Category Archives: छत्तीसगढ़

मुख्यमंत्री ने संत रतन मुनि महाराज से लिया आशीर्वाद

रायपुर। मुख्यमंत्री डॉ. रमन सिंह ने आज राजनांदगांव मेन रोड बसंतपुर स्थित जे डाकलिया के निवास पहुंचकर जैन मुनि संत रतन मुनि महाराज से भेंट कर आशीर्वाद ग्रहण किया। उल्लेखनीय है कि संत रतन मुनि महाराज का होली चातुर मास के अवसर पर आज 15 मार्च को राजनांदगांव आगमन हुआ हैं। इस अवसर पर महापौर मधुसूदन यादव, बीस सूत्रीय कार्यक्रम क्रियान्वयन समिति के उपाध्यक्ष  खूबचंद पारख, नगर निगम के सभापति शिव वर्मा, राजगामी संपदा न्यास के पूर्व अध्यक्ष संतोष अग्रवाल, अनेक जनप्रतिनिधियों और बड़ी संख्या में जैन समाज के लोग उपस्थित थे।

धर्मसभा में मिलेगा वेद-विज्ञान का ज्ञानः डॉ. रमन सिंह

रायपुर। मुख्यमंत्री डॉ. रमन सिंह आज शाम राजनांदगांव जिला मुख्यालय में आयोजित विशाल आध्यात्मिक धर्मसभा में शामिल हुए। उन्होंने स्थानीय उदयाचल परिसर में आयोजित इस धर्मसभा में गोर्वधन मठ पुरी के पीठाधीश्वर महाराज जगदगुरू शंकराचार्य स्वामी निश्चलानंद सरस्वती को नमन कर उनसे छत्तीसगढ़ के विकास और सुख-समृद्धि के लिए आशीर्वाद ग्रहण किया। उन्होनें इस धर्मसभा में पूजा-अर्चना की। इस अवसर पर आयोजन समिति धर्म संघ पीठ परिषद के संयोजक श्री नीलू शर्मा ने जगदगुरू शंकराचार्य स्वामी निश्चलानंद सरस्वती जी और मुख्यमंत्री डॉ. रमन सिंह का स्वागत किया। यह आध्यात्मिक धर्मसभा 17 मार्च तक आयोजित की गई है।
धर्मसभा के शुभारंभ अवसर पर डॉ. रमन सिंह ने कहा कि छसगढ़ में बलरामपुर से लेकर बस्तर तक राम नाम का प्रवाह है। प्राचीन कौशल्या नगरी से लेकर दंडकारण्य तक भगवान श्री राम ने छत्तीसगढ़ की धरती को अपने पावन चरणों से समृद्धि प्रदान की है। डॉ. रमन सिंह ने पुरी के पीठाधीश्वर महाराज जगदगुरू शंकराचार्य स्वामी निश्चलानंद सरस्वती के राजनांदगांव प्रवास को सौभाग्यशाली क्षण बताते हुए पूरे छत्तीसगढ़ की ओर से स्वामी जी का स्वागत किया। डॉ. रमन सिंह ने कहा कि तीन दिन की इस धर्मसभा में स्वामी जी के द्वारा सहजता और सरलता के साथ वेद, उपनिषदों और विज्ञान का आध्यात्मिक ज्ञान श्रद्धालुओं को मिल सकेगा। उन्होनें कहा कि कठिन विषयों से लेकर वैदिक गणित तक की जानकारी सरल भाषा में स्वामी जी के द्वारा लोगों को मिलेगी, जिसे अपने जीवन में उतारकर आम आदमी भी आध्यात्मिक सुख और शांति का अनुभव कर सकता है।

छत्तीसगढ़ की इंजीनियर बेटी इसरो में बनेगी साईंटिस्ट

रायपुर। रायपुर विकास प्राधिकरण के तकनीकी शाखा के सहायक अधीक्षक भास्कर दीवान की इंजीनियर बेटी प्रियंका दीवान का चयन भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान संगठन बंगलोर में जूनियर सांईटिस्ट के पद पर हुआ है। इसरो द्वारा 201 प्रतियाशियों की जारी सूची में प्रियंका का नाम 170 क्रम पर है। इसरो में चयन होना युवाओं वर्ग में काफी प्रतिष्ठा की विषय माना जाता है।
भिलाई इंस्टीट्यूट आॅफ टेक्नालाजी की छात्रा प्रियंका दीवान शुरू से ही मेधावी छात्रा रही है। बारहवीं की परीक्षा में 80 प्रतिशत और बी.ई. में 81 प्रतिशत अंक लाने वाली प्रियंका ने भिलाई इस्टीट्यूट आॅफ टेक्नालॉजी, दुर्ग से इलेक्ट्रॉनिक एंड टेली कम्युनिकेशन विषय में इंजीनियरिंग की पढ़ाई की है। प्रियंका ने बताया कि है कि इसरो का आवेदन पत्र भरते समय उसने जूनियर सांईटिस्ट और जूनियर सांईटिफिक आॅफिसर में से जूनियर सांईटिस्ट को ही चुना था और कड़ी मेहनत करने के कारण सिलेक्शन हो गया। पढ़ाई करना, वाद-विवाद व भाषण प्रतियोगिताओं में भाग लेना, बैडमिटन खेलना तथा डांस करना प्रियंका की हॉबी है।
संजय श्रीवास्तव समेत सभी स्टाफ ने दी बधाई
प्रियंका की इस उपलब्धि पर शुक्रवार को रायपुर विकास प्राधिकरण कार्यालय में खुशी का माहौल था। प्राधिकरण के अध्यक्ष संजय श्रीवास्तव ने कहा है कि प्रियंका ने पूरे छत्तीसगढ़ का मान बढ़ाया है। प्राधिकरण के उपाध्यक्षद्वय गोवर्धन खंडेलवाल व रमेश सिंह ठाकुर, मुख्य कार्यपालन अधिकारी एम.डी. कावरे, अतिरिक्त सीईओ एस.आर.दीवान, मुख्य अभियंता जे.एस. भाटिया, संचालक मंडल के अशासकीय सदस्य गोपी साहू, नारद कौशल, रविन्द्र बंजारे, श्रीमती सुनयना शुक्ला, श्रीमती एम. लक्ष्मी, अभियंता संघ के अनिल गुप्ता, प्रमोद बैस, कर्मचारी संघ के अध्यक्ष राजकुमार अवस्थी, सचिव अब्दुल आरिफ, प्राधिकरण के सभी अधिकारियों और कर्मचारियों ने प्रियंका दीवान की इस उपलब्धि पर उसे बधाई दी है तथा उसके उज्जवल भविष्य की कामना की है।

अंतर्राष्ट्रीय महिला दिवस पर आरडीए में सम्मानित हुई महिला कर्मचारी

रायपुर, अंतराष्ट्रीय महिला दिवस पर आज रायपुर विकास प्राधिकरण में अध्यक्ष ने कार्यालय की महिला कर्मचारियों से सौजन्य मुलाकात की और पुष्प गुच्छ भेंट कर उनका सम्मान किया. इस अवसर पर श्री श्रीवास्तव ने कार्यालय अधीक्षक श्रीमती हेमंत बर्छिया, श्रीमती संध्या मिश्रा सहित अन्य सभी महिला कर्मचारियों से उनकी समस्याओं इत्यादि के बारे में जानकारी ली और उसे शीघ्र ही दूर करने की बात कही. श्रीमती बर्छिया ने अध्यक्ष को बताया कि इस समय प्राधिकरण में विभिन्न स्थापना में लगभग 50 से ज्यादा महिला कर्मचारी कार्यरत हैं. महिला कर्मचारियों ने बताया कि इस समय प्राधिकरण में दो महिला इंजीनियर तथा सलाहकार कंपनियों की ओर से 4 महिला इंजीनियर भी कार्यरत हैं. इस अवसर पर प्राधिकरण कर्मचारी संघ के अध्यक्ष श्री राजकुमार अवस्थी भी उपस्थित थे.

केयूर भूषण पुनः चुने गए अखिल भारतीय प्राकृतिक चिकित्सा परिषद के राष्ट्रीय अध्यक्ष

–रायपुर में  महाधिवेशन संपन्न, गठित हुई २१ सदस्यीय कार्यकारिणी
रायपुर . रायपुर में संपन्न हुए अखिल भारतीय प्राकृतिक चिकित्सा परिषद, नई दिल्ली के ३६वें महाधिवेशन में देशभर के लगभग ५०० प्राकृतिक एवं योग चिकित्सकों ने सहभागिता करते हुए प्राकृतिक चिकित्सा एवं योग के विभिन्न वैज्ञानिक पहलुओं पर चर्चा के साथ विभिन्न रोगों के उपचार की विस्तृत वयाखया की. इस अवसर पर प्रातः स्वास्थय सन्देश पद यात्रा के माध्यम से जनसामान्य को प्राकृतिक उपचार पद्धिति को अपनाने की प्रेरणा दी गई. पदयात्रियों ने आज़ाद चौक स्थित गाँधी प्रतिमा व पार्क की सफाई कर सर्वधर्म समभाव की प्रार्थना की गई. ७ मार्च को संपन्न विशेष बैठक में नवनियुक्त २१ सदस्यीय कार्यकारिणी की पुष्टि की गई .

राष्ट्रीय कार्यकरिणी के अध्यक्ष श्री केयूर भूषण, उपाध्यक्ष श्री शंकर सान्याल एवं डॉ विमल मोदी, महासचिव डॉ अवधेश कुमार मिश्र, सचिव डॉ शम्भू दयाल भारतीय एवं डॉ ऍन पी सिंह, क्षेत्रीय मंत्री सह सदस्य डॉ सच्चिदानंद, डॉ के पी श्रीवास्तव, डॉ कुमारस्वामी, डॉ डी डी शिन्द्रे व् डॉ कांता बाजवा, कोष्याध्यक्ष सुश्री कुसुम बहन, सदस्य कार्यकरिणी डॉ सी एल सोनवानी, श्री रामचंद्र राही (प्रितिनिधि गाँधी स्मारक निधि ) डॉ एस पी विस्वास, डॉ पी आर चंडोल, डॉ सियाप्रताप सिंह, डॉ ए आर त्रिपाठी, डॉ सरोज मालू, डॉ अनिरुद्ध बडगुजर, डॉ अन्नपूर्णा गुरुगोस्वामी, विशेष आमंत्रित संपादक परिषद् प्रभा व डॉ अरविन्द कुमार बने.

छत्तीसगढ़ में खुलेगी एथलेटिक्स अकादमी

रायपुर। मुख्यमंत्री डॉ. रमन सिंह का उत्साह रविवार को नया रायपुर में आयोजित राज्य स्तरीय हाफ मैराथन में उमड़े जनसैलाब को देखकर दूना हो गया। उन्होंने लोगों के उत्साह को देखते हुए प्रदेश में एथलेटिक्स अकादमी जल्द शुरू करने की घोषणा की। मुख्यमंत्री ने कहा कि छत्तीसगढ़ में अन्य खेलों की स्थिति काफी अच्छी और संतोषजनक है, लेकिन आज के इस हाफ मैराथन में हजारों की संख्या में शामिल होकर लोगों ने भारी उत्साह के साथ शामिल होकर एथलेटिक्स के प्रति अपनी दिलचस्पी दिखाई है। इसे देखते हुए बहुत जल्द छत्तीसगढ़ में एथलेटिक्स अकादमी की स्थापना की जायेगी। डॉ. रमन सिंह ने कहा कि अगले साल भी यह आयोजन किया जाएगा, जिसमें हमारा लक्ष्य होगा कि कम से कम 40 हजार लोग यहां एक साथ दौड़ें।

खेल मंत्री ने साई का क्षेत्रीय कार्यालय खोलने की घोषणा की
केन्द्रीय खेल मंत्री विजय गोयल ने छत्तीसगढ़ के लिए भारतीय खेल प्राधिकरण (साई) का क्षेत्रीय कार्यालय रायपुर में जल्द खोलने का ऐलान किया और कहा कि इसमें निदेशक स्तर के अधिकारी पदस्थ किए जाएंगे। वर्तमान में छत्तीसगढ़ को खेलों से संबंधित विषयों के लिए प्राधिकरण के भोपाल कार्यालय से सम्पर्क करना पड़ता है। छत्तीसगढ़ को अलग से यह क्षेत्रीय कार्यालय मिलेगा।
राष्ट्रीय मैराथन दिवस मनाया जाएगा
श्री गोयल ने कहा कि नया रायपुर में हाफ मैराथन की ऐतिहासिक सफलता को देखते हुए केन्द्र सरकार द्वारा बहुत जल्द राष्ट्रीय मैराथन दिवस मनाने की शुरूआत की जाएगी। उन्होंने कहा-हम सब की यह मंशा है कि राष्ट्रीय मैराथन दिवस जब आयोजित हो, तब देश के लोग अपने गांव, अपने शहर, अपने गली-मोहल्लों में, स्वच्छता के लिए, स्वास्थ्य के लिए, डिजिटल भारत के लिए और देश को आगे बढ़ाने के लिए एक साथ मिलकर खूब दौड़ें।
खेल को शिक्षा से जोड़ेंगे
केन्द्रीय खेल मंत्री ने कहा-केन्द्र सरकार खेल को शिक्षा से जोड़ने की दिशा में गंभीरता से विचार कर रही है। खेल स्वास्थ्य के लिए जरूरी है। लोग स्वस्थ रहेंगे तो स्वास्थ्य का बजट कम खर्च होगा और देश के अन्य कार्यों में भी लगाया जा सकेगा। श्री गोयल ने बताया कि केन्द्रीय खेल और युवा मामलों के मंत्रालय ने राष्ट्रीय स्तर पर खेल प्रतिभाओं की खोज के लिए वेब पोर्टल बनाने का निर्णय लिया है। इसमें कोई भी खिलाड़ी अपने खेल का वीडियो अपलोड कर सकेगा। इसे देखकर मंत्रालय द्वारा खेल प्रतिभाओं को चिन्हांकित कर उन्हें हर संभव सहयोग दिया जाएगा।

मिल्खा सिंह ने बढ़ाया उत्साह
आयोजन में देश के 92 वर्षीय प्रसिद्ध और लोकप्रिय धावक मिल्खा सिंह ने अपनी गरिमामय उपस्थिति से सबका उत्साह बढ़ाया। भारत की प्रसिद्ध रेसलर गीता फोगट और कई अर्जुन पुरस्कार प्राप्त तथा अन्य कई राष्ट्रीय पुरस्कार प्राप्त खिलाड़ियों ने भी यहां आकर धावकों का हौसला बढ़ाया।

जनता से जुड़ने डॉ. रमन ने बदली रणनीति

–मौके पर कराएंगे समस्याओं का निराकरण
रायपुर। मुख्यमंत्री डॉ. रमन सिंह ने जनता से सीधे जुड़ने के लिए रणनीति बदल दी है। इस आर वह लोक सुराज अभियान के बदले लोक समाधान शिविर लगाएंगेऔर मौके पर ही लोगों की समस्या का निराकरण कराएंगे। मुख्यमंत्री को यह बात संज्ञान में आयी है कि लोक सुराज में मिलने वाले आवेदनों का ढंग से निबटारा नहीं किया गया। कई विभाग खानापूर्ति कर मामले को निस्तारित कर देते हैं। लिहाजा, अब सिर्फ आवेदन ही नहीं लिए जाएंगे बल्कि फौरन निराकरण भी कराएंगे। ऐसा दावा किया जा रहा है कि देश में पहली बार खास कंसेप्ट के साथ समाधान शिविर लगेंगेऔर, सोशल आॅडिट की दिशा में यह मील का पत्थर साबित होगा।

25 फरवरी से शुरूआत
लोक समाधान शिविर के लिए आवेदन लेने का काम 25 फरवरी से शुरू होकर 28 मार्च तक चलेगा। इस दौरान सरकारी नुमाइंदे घर-घर जाकर आवेदन एकित्रत करेंगे। इसके लिए हर 10 ग्राम पंचायतों के बीच एक समाधान शिविर बनाए जाएंगे। हर शिविर के लिए एक नोडल अधिकारी होंगे।

3 अप्रैल से समाधान शिविर
समाधान शिविर 3 अप्रैल से शुरू होकर 20 मई तक चलेंगे। मुख्यमंत्री इसमें सभी 27 जिलों का दौरा करेंगें। इनमें से 20 जिलों में वे रात्रि विश्राम करेंगे। सिर्फ राजधानी के पड़ोस वाले जिले मसलन, दुर्ग, धमतरी, महासमुंद, बेमेमरा, बलौदा बाजार, गरियाबंद जैसे जिलों में उनका रात्रि विश्राम नहीं होगा।

अंदाज जुदा होगा
लोक समाधान शिविर में सीएम का अंदाज अबकी जुदा होगा। कलेक्टरों को भीड़ जुटाकर वाहवाही बटोरने का इस बार अवसर नहीं मिलेगा। सीएम इस बार दो टूक बात करेंगे। प्रत्येक जिले के दो समाधान शिविर में वे खुद जाएंगे। लोगों से सीधे पूछेंगे कि उनके आवेदनों पर कार्रवाई हुई या नहीं।

तीन सदस्यीय टीम रखेगी नजर
लोक समाधान की मानिटरिंग के लिए तीन सदस्यीय टीम बनाई गई है। सचिव सुबोध सिंह, संयुक्त सचिव रजत कुमार और जनसंपर्क के संचालक राजेश सुकुमार टोप्पो टीम में शामिल हैं। तीनों अधिकारियों ने अपना काम प्रारंभ कर दिया है। लोगों से मिलने वाले आवेदन आनलाइन होंगे। कमेटी इस पर नजर रखेगी कि आवेदनों के निबटारे में फर्जीवाड़ा तो नहीं किया जा रहा है।

रायपुर में ‘आदर्श सोसायटी’ की तर्ज पर स्वागत विहार घोटाला

–गाढ़ी कमाई का पैसा फंसाकर ठोकरें खा रहे 31 सौ परिवारों के सदस्य
–ले-आउट और प्रक्रिया पूरी होने का झांसा देकर बनाया वेवकूफ
–स्टेट बैंक आॅफ इंडिया को ऋण की राशि अदा कर रहे पीड़ित
रायपुर।मुंबई के ‘आदर्श सोसायटी’ घोटाले की तर्ज पर रायपुर में स्वागत विहार घोटाला किया गया है। इस घोटाले से पीड़ित 31 सौ परिवार के सदस्य न्याय पाने के लिए दर-दर की ठोकरें खा रहे हैं पर कोई सुनने वाला नहीं है। मामला आठ साल पुराना वर्ष 2008 का है। पीड़ितों ने न्याय पाने के लिए भू एवं भवन स्वामी विकास संघ नाम से संगठन बना रखा है और न्याय के लिए संघर्ष कर रहे हैं। इस मामले में करीब 25 करोड़ रुपए का घोटाला किया गया है। पहले बिल्डर द्वारा अफसरों से मिलीभगत करके ले-आउट और प्रक्रिया पूरी होने को झांसा दिया गया। नागरिकों ने गाढ़ी कमाई के पैसे लगाकर प्लॉट की रजिस्ट्री कराई तो बाद में प्रशासन ने ले-आउट निरस्त कर दिया।

यह है मामला
वर्ष 2008 में संजय वाजपेयी नाम के व्यक्ति ने स्वागत विहार नाम से एक योजना लांच की। इस योजना को अभिलेखों में सभी प्रक्रिया से पूर्ण बताया गया। 31 लोगों ने स्टेट बैंक आॅफ इंडिया से ऋण लेकर प्लॉट खरीद लिया और उसकी रजिस्ट्री भी करा ली। वर्ष 2013 में रायपुर विकास प्राधिकरण द्वारा कमल विहार प्रोजेक्ट लांच किया गया तो पता चला कि स्वागत विहार योजना में सरकारी प्लाटों को प्राइवेट बताकर बेंच दिया गया है। इसके बाद प्रशासन ने पूरा ले-आउट निरस्त कर दिया। इसके बाद से 31 सौ परिवार के लोग अपना प्लॉट पाने के लिए परेशान हैं।

शिथिल पड़ी है हाई पॉवर कमेटी
परेशान लोगों ने अपना प्लॉट पाने के लिए सरकार पर दबाव बनाया तो मुख्यमंत्री डॉ. रमन सिंह ने प्रकरण के निस्तारण के लिए एक हाई पॉवर कमेटी बना दी। इस कमेटी के चेयरमैन नगर तथा ग्राम निवेश के आयुक्त सिद्धार्थ कोमल सिंह परदेशी है। यह कमेटी पूरी तरह से शिथिल पड़ी है और प्रकरण का निस्तारण नहीं हो पा रहा है।

अजीत जोगी ने तोड़ा नरेन्द्र मोदी का रिकॉर्ड

रायपुर। देश के प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी का गत वर्ष बिहार चुनाव के दौरान सबसे कम समय में सबसे अधिक सभाएं लेने का रिकॉर्ड आखिरकार छत्तीसगढ़ के प्रथम मुख्यमंत्री अजीत जोगी जी ने तोड़ दिया। प्रधानमंत्री रहते हुए मोदी ने 16 दिनों में 40 सभाएं की थी जबकि अजीत जोगी ने महज पिछले 15 दिनों में 18 जिलों के अन्तर्गत 37 विधानसभा क्षेत्रों में 40 सभाएं ली और अपनी अद्वितीय उर्जा का लोहा मनवाया। यही नहीं मोदी जी ने ये रिकॉर्ड प्रधानमंत्री होते हुए बनाया यानि प्रशासनिक अमले की मदद से वहीं जोगी ने स्वयं अपने दौरे की डीटेलिंग कर यह रिकॉर्ड बनाया। अगर सभाओं में उपस्थित भीड़ की बात की जाए तो जोगी की सभाओं में 15 दिनों में 10 लाख से ज्यादा लोगो ने सम्मिलित होकर छत्तीसगढ़ के इतिहास में अपने आप में एक अटूट कीर्तिमान बना दिया है। जोगी की सभाओं में प्रदेश के कोने कोने से भारी संख्या में पहुँच रहे किसान, मजदूर, युवा और महिलाओं की भीड़ ने प्रशासन और शासन को सकते में डाल दिया है। जोगी की सभाओं की रिकॉर्डिंग दोनों राष्ट्रीय दलों के नेता दिल्ली मंगवा कर देख रहे हैं ।