, कारीगर और मैटीरियल। मां मधु शाह और सहेली कृति सिंह के साथ शिखा ने अपने घर से शुरूआत की। आज उनके पास पूरी टीम है। अपसाइकलिंग यानी पुरानी चीजों को नया रूप देने के लिए चीजें शुरूआत में उनके घर से ही मिलीं। शिखा बताती हैं कि अब पड़ोसियों, दोस्तों और परिचितों… सबको ध्यान रहता है। शिखा कहती हैं, ‘अब तो लोग कूरियर से भी मुझे चीजें भेज देते हैं। दोस्त कोई बेकार सामान फेंकने से पहले पूछ लेते हैं।’

कई लोगों के लिए गढ़ा रोजगार

शिखा की टीम में आज कई लोग हैं। हालांकि वे खुद भी डिजाइन करती हैं, लेकिन उनकी टीम के कारीगर भी अपने तरीके से इसमें योगदान देते हैं। वे बताती हैं, ‘अब हमारी बड़ी टीम है। इसमें आर्थिक रूप से पिछड़े वर्ग के भी लोग हैं। उन्हंे यहां एक नियमित आय मिल रही है और सबको अपने ढंग से क्रिएटिव वर्क की पूरी छूट है।’

क्या हैं उत्पाद

आज शिखा की स्क्रैपशाला बनारस ही नहीं, पूरे देश में एक जाना-पहचाना नाम है। यहां पुराने टायर से खूबसूरत फर्नीचर, चाॅकलेट-बिस्किूट के रैपर से बने खूबसूरत बैग्स, शीशे की बोतलों से लैंपशेड्स, प्लास्टिक की बोतलों से गमले, पुरानी केतली का सजावटी रूप और पुराने गत्ते से वाॅल डेकोरेशन के आइटम्स जैसी कई चीजें बनाई जा रही हैं। उनके प्रोडक्ट्स आॅफलाइन और आॅनलाइन उपलब्ध हैं। इसे और आगे ले जाने की योजना है।

घर में करें यूं कबाड़ कम

शिखा बताती हैं कि उनके घर में कचरा ना के बराबर निकलता है। इसके लिए वे कुछ टिप्स देती हैं-

  1. प्लास्टिक की बोतलों में पानी भरने पर अगर गर्मी हो, तो उसमें हानिकारक तत्व बनते हैं। इसलिए, घर में साॅस, शर्बत बगैरह की शीशे की बोतलें खाली हों तो उन्हें साफ करके पानी भरकर फ्रिज में रखें।
  2. घर में टूथब्रश प्लास्टिक के ना लेकर आप लकड़ी के लें। ये मार्केट में उपलब्ध हैं। इससे आपको उन्हें रिसाइकल करने में आसानी होगी।
  3. साबुन, शैंपू वगैरह के रीफिल पैक लेंगी, तो बोतलों का कचरा कम निकलेगा।
  4. गीले कचरे को कंपोस्ट (खाद) बना दें।
  5. कबाड़ को संस्थाओं को दान कर दें। उसे रिसाइकल कैसे करें, इसकी वर्कशाॅप में जाएं।

 

 

 

जनसेवा के क्षेत्र में रोल माॅडल बनीं पुष्पा पाल

अम्बेडकर नगर UP : महिलाओं व बच्चों के हित में कार्य करने के लिए रोल माॅडल के रूप में उभरी हैं अकबरपुर तहसील क्षेत्र के कुटियवा गांव निवासिनी पुष्पा पाल। पिता के निधन के बाद उन्होंने सामाजिक क्षेत्र में काम करने की चुनौती न सिर्फ स्वीकार किया वरन उसे अभी तक भली-भांति आगे बढ़ाया भी है। उनके इसी जज्बे व योगदान को देखते हुए राज्य सरकार ने गत वर्ष उन्हें रानी लक्ष्मी बाई पुरस्कार से लखनऊ में सम्मानित भी किया था। बेवाना ब्लाॅक भवन के शिलान्यास मौके पर भी पुष्पा को सम्मानित किया गया था। यूं तो सामाजिक संस्थाओं का जिक्र आते ही कई तरह के सवाल खड़े होने लगते हैं, लेकिन इन्हीं के बीच कुछ ऐसे लोग व कुछ ऐसी संस्थाएं भी हैं, जिनके द्वारा अपनी जिम्मेदारी का बखूबी निर्वहन किया जा रहा है। जिले के सीमावर्ती इलाके बेवाना के कुटियवा गांव में रहने वाले रामवदन पाल ने जन कल्याण के लिए सामाजिक संस्था जन शिक्षण केन्द्र का गठन किया था। वे अपनी मुहिम को अंजाम तक पहुंचाने की कोशिश में जुटे ही थे कि उनका असामायिक निधन हो गया। संस्था से जुड़े लोग जब हताशा के दौर में थे, तभी रामवदन पाल की बेटी पुष्पा पाल ने बड़ा हौसला दिखाते हुए तय किया कि वे अपने पिता के अधूरे कार्यों को पूरा करने के लिए आगे आएंगी। इसके बाद उन्होंने समाज सेवा के क्षेत्र में खुलकर भागीदारी शुरू कर दी।नतीजा यह रहा कि उन्होंने अपने पिता की राह पर चलते हुए नए ढंग से कार्ययोजना विकसित की, और अकबरपूर, जलालपुर व कटेहरी विकास खंड के कुछ क्षेत्रों में महिलाओं, बच्चों व दिव्यांगों के लिए काम शुरू किया। पुष्पा के सामने शुरूआती दौर में कई कठिनाइयां भी आयीं, लेकिन उन्होंने उनका बखूबी मुकाबला किया। संसाधनों की परवाह किए बगैर वे लगातार गांव-गांव भ्रमण करती रहीं, और महिलाओं समेत सभी ग्रामीणों को जागरूक करने का अभियान तेज कर दिया। मौसम की परवाह किए बगैर वे अभी भी लगातार गांव-गांव पहुंचती हैं, जहां उनके संगठन के लोग पहले से ही ग्रामीणों को एकत्र किए रहते हैं। वहां उन्हें विभिन्न प्रकार से जागरूक किया जाता है। लोगों को पढ़ने लिखने का तौर तरीका मौके पर ही सिखाया जाता है। उत्तर प्रदेश के राज्यपाल माननीय श्री रामनाईक गत वर्ष जिला मुख्यालय के एक कार्यक्रम में भाग लेने पहुंचे थे, तो वहां उन्होंने इस संगठन व उसके कार्यकर्ताओं का विस्तार से जिक्र किया था। दरअसल राज्यपाल जिले के महत्व को लेकर भाषण दे रहे थे। उसी क्रम में उन्होंने इस संगठन के कार्यों व प्रयासों का जिक्र किया था।

रमन को भाया मेदनीपुर का रसगुल्ला

–दलित के घर बैठकर किया भोजन, हुआ स्वागत, आरती उतारी गई
मेदनीपुर । मोदी सरकार की उपलब्धियां बताने छत्तीसगढ़ के मुख्यमंत्री डॉ. रमन सिंह शुक्रवार को पश्चिम बंगाल के प्रवास पर पहुंचे। यहां मेदनीपुर में उन्होंने जनसभा को संबोधित किया। इससे पहले उन्होंने दलित पुच्चा भुनिया के घर खाना खाया। पश्चिम बंगाल दौरे पर पहुंचे डॉ. रमन सिंह के कार्यक्रम की शुरूआत दलित के घर भोजन से हुई। दोपहर दो बजे मुख्यमंत्री डॉ रमन सिंह हबीबपुर के बेनापुकुर पश्चिमपार वार्ड नंबर-1 पहुंचे। यहां उन्होंने पुच्चा भुनिया के घर पर भोजन किया। मिट्टी से बने घर में मुख्यमंत्री ने जमीन पर बैठकर पारंपरिक अंदाज में भोजन किया। दोना पत्तल में मुख्यमंत्री के लिए भोजन परोसा गया। खाने में मुख्यमंत्री को चावल-दाल के अलावा करेले की सूखी भुजिया, भिंडी की भुजिया और साग के साथ-साथ लौकी की सब्जी दी गयी। साथ में तवा रोटी और सलाद परोसी गयी। मुख्यमंत्री ने खूब चाव से भोजन किया और उसकी तारीफ की। खाने के बाद स्वीट डिश में खास तौर उनके लिए बंगाली रसगुल्ला मंगाया गया था जो मुख्यमंत्री को खूब पसंद आया। इससे पहले बतौर मेहमान उनका खास स्वागत किया गया, आरती उतारी गयी। कांसे के लोटे में पानी लाया गया ताकि भगवान को भोग लगा सकें। बंगाल में कांसे के बरतन में ही पानी पीने और खाने की परंपरा है।

 

अनंतनाग में आतंकी हमला, 6 पुलिसवाले शहीद

श्रीनगर। जम्मू-कश्मीर के अनंतनाग में शुक्रवार को आतंकवादियों के घात लगाकर किए गए हमले में एक सब इंस्पेक्टर समेत 6 पुलिसवाले शहीद हो गए। दक्षिण कश्मीर के अनंतनाग जिले के थाजीवाड़ा अचबल में घात लगाकर बैठे आतंकवादियों ने पुलिस दल पर अंधाधुंध फायरिंग कर दी। शहीद एसएचओ की पहचान सब इन्सपेक्टर फिरोज के रूप में हुई है। वरिष्ठ पुलिस अधिकारियों ने बताया कि आतंकी हमले में कुछ पुलिसवाले गंभीर रूप में जख्मी हुए हैं जिन्हें नजदीकी अस्पताल में भर्ती कराया गया है। उन्होंने बताया कि मौका-ए-वारदात पर सेना की टुकड़ी पहुंच चुकी है जो आस-पास के इलाकों में सर्च आॅपरेशन चला रही है। इससे पहले भी आतंकवादियों ने सुरक्षा बलों और पुलिस को निशाना बनाते हुए हाल में कई हमले कर चुके हैं। इससे पहले गुरुवार को श्रीनगर के हैदरपुरा इलाके में आतंकियों के हमले में गंभीर रूप से जख्मी पुलिसवाले ने इलाज के दौरान दम तोड़ दिया था। वहीं कुलगाम जिले के बोगंड गांव में आतंकियों के हमले में सीआरपीएफ के एक जवान शहीद हुए थे। मंगलवार को भी आतंकियों ने 4 घंटे के भीतर घाटी के अलग-अलग हिस्सों में एक के बाद एक कुल 6 हमले किए थे, जिनमें 13 जवान जख्मी हुए थे। आतंकियों ने 4 सर्विस राइफल भी लूट लिया था।

अब संगठित होकर किसान संगठन करेंगे आन्दोलन

नई दिल्ली। शुक्रवार को देश भर के लगभग 100 छोड़े-बड़े किसान संगठनों ने मिलकर आंदोलन करने का फैसला लिया। दिल्ली के गांधी शांति प्रतिष्ठान में एक समन्वय समिति का गठन किया गया जिसका नाम अखिल भारतीय किसान संघर्ष समन्वय समिति रखा गया है। समिति ने छह जुलाई को मंदसौर से देश भर में कर्ज माफी को लेकर पद यात्रा करने फैसला लिया है। उधर शुक्रवार को किसान संगठनों ने देश भर के नेशनल हाइवे तीन घंटे के लिए जाम रखने का ऐलान किया। पुलिस उनको हटाने के लिए मशक्कत करती दिखी। किसान संगठन अब लामबंद हो रहे हैं। अब उनकी एक साझा आंदोलन की तैयारी है। योगेंद्र यादव, तमिलनाडु के अय्यकन्नू, हनन मुल्ला राजस्थान के रामपाल, महाराष्ट्र के राजू शेट्टी जैसे नेताओं ने मांग की है कि स्वामीनाथन आयोग की सिफारिशें लागू हों, किसान को फसल का सही मूल्य दिया जाए और किसानों का पूरा कर्ज़ माफ किया जाए। अखिल भारतीय किसान संघर्ष समन्वय समिति ने ऐलान किया है कि छह जुलाई से मंदसौर से देशव्यापी किसान यात्रा निकाली जाएगी। इस यात्रा का समापन दो अक्टूबर को चंपारण में होगा। सांसद और किसान नेता राजू शेट्टी का कहना है कि हम यात्रा निकालेंगे मंदसौर से जहां किसानों की हत्या हुई। सबको एक करेंगे, गांव-गांव जाकर किसानों का जोड़ने का काम करेंगे।

राष्ट्रपति से मोहन भागवत ने डेढ़ घंटे की गुफ्तगू

नई दिल्ली। संघ प्रमुख मोहन भागवत शुक्रवार को राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी से मिले। दोनों नेताओं की लंच पर मुलाकात हुई। ये मुलाकात करीब डेढ़ घंटे चली। राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी के निमंत्रण पर ये मुलाकात हुई। राष्ट्रपति भवन में भागवत उनसे मिलने पहुंचे। वैसे तो इसको शिष्टाचार भेंट बताया जा रहा है लेकिन आगामी राष्ट्रपति चुनावों को देखते हुए इसके सियासी निहितार्थ निकाले जा रहे हैं। आरएसएस के सूत्रों ने बताया कि भागवत राष्ट्रपति से मुलाकात के लिए रुद्रपुर से शुक्रवार को राष्ट्रीय राजधानी पहुंचे। वह संघ के स्वयंसेवक शिक्षण और प्रशिक्षण कार्यक्रम में शामिल होने के लिए गुरुवार को रुद्रपुर में थे। राष्ट्रपति चुनाव से ऐन पहले हुई इस मुलाकात ने राजनीतिक हलकों में अटकलों को हवा दी है।

पूछने की आदत से शिक्षक परेशान होते थे

सत्या नडेला, माइक्रोसाॅफ्ट, सीईओ

मेरे पिता आईएएस अधिकारी थे। मैंने बेगमपेट स्थित हैदराबाद पब्लिक स्कूल से अपनी प्राथमिक शिक्षा पूरी की। बचपन से ही मैंने सोच लिया था कि मुझे टेक्नोलाॅजी के क्षेत्र में बड़ा काम करना है।  मैं हर चीज को उसकी संपूर्णता में जानना-समझना चाहता था। मुझे याद है, मणिपाल इंस्टीटयूट आॅफ टेक्नोलाॅजी में आने के बाद मैं अपने भविष्य के बारे में बहुत सोचता था। क्लास में मैं अध्यापकों से लगातार सवाल करता था, जबकि मेरे दोस्त खामोश बैठे रहते थे। सवाल पूछने की मेरी आदत से अध्यापक भी कई बार परेशान हो जाते थे। वहां हम दोस्तों के बीच अपने भविष्य पर बात करते थे। मेरे दोस्त कहते थे कि हार्डवेयर का भविष्य तो सन माइक्रोसिस्टम्स में है। लेकिन मैं उन्हें कहता था कि मुझे साॅफ्टवेयर के क्षेत्र में जाना चाहिए, मुझे मार्केटिंग में होना चाहिए और माइक्रोसाॅफ्ट मेरी मंजिल होनी चाहिए। 1992 में मैंने अनुपमा से शादी की, जो मेरे साथ स्कूल में पढ़ती थी और मेरे पिता के दोस्त की बेटी थी। उसी साल मैंने माइक्रोसाॅफ्ट जाॅइन की। शादी ने मेरा जीवन बदल दिया और माइक्रोसाॅफ्ट ने मुुझे वैश्विक पहचान दिलाई। हालांकि मैं ‘हर घर, हर डेस्क पर एक कंप्यूटर’ के बिल गेट्स के लक्ष्य को एक छोटा और तात्कालिक लक्ष्य मानता था, क्योंकि वह लक्ष्य तो करीब एक दर्शक में ही पूरा हो चुका था। मैं उन चंद लोगों में से था, जिसने कंपनी को क्लाउड कम्यूटिंग के बारे में बताया। नतीजतन कंपनी ने इसमें निवेश करना शुरू किया और जल्दी ही माइक्रोसाॅफ्ट ने क्लाउड कम्प्यूटिंग की वह तकनीक विकसित की, जिसने आईटी क्षेत्र की तस्वीर तो बदली ही, इससे माइक्रोसाॅफ्ट की आय में बहुत उछाल आया। वर्ष 2014 में माइक्रोसाॅफ्ट का सीईओ बनना मेरे जीवन का एक बड़ा घटनाक्रम था।

कविता अभिव्यक्ति का सर्वश्रेष्ठ माध्यम है

खाली वक्त में मैं कविताएं और रूसी उपन्यास पढ़ना पसंद करता हूूं। मैं कविताओं को अभिव्यक्ति का सर्वश्रेष्ठ माध्यम मानता हूं। भारतीय और अमेरिकी कविताएं मैं खूब पढ़ता हूं। मैं बचपन में अपनी स्कूल की क्रिकेट टीम का हिस्सा था और अब भी समय मिलने पर टीवी पर टेस्ट मैच देखता हूं। मैं मानता हंू कि टीम वर्क की समझ और नेतृत्व करने की क्षमता मुझमें इसी खेल के कारण विकसित हुई है। हालांकि फुटबाॅल भी मेरा पसंदीदा खेल है। सिएटल स्थित पेशेवर फुटबाॅल टीम सी-हाॅक का मैं फैन हूं। मैं फिटनेस के प्रति सजग हूं और हमेशा दौड़ता हूं।

मैं एक पारिवारिक आदमी हूं

मेरा स्वभाव मेरे काम के ठीक विपरीत है। मैं एक पारिवारिक आदमी हूं। आज भी काम के बाद मेरा वक्त पत्नी और तीन बच्चों के इर्द-गिर्द ही बीतता है। स्कूल और काॅलेज के दोस्तों के संपर्क में मैं आज भी हूं। पर मैं सोशल मीडिया पर सक्रिय नहीं हूं। वर्ष 2010 के बाद मैंने ट्वीट नहीं किया। हालांकि मुझे भाषण देना अच्छा लगता है। लेकिन रिजर्व रहना पसंद करता हूं।

मेहरा सन्स ज्वेलर्स की सात करोड़ रुपये जब्त

नई दिल्ली। पनामा लीक्स मामले की जांच में प्रवर्तन निदेशालय (ईडी) को पहली बड़ी सफलता मिली है। भारत से चोरी-छिपे करोड़ों रुपये विदेश ले जाकर निवेश करने के मामले में ईडी ने दिल्ली के मेहरा सन्स ज्वेलर्स की सात करोड़ रुपये जब्त कर लिया है। पनामा में मेहरा परिवार के सदस्यों के विदेशी निवेश का खुलासा हुआ था। यही नहीं, पहली बार ईडी ने इस मामले में विदेशों में जमा कालेधन को जब्त करने वाले कड़े कानून का इस्तेमाल किया था। ईडी के एक वरिष्ठ अधिकारी ने कहा कि मेहरा सन्स के एके मेहरा, दीपक मेहरा, शालिनी मेहरा और नवीन मेहरा ने विदेश में निवेश के नाम पर करोड़ों रुपये देश से बाहर भेज दिया। ये पैसे मेहरा सन्स ने दो कंपनियों को ब्याज मुक्त कर्ज के रूप में दिया और बाद में दुबई में अपने निजी खातों में जमा कर लिया। इन खातों में इस समय भी 10.54 करोड़ रुपये जमा है। ईडी ने पैसे के ले जाने सारे रूट की छानबीन करने और पुख्ता सबूत जुटाने के बाद विदेशी खाते में जमा सात करोड़ रुपये को जब्त कर लिया है।

 

कलेक्टर  पी.दयानंद ने जनपद पंचायत मस्तूरी का निरीक्षण किया

बिलासपुर। कलेक्टर पी.दयानंद ने आज कार्यालय जनपद पंचायत मस्तूरी का सघन निरीक्षण किया। साथ ही लोक सुराज में प्राप्त आवेदनों के तथा उनके निराकरण से संबंधित जानकारी ली। राशन कार्डों से संबंधित आवेदनों के निराकरण की जानकारी ली। उन्होंने आवेदनों के रिकार्ड को व्यवस्थित ढंग से रखने के निर्देश दिये। कलेक्टर ने शौचालय निर्माण में गड़बड़ी करने वालों के खिलाफ जांच करने के निर्देश दिये। उन्होंने स्थापना कक्ष में निरीक्षण किया तथा स्थापना पंजी की जांच की। वित्त शाखा मे जाकर संधारित नस्तियों का निरीक्षण किया। विभिन्न मदों में प्राप्त आबंटन और व्यय की जानकारी ली। आवंटन पंजी का निरीक्षण किया तथा माहवार जानकारी संधारित करने के निर्देश दिये। उन्होंने कार्यालय के कर्मचारियों को हिदायत दी कि वे अपना काम ईमानदारी एवं निष्ठापूर्वक करें। लापरवाही बरतने पर सख्त कार्रवाई करने की चेतावनी भी दी। उन्होंने अलग-अलग प्रकार के पेंशन की अलग-अलग नस्ती व्यवस्थित ढंग से संधारित करने के निर्देश दिये। ग्रामवार पेंशन धारियों की पंजी संधारित करने के निर्देश दिये। उन्होंने लेखा शाखा के नस्तियों का भी निरीक्षण किया। कलेक्टर ने कार्यालय में पुरानी नस्तियों को हटाने तथा साफ-सफाई रखने के भी निर्देश दिये। उन्होंने कार्यालय परिसर में शौचालय का भी निरीक्षण किया। साथ ही परिसर में जर्जर पानी टंकी की साफ-सफाई करने निर्देश दिये। कलेक्टर ने निरीक्षण के दौरान मनरेगा में लंबित भुगतान की जानकारी ली तथा तालाब, डबरी, सड़क कार्यों में मजदूरी भुगतान समयसीमा में करने के निर्देश दिये। उन्होंने समयीसीमा में समस्त विकास कार्यों को पूर्ण करने के निर्देश दिये। निरीक्षण के दौरान जिला पंचायत की मुख्य कार्यपालन अधिकारी श्रीमती फरिहा आलम सिद्दकी, एसडीएम श्री कीर्तिमान सिंह राठौर, जनपद पंचायत सीईओ श्रीमती मोनिका वर्मा आदि उपस्थित थे।